ताज़ा खबर
 

हुर्रियत नेताओं से मिलने को बेकरार है पाक, भारत हुआ सख्त

जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी नेताओं ने आज कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्तर की बातचीत के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के सुरक्षा सलाहकार सरताज अजीज से मुलाकात के लिए बुलाए जाने के फैसले से निराश होने के बावजूद वे दिल्ली जाएंगे।
Author August 21, 2015 17:31 pm

जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी नेताओं ने आज कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्तर की बातचीत के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के सुरक्षा सलाहकार सरताज अजीज से मुलाकात के लिए बुलाए जाने के फैसले से निराश होने के बावजूद वे दिल्ली जाएंगे।

अलगावावादी नेताओं ने कहा कि प्रशासन से मंजूरी मिलने के बाद हम अजीज से मिलने नई दिल्ली जाएंगे। इससे पहले अलगाववादी नेताओं को 23 अगस्त को भारत और पाकिस्तान के बीच एनएसए स्तर की बातचीत से पहले अजीज से मिलना था, लेकिन अब वे सोमवार को बैठक के बाद अजीज से मुलाकात करेंगे।

जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के अध्यक्ष मोहम्मद यासीन मलिक ने मुलाकात का समय बदलने पर पहले ही नाखुशी जताई है और दिल्ली न जाने का फैसला किया है। हालांकि उनकी तरफ से उपाध्यक्ष शौकत अहमद बक्शी तथा महासचिव गुलाम रसूल ईदी नई दिल्ली जाएंगे।

हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टरपंथी और नरमपंथी धड़े के अध्यक्ष क्रमश: सैयद अली शाह गिलानी तथा मीरवाइज मौलवी उमर फारूक, जेकेएलएफ प्रमुख मलिक, डेमोक्रेटिक फ्रीड़ा पार्टी प्रमुख शबीर अहमद शाह तथा नेशनल फ्रंट के अध्यक्ष नईम अहमद खान को दिल्ली में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने एनएसए स्तरीय बैठक से पहले अजीज के साथ बातचीत करने का निमंत्रण भेजा है।

यह स्पष्ट नहीं है कि दुख्तरान-ए-मिल्लत प्रमुख असिया अंदराबी को निमंत्रण भेजा गया है या नहीं। असिया को 14 अगस्त को पाकिस्तान के 69वें स्वंतत्रता दिवस के अवसर पर लाहौर में मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की रैली को संबोधित करने तथा पाकिस्तानी झंडे फहराने के लिए गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम के तहत हिरासत में लिया गया है। हालांकि उन्हें पाकिस्तानी उच्चायुक्त से हमेशा निमंत्रण मिलता रहा है।

एचसी के नरमपंथी धड़े के प्रवक्ता एडवोकेट शाहीदुल इस्लाम ने बताया कि फारूक ने सोमवार को अजीज से मिलने का निर्णय नहीं लिया है। एचसी के कट्टरपंथी धड़े के प्रवक्ता एयाज अकबर ने कहा कि गिलानी अजीज से मिलने के लिए सोमवार सुबह रवाना होंगे। अकबर ने कहा कि संगठन के कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों पर रविवार को चर्चा होने कारण गिलानी ने सोमवार को दिल्ली जाने का निर्णय लिया है।

अकबर ने उम्मीद जताई कि पहले की तरह गिलानी को दिल्ली जाने की अनुमति दी जाएगी। वहीं डीएफपी प्रमुख शाह ने कहा कि उन्हें आज सुबह फिर से नजरबंद कर दिया गया। शाह को करीब एक महीने की नजरबंदी के बाद कल रिहा किया गया था। शाह ने कहा कि अगर मंजूरी मिली तो मैं कल या उसके अगले दिन दिल्ली जाऊंगा।

नईम खान ने भी कहा कि वह अजीज से मिलने कल या रविवार को दिल्ली जाएंगे। सभी अलगाववादी नेताओं को नई दिल्ली जाने से रोकने के लिए कल नजरबंद कर दिया गया या हिरासत में ले लिया गया था। हालांकि कुछ ही घंटे बाद एनएसए स्तरीय बातचीत के बाद अजीज और अलगाववादी नेताओं के मुलाकात करने की घोषणा होने के बाद गिलानी को छोड़कर सभी नेताओं को रिहा कर दिया गया।

गौरतलब है कि गत वर्ष अगस्त में पाकिस्तान के दूत ने दोनों देशों के बीच विदेश सचिव स्तरीय वार्ता की पूर्व संध्या पर कश्मीरी अलगाववादी नेताओं के साथ मुलाकात की थी, जिसके खिलाफ कड़ा विरोध दर्ज कराते हुए भारत ने प्रस्तावित वार्ता रद्द कर दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.