ताज़ा खबर
 

देश में एक-तिहाई ड्राइविंग लाइसेंस हैं फर्जी, नितिन गडकरी बोले- बताते हुए बड़ी शर्मिंदगी होती है

मंत्री ने इशारा किया कि सरकार नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए कड़े कदम उठा सकती है।
केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी। (Source: PTI)

देश के एक-तिहाई ड्राइविंग लाइसेंस फर्जी हैं। नितिन गडकरी ने बुधवार को कहा कि देश के सड़क परिवहन मंत्री के तौर पर उन्‍हें यह स्‍वीकार करते बेहद ‘शर्म’ महसूस होती है। सड़क सुरक्षा पर आयोजित एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करते हुए मंत्री ने कहा, ”देश में 30 प्रतिशत लाइसेंस फर्जी हैं। एक मंत्री के तौर पर मेरा ऐसा करना शर्मनाक है।” उन्‍होंने कहा, ”हम इंटेलिजेंट ट्रैफिक सिस्‍टम पर काम कर रहे हैं जिससे हम ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों को रियल टाइम में ट्रैक कर पाएंगे।” गडकरी ने सड़क सुरक्षा में खामी की बात भी स्‍वीकारी और कहा कि हमें ‘ब्‍लैक स्‍पॉट्स पहचानने की जरूरत है। हमें रोड डिजाइन सही करनी है। यह हमारी जिम्‍मेदारी है।’ मंत्री ने इशारा किया कि सरकार नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए कड़े कदम उठा सकती है। उन्‍होंने कहा, ”जुर्माना बढ़ाने से सकरात्‍मक प्रभाव हो सकता है, जिसके बिना लोगों को सड़क सुरक्षा के नियमों का गंभीरता से पालन कराना मुश्किल है।”

गडकरी ने तकनीक के ज्यादा इस्‍तेमाल पर जोर दिया। उन्‍होंने कहा, ”हमें अपने सिस्‍टम को आधुनिक और लेटेस्‍ट तकनीक से कंप्‍यूटराइज करने की जरूरत है। इसे लागू करने का हम पूरा प्रयास कर रहे हैं।” गडकरी के अनुसार, ”लोगों को उनके ट्रैफिक नियम तोड़ने पर खुद ब खुद जानकारी मिल जाएगी और जुर्माना बिना अधिकारियों के दखल के डिजिटल तरीके से चुकाया जा सकेगा।”

मोटर व्‍हीकल एक्‍ट में प्रस्‍तावित संशोधनों पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ”अगर 27 जनवरी को होने वाली बैठक में सब सही होता है तो मुझे प्रस्‍ताव को पहले कैबिनेट, फिर संसद ले जाना होगा। लोकतंत्र में आपको सबको साथ लेना होता है।

देश में लगभग रोजाना चार सौ से अधिक मौतें सड़क दुर्घटना से होती हैं। एक आंकड़े के मुताबिक सड़क हादसों में 2014 में 139671 मौतें हुर्इं और 493474 गंभीर रूप से घायल हुए और 2015 में 146133 मौतें हुर्इं और 5003279 गभीर रूप से घायल हुए।

देश में फर्जी ड्राइविंग लाइसेंसों पर रोक लगाने के लिए गडकरी ने मंत्रालय संभालते ही स्‍थानीय परिवहन कार्यालयों (आरटीओ) को खत्‍म करने का ऐलान किया था। हालांकि देश में अभी भी बड़े पैमाने पर ड्राइविंग लाइसेंस नहीं होने के बावजूद लोग बड़े आराम से गाड़ी चलाते हैं और पकड़े जाने पर घूस देकर या रौब दिखा कर निकल जाते हैं।

रेप के बाद कत्ल की गई लड़की के हॉस्टल पहुंचे विधायक, दोस्त से पूछा- साफ बताइए खून कहां से आ रहा था

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on January 11, 2017 6:23 pm

  1. S
    sach
    Jan 12, 2017 at 3:45 am
    ये अपनी और अपने साथी मंत्रियों की बात कर रहे हैं........जिनकी फर्जी डिग्री है, उनके फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस भी हो तो कौन सा चमत्कार है?
    Reply
  2. N
    Nadeem Ansari
    Jan 11, 2017 at 5:25 pm
    This useless guy doesn't even wear helmet while driving..and giving lecture here...check his pics on scooter without helmet
    Reply
सबरंग