ताज़ा खबर
 

हेराल्ड प्रकरण: तेज़ी से सुनवाई के लिए स्वामी जायेंगे दिल्ली हाईकोर्ट

उच्चतम न्यायालय ने भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी से कहा कि नेशनल हेराल्ड मामले की तेजी से सुनवाई के लिये वह दिल्ली उच्च न्यायालय से अनुरोध करें। इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी को तीन अन्य के साथ बतौर आरोपी अदालत ने समन किया है। शीर्ष अदालत ने कहा कि वह उच्च […]
Author January 28, 2015 11:57 am
हिन्दू संसद को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान में मुसलमानों की आबादी जिस हिसाब से बढ़ रही है एक दिन हिन्दूस्तान में मुसलमान बहुसंख्यक हो जाएंगे और हिन्दु अल्पसंख्यक हो जाएंगे। (फाइल फ़ोटो)

उच्चतम न्यायालय ने भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी से कहा कि नेशनल हेराल्ड मामले की तेजी से सुनवाई के लिये वह दिल्ली उच्च न्यायालय से अनुरोध करें। इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी को तीन अन्य के साथ बतौर आरोपी अदालत ने समन किया है।

शीर्ष अदालत ने कहा कि वह उच्च न्यायालय में लंबित मामले की सीधे सुनवाई नहीं कर सकता है। उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के इन सभी को समन करने के आदेश पर रोक लगा रखी है।

न्यायमूर्ति वी गोपाल गौड़ा और न्यायमूर्ति आर बानुमती ने कहा कि अनुच्छेद 32 के तहत यह याचिका विचारयोग्य नहीं है। न्यायाधीशों ने कहा, ‘‘आप उच्च न्यायालय में यही दलील दे सकते हैं और इस मामले की सुनवाई करने वाले न्यायाधीश के समक्ष एक अर्जी दायर कर या फिर उच्च न्यायालय में नयी याचिका दायर कर इस ओर ध्यान आकर्षित कर सकते हैं।’’

न्यायाधीशों ने कहा, ‘‘आपको दिल्ली उच्च न्यायालय जाने का पूरा अधिकार है। हम इस तरह की याचिका पर विचार नहीं करेंगे।’’ न्यायालय ने कहा कि स्वामी शीर्ष अदालत में अपील दायर कर सकते हैं यदि उनकी शिकायत पर विचार नहीं होता है।

शीर्ष अदालत ने संक्षिप्त सुनवाई के बाद स्वामी को याचिका वापस लेने और उच्च न्यायालय में लंबित मामले में ही संपर्क करने या फिर अलग से याचिका दायर करने की अनुमति प्रदान कर दी।

स्वामी ने कहा कि उच्च न्यायालय के घटनाक्रम के कारण वह शीर्ष अदालत में आने के लिये बाध्य हुये हैं। उच्च न्यायालय में यह मामला अब 18 मार्च के लिये सूचीबद्ध किया गया है।

उन्होंने विस्तार से इस प्रकरण की पृष्ठभूमि बताते हुये कहा कि 12 जनवरी को उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति वी वी वैश अपने मामलों के रोस्टर में बदलाव के आधार पर इस मामले की सुनवाई से खुद को अलग कर लिया और याचिका उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के समक्ष सूचीबद्ध करने का निर्देश दिया जिन्होंने इसे न्यायमूर्ति सुनील गौड़ के पास भेज दिया है।

स्वामी ने न्यायाधीश के मामले से अलग होने का विरोध करते हुये इसकी सुनवाई उसी न्यायाधीश से कराने का अनुरोध किया था जिन्होंने अभी तक इसकी सुनवाई की थी क्योंकि नये सिरे से सुनवाई होने पर इस मामले में विलंब ही होगा।

उच्च न्यायालय ने उनका अनुरोध ठुकराते हुये मामले को स्थानांतरित कर दिया था। स्वामी का कहना था कि आंशिक सुनवाई वाला मामला होने के बावजूद नये न्यायाधीश ने लंबी तारीख दी जिससे एक तरह से नये सिरे से बहस शुरू होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.