December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी: ममता बनर्जी के साथ आने से कतरा रहा है लेफ्ट, येचुरी ने दूसरी पार्टियों के रुख पर टाला फैसला

तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ लगाए गए अपनी पार्टी के आरोपों को दोहराते हुए येचुरी ने कहा कि ‘दीदी भाई और मोदी भाई’ में मैच-फिक्सिंग है।

Author नई दिल्ली | November 14, 2016 18:49 pm
माकपा महासचिव सीताराम येचुरी। (पीटीआई फाइल फोटो)

नोटबंदी के केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ हाथ मिलाने के विरोधी दल तृणमूल कांग्रेस के सुझाव पर सधी हुई प्रतिक्रिया देते हुए माकपा ने सोमवार (14 नवंबर) को कहा कि वह पहले संसद में सरकार का रुख देखेगी और फिर विचार करेगी कि इस मुद्दे पर सदन में कौन कहां खड़ा है। माकपा ने तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के खिलाफ मिलीभगत के अपने आरोपों को दोहराते हुए कहा कि सारदा और नारद घोटालों में सीबीआई जांच में बहुत प्रगति नहीं हुई है जिनमें कथित तौर पर पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ पार्टी के कुछ नेता शामिल हैं। माकपा ने कहा कि वह सदन में तृणमूल कांग्रेस का रुख देखना चाहेगी।

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों को चलन से बाहर करने के फैसले में खामियां निकालने की कोशिश की और दावा किया कि भ्रष्टाचार को खत्म करने जैसे मुद्दों पर प्रधानमंत्री के उद्देश्य इन कदमों से पूरे नहीं होंगे। उन्होंने दावा किया कि भाजपा नीत सरकार ने इस कदम को रखते हुए उत्तर प्रदेश चुनावों को दिमाग में रखा और पार्टी नेताओं को फैसले के बारे में पहले से जानकारी थी। उन्होंने इस बाबत मोदी की आठ नवंबर की घोषणा से कुछ घंटे पहले पश्चिम बंगाल भाजपा द्वारा कुछ करोड़ रुपए जमा करने की खबरों का जिक्र किया।

तृणमूल अध्यक्ष ममता बनर्जी के फोन कॉल पर पूछे गए सवालों के जवाब में येचुरी ने कहा, ‘उन्होंने मुझे फोन करके कहा कि लोगों को इस फैसले की वजह से कठिनाई हो रही है, यह गलत है और हमें इसके खिलाफ आवाज उठानी चाहिए। मैंने उनसे कहा कि संसद सत्र नजदीक है, कुछ पार्टियों ने इस मुद्दे पर कार्य स्थगन प्रस्ताव और चर्चा के नोटिस दिए हैं।’ येचुरी ने कहा, ‘हम देखना चाहेंगे कि इस मुद्दे पर सरकार का रुख क्या रहेगा और उसके आधार पर हम भविष्य के कदम तय करेंगे।’ पश्चिम बंगाल चुनावों से पहले तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ लगाए गए अपनी पार्टी के आरोपों को दोहराते हुए उन्होंने कहा कि ‘दीदी भाई और मोदी भाई’ में मैच-फिक्सिंग है। उन्होंने कहा, ‘सारदा, नारदा घोटाले के मामले सीबीआई के सामने लंबित हैं। इसमें कोई प्रगति क्यों नहीं हुई? जो भी हो, सदन में साफ होगा।’ नोटबंदी के फैसले पर प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए माकपा नेता ने कहा कि वह अलग दुनिया में रह रहे हैं, जबकि वास्तविक भारत अलग है। वास्तव में उनके फैसले से आम आदमी खासकर किसान, मछुआरे, ट्रक चालक, दिहाड़ी मजदूर बुरी तरह प्रभावित हुआ है। येचुरी ने कहा कि सोमवार (14 नवंबर) को उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में मोदी के भाषण से साफ है कि उनकी नजर उत्तर प्रदेश चुनावों पर है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 14, 2016 6:49 pm

सबरंग