ताज़ा खबर
 

500 और 1000 के नोट बैन पर क्या बोले अन्ना हजारे

भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान चलाने वाले अण्णा हजारे ने पांच सौ और एक हजार रुपए के नोट को अमान्य किए जाने के निर्णय को ‘साहसिक और क्रांतिकारी’ कदम बताते हुए गुरुवार को केंद्र सरकार की प्रशंसा की और कहा कि इससे काले धन पर रोक लगेगी व काला धन, भ्रष्टाचार और आतंकवाद पर लगाम कसेगा।
Author अहमदनगर | November 11, 2016 03:08 am

भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान चलाने वाले अण्णा हजारे ने पांच सौ और एक हजार रुपए के नोट को अमान्य किए जाने के निर्णय को ‘साहसिक और क्रांतिकारी’ कदम बताते हुए गुरुवार को केंद्र सरकार की प्रशंसा की और कहा कि इससे काले धन पर रोक लगेगी व काला धन, भ्रष्टाचार और आतंकवाद पर लगाम कसेगा। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों ने काले धन पर रोक लगाने की कभी भी इच्छाशक्ति नहीं दिखाई। वर्तमान सरकार ने साहसिक कदम उठाया है और इससे लोकतंत्र मजबूत होगा। राजनीतिक दलों के वित्तपोषण में भेदभाव की तरफ इशारा करते हुए वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा कि सरकार के लिए अगला कदम चुनावी प्रक्रिया को साफ-सुथरा करना होना चाहिए। कुछ राज्यों में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले उन्होंने कहा कि सरकार को अब चुनावी प्रक्रिया और राजनीति से काला धन खत्म करने की चुनौती को स्वीकार करना चाहिए।

 
साथ ही चुनाव सुधार भी लाना चाहिए। हजारे ने आरोप लगाया कि लगभग सभी राजनीतिक दल चुनावों के लिए बड़ी मात्रा में नकद धन चंदे के रूप में प्राप्त करते हैं। लेकिन आय कर अधिकारियों और आरटीआइ की नजर से बचने के लिए 20 हजार से कम रुपए का रसीद देते हैं। इसलिए समय आ गया है कि सरकार चुनावी प्रक्रिया में पारदर्शिता सुनिश्चित करे, ताकि इसे और विश्वसनीय बनाया जा सके। बहरहाल उन्होंने चेतावनी दी कि नए नोट शुरू करने से पहले पर्याप्त सुरक्षा अपनाए जाने की जरूरत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Anil Madanlal Dugad
    Nov 11, 2016 at 3:09 am
    dosto acha kam koi bhi kare achahi hota hai yaha to ana bhi sazate hai
    Reply
सबरंग