ताज़ा खबर
 

भूमि हस्तांतरण समझौते से लगेगी घुसपैठ पर रोक: नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि बांग्लादेश से अवैध घुसपैठ रोकने के लिए कदम उठाए जाएंगे और इस समस्या के स्थायी समाधान के लिए बांग्लादेश के साथ भारत जमीन हस्तांतरण समझौता करेगा। मोदी ने गुवाहाटी में भाजपा कार्यकर्ताओं की रैली को संबोधित करते हुए कहा- मैं इस तरह के बंदोबस्त करूंगा, जिसके बाद […]
Author December 1, 2014 10:40 am
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘‘एशियन ऑफ द इयर’’ चुना गया (फोटो : भाषा)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि बांग्लादेश से अवैध घुसपैठ रोकने के लिए कदम उठाए जाएंगे और इस समस्या के स्थायी समाधान के लिए बांग्लादेश के साथ भारत जमीन हस्तांतरण समझौता करेगा।

मोदी ने गुवाहाटी में भाजपा कार्यकर्ताओं की रैली को संबोधित करते हुए कहा- मैं इस तरह के बंदोबस्त करूंगा, जिसके बाद रोज-रोज असम आने वाले और उसे तबाह करने वाले बांग्लादेशियों के लिए सभी रास्तों को बंद कर दिया जाएगा। मेरी बात का भरोसा कीजिए कि असम की इस समस्या के स्थायी समाधान के लिए भूमि हस्तांतरण समझौता किया जाएगा। यह समझौता दोनों देशों के बीच भूमि सीमा सहमति के तहत सीमा के निर्धारण से संबंधित है।
मोदी ने यह आश्वासन ऐसे समय में दिया है जब भाजपा की प्रदेश इकाई और असम गण परिषद ने इस आधार पर समझौते का विरोध किया है कि जमीनों की अदला-बदली में असम को बांग्लादेश के मुकाबले ज्यादा क्षेत्र गंवाना पड़ेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि केवल असम की जनता और सीमा की सुरक्षा के लिए जमीन हस्तांतरण किया जाएगा और राज्य को किसी तरह का नुकसान नहीं होने दिया जाएगा। मैं पूरी जिम्मेदारी के साथ यह बात कह रहा हूं। उन्होंने कहा कि भूमि के आदान-प्रदान से जुड़े समझौते के संबंध में वे राज्य की जनता की भावनाओं को समझते हैं और असम की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं करेंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा- मैं असम की समस्याओं को जानता हूं। मैं आप सभी को आश्वस्त करता हूं कि हम देश और असम के कल्याण को ध्यान में रखते हुए आगे बढ़ेंगे। असम दीर्घकालिक तौर पर लाभान्वित होगा, भले ही ये अल्पकालिक नुकसान के तौर पर दिखाई दे। उन्होंने कहा कि असम में समस्याएं पैदा करने वाले सभी लोगों को सजा देने के लिए कानून अपना काम करेगा। मोदी ने कहा कि भाजपा ने पहली बार विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ा और अन्य दलों को इस मुद्दे पर विचार के लिए मजबूर किया। भाजपा सरकार का केवल एक ध्येय है और वह है विकास। किसी भी दूसरी पार्टी में विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ने का साहस नहीं है। महाराष्ट्र, हरियाणा और अब झारखंड में सभी दल विकास की बात कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि लोगों ने लगभग सभी दलों को सरकार में देख लिया जिसमें परिवारों द्वारा संचालित दल भी हैं और अब केंद्र में भाजपा सरकार को देख रहे हैं। भाजपा जातिवाद, संप्रदायवाद या प्रांतवाद के आधार पर राजनीति नहीं करती है। हम इस रास्ते को नहीं अपनाते। हमने हमेशा राष्ट्रवाद की राजनीति की है। हम ‘सबका साथ, सबका विकास’ में विश्वास रखते हैं। मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में विकास और रोजगार निर्माण को प्राथमिकता दी है ताकि क्षेत्र के आठ प्रदेश तेज रफ्तार से तरक्की कर सकें।

इंफल में उमड़ी भीड़ को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने मणिपुर में सड़क संपर्क और अन्य बुनियादी ढांचे को दुरूस्त करने पर जोर दिया ताकि पर्यटन में इजाफे के साथ साथ विकास भी हो। ‘संगई मणिपुर पर्यटन महोत्सव’ के समापन पर संचार बुनियादी संरचना को विकसित करने की पुरजोर वकालत करते हुए मोदी ने कहा कि राज्य को बेहतर सड़क संपर्क की जरूरत है ताकि यहां और पर्यटक आ सकें। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर के राज्य मंत्रमुग्ध करते हैं और क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए इसके विकास के हरसंभव प्रयास होने चाहिए।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग