ताज़ा खबर
 

उपराष्ट्रपति चुनाव से एक दिन पहले अभ्यास में भाग लेंगे राजग के सांसद

सोमवार को राज्यसभा में पिछड़ा वर्ग संवैधानिक संशोधन विधेयक पर सरकार की किरकिरी होने और राष्ट्रपति चुनाव में पूरी तैयारी के बावजूद 21 सासदों के वोट रद्द होने से भाजपा और राजद (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधान) के नेता पूरी तरह से सजग हो गए हैं।
Author नई दिल्ली | August 4, 2017 01:47 am
सांसदों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संबोधित करेंगें।

सोमवार को राज्यसभा में पिछड़ा वर्ग संवैधानिक संशोधन विधेयक पर सरकार की किरकिरी होने और राष्ट्रपति चुनाव में पूरी तैयारी के बावजूद 21 सासदों के वोट रद्द होने से भाजपा और राजद (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधान) के नेता पूरी तरह से सजग हो गए हैं। इसी की तैयारी के लिए शुक्रवार को शाम पांच बजे बालयोगी सभागार में राजग के सांसदों की बैठक बुलाई गई है। उसमें उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान से एक दिन पहले राजग सांसद मतदान के अभ्यास में भाग लेंगे। सत्तारूढ़ गठबंधन किसी भी वोट के अमान्य करार होने की आशंका को कम करने के लिए यह कवायद कर रहा है। इसी के साथ-साख खुद प्रधानमंत्री की मौजूदगी से सौ फीसद सांसदों की शनिवार को मतदान में उपस्थिति सुनिश्चित की जाएगी। भाजपा के सूत्रों ने बताया कि राजग सांसदों के साथ अन्नाद्रमुक, टीआरएस और वाईएसआरसीपी के सांसद भी इस अभ्यास में भाग लेंगे। ये तीनों क्षेत्रीय दल एम वेंकैया नायडू की उम्मीदवारी का समर्थन कर रहे हैं।

सांसदों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संबोधित करेंगें। राजग के उपराष्ट्रपति के उम्मीदवार एम वेंकैया नायडू भी सांसदों को संबोधित करके उनसे वोट मांगेंगे। रात के भोजन तक चलने वाले इस आयोजन में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रहने की संभावना है। राष्ट्रपति चुनाव के दौरान, कुल 77 मतों को अमान्य घोषित किया गया था और इनमें से 21 मत विभिन्न दलों के सांसदों के थे। राष्ट्रपति चुनाव में इलेक्टोरल कॉलेज में सांसदों के साथ-साथ विधायक भी मत देते हैं लेकिन उपराष्ट्रपति चुनाव में केवल दोनों सदनों के सांसद ही मतदान में भाग लेते हैं। राजग उम्मीदवार नायडू की चुनाव में जीत तय मानी जा रही है। विपक्ष ने नायडू के खिलाफ गोपालकृष्ण गांधी को अपना उम्मीदवार बनाया है। लोकसभा और राज्यसभा में राजग के पास क्रमश: 337 और 80 सांसद हैं। अन्नाद्रमुक, टीआरएस और वाईएसआरसीपी के पास दोनों सदनों में कुल मिलाकर 50 और 17 सांसद हैं। इलेक्टोरल कॉलेज में 790 सदस्य हैं और 484 सदस्यों के साथ राजनीतिक दलों ने नायडू को समर्थन दिया है।

प्रधानमंत्री और अमित शाह का सारा फोकस इस बात पर रहने वाला है कि एक भी वोट बेकार न जाए और एक भी सांसद वोट देने से न रह जाएं। व्हीप जारी होने के बावजूद संसद से भाजपा सांसदों की गैरहाजिरी के चलते सोमवार को सरकार की राज्यसभा में किरकिरी हो गई थी।  उसके हर प्रयास के बावजूद कांग्रेस बिल में अपना संशोधन पास करवाने में कामयाब हो गई। संख्या बल में विपक्ष राज्यसभा में सत्ता पक्ष पर भारी है लेकिन जिस तरह से भाजपा ने तैयारी की थी, उसके हिसाब से उसके सदस्य संसद में मौजूद नहीं रह पाए। यह तब हुआ जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कई बार सदस्यों को संसद में रहने की हिदायत दे चुके हैं। सोमवार की राज्यसभा में किरकि री के बाद भाजपा अध्यक्ष ने अपने सांसदों की बैठक बुलाकर उन्हें डांट पिलाई। भाजपा की उपराष्ट्रपति चुनाव की तैयारी के चलते भाजपा सांसदों का शुक्रवार के दिन आमतौर से गायब होना संभव नहीं होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग