ताज़ा खबर
 

ब्रिक्स देशों को आतंक के खिलाफ एकजुट होने की सलाह देंगे अजीत डोभाल, CCIT पर सहमति बनाने की भी रहेगी कोशिश

नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर अजीत डोभाल ने ब्रिक्स देशों के अपने समकक्षों से आतंकवाद विरोधी सहयोग के लिए साथ आने को कहा है।
Author October 14, 2016 07:36 am
नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर अजीत डोभाल। (फाइल फोटो)

नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर अजीत डोभाल ने ब्रिक्स देशों के अपने समकक्षों से आतंकवाद विरोधी सहयोग के लिए साथ आने को कहा है। यह भी कहा गया कि ब्रिक्स के सभी देशों को आतंकवाद की परिभाषा तय करने के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए। इंडियन एक्सप्रेस को मिली जानकारी के मुताबिक, गोवा में होने वाली ब्रिक्स देशों की मीटिंग में भी इस बात को उठाया जाएगा। साथ ही रविवार को यानी बैठक के आखिरी दिन इससे जुड़ी कोई जरूरी घोषणा भी की जाएगी। मिली जानकारी के मुताबिक, अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद पर व्यापक अभिसमय (CCIT) की नई परिभाषा गढ़ने की भी तैयारी जारी है। इसके लिए भारत के साथ-साथ ब्राजील, रूस, चीन और साउथ अफ्रीका मिलकर काम कर रहे हैं। कुछ सूत्रों ने इंडियन एक्सप्रेस को यह भी बताया कि ब्रिक्स देशों के कुछ सीनियर अधिकारी डोभाल की बात से सहमत भी हैं। डोभाल ने इस बात को ब्रिक्स देशों के NSA की मीटिंग में भी उठाया था। यह बैठक सितंबर में नई दिल्ली में हुई थी। ब्राजील के ऊफा में हुई ब्रिक्स की बैठक के वक्त CCIT को चर्चा के विषयों में शामिल नहीं किया गया था। लेकिन 2014 तक इसपर चर्चा हो रही थी। भारत के लिए पाकिस्तान को दुनिया से अलग-थलग करने का यह सबसे अच्छा तरीका है।

वीडियो: Speed News

क्या है CCIT?
पूरी दुनिया के लिए आतंकवाद की एक जैसी परिभाषा करने के लिए कहा गया है। सभी तरह के आतंकी ग्रुप और आतंकी कैंप को बैन करने की बात कही गई है। सभी आतंकी पर विशेष कानून और मुकदमे लगाने की बात और बॉर्डर पार से होने वाले आतंक को प्रत्यर्पणीय अपराध मानने की वकालत।

Read Also: अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सूसन राइस ने अजीत डोभाल से फोन पर बातचीत की, कहा- पाक से आतंक के खिलाफ कार्रवाई की उम्मीद

CCIT को भारत ने ही तैयार किया था। 1966 में इसका ड्राफ्ट तैयार भी कर लिया गया था। लेकिन किसी ना किसी देश को इसके किसी ना किसी प्वाइंट से असहमति होती है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने यूएन में भी इसको लागू करने के लिए निवेदन किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग