December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

गोवा में पहली बार भावुक नहीं हुए नरेंद्र मोदी, तीन मौके जब भर आईं पीएम की आंखें

पीएम नरेंद्र मोदी रविवार को गाेवा में अपने भाषण के दौरान भावुक हो उठे थे।

संसद में पहले भाषण के दौरान भावुक हो गए पीएम। (EXPRESS ARCHIVE)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को गोवा में भाषण देते वक्‍त भावुक हो गए। देश के लिए किए गए ‘बलिदानों’ की बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ”मैं बड़ी कुर्सी पर बैठने के लिए पैदा नहीं हुआ था। मेरे पास जो भी था, मेरा परिवार, मेरा घर- मैंने सब देश के लिए छोड़ दिया।” देश में 500, 1000 के नाेटों को बंद करने के फैसले पर बोलते हुए पीएम ने देशवासियों से 50 दिन तक तकलीफें उठाने की अपील कीं, और वादा किया कि उसके बाद सबकुछ ठीक हो जाएगा। अपने भाषण में पीएम मोदी ने नोटबंदी के फैसले को जायज ठहराते हुए कहा, ”काले धन और भ्रष्‍टाचार से लड़ाई में नोटबंदी अहम कदम थी। लोगाें ने मुझसे इससे लड़ने के लिए कहा था। पुरानी सरकारों ने इसे नजरअंदाज किया; क्‍या मैंने कुछ छिपाया? हमने इस बुराई को परास्‍त करने में ईमानदार नागरिकों की मदद करने के लिए यह महत्‍चपूर्ण कदम उठाया। आप यह जानकर चौंक जाएंगे कि कई सांसदों ने मुझसे सोने की खरीदारी के लिए PAN जरूरी न करने के लिए कहा था।” पीएम ने यह भी कहा कि वह लोगों की समस्‍याएं समझते हैं। गोवा में उन्‍होंने कहा, ”जो राजनीति करना चाहते हैं, कर सकते हैं। जो इससे प्रभावित हैं, वे रो सकते हैं और शोर मचा सकते हैं लेकिन मेरे ईमानदार देशवासियों, कृपया अगले 50 दिन तक मेरा सपोर्ट कीजिए। जो कदम उठाए गए, वह अहंकार का प्रदर्शन नहीं थे। मैंने भी गरीबी में जिंदगी गुजारी है और लोगों की समस्‍या समझता हूं। कष्‍ट 50 दिनों का है, सफाई के बाद एक मच्‍छर भी नहीं उड़ पाएगा।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंच से बोलते हुए पहली बार भावुक नहीं हुए। तीन भाषणों के दौरान वह जज्‍बातों पर काबू नहीं रख पाए और उनकी आंखें भर आईं।

1) फेसबुक टाउन हाल में

संस्‍थापक मार्क जुकरबर्ग के साथ मेनलो पार्क में अपने फेसबुक टाउनहाल के दौरान, पीएम मोदी अपनी मां के बारे में बताते-बताते भावुक हो गए थे। वह बता रहे थे कि कैसे उनकी मां को घर संभालना पड़ा, जब वह बेहद छोटी उम्र के थे, तभी उनके पिता का निधन हो गया था। मोदी ने इस भाषण में अपनी सफलता का श्रेय अपनी मां के त्‍याग को दिया था।

2) संसद में पहला भाषण

प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद पहली बार संसद में बोलते हुए नरेंद्रमोदी की आंखें भर आई थीं। उन्‍होंने सभी परेशानियों के बावजूद भाजपा में अपना समर्थन करने वालों को धन्‍यवाद दिया। उन्‍होंने कहा था कि जो लोग ढेरों आकांक्षाओं और सपनों के साथ उनके पास आए हैं, यह उनकी जिम्‍मेदारी है कि वह उन्‍हें पूरा करे। उन्‍होंने कहा कि किसी को यह नहीं कहना चाहिए कि भाजपा भाग्‍यशाली है क्‍योंकि उसके पास मोदी है। ऐसा कहते हुए उन्‍होंने सामने मौजूद लोगों के सामने सिर झुका लिया। फिर उन्‍होंने पानी पिया और खुद को शांत किया।

3) एचएच प्रमुख स्‍वामी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए

स्‍वामीनारायण संप्रदाय के धार्मिक प्रमुख, प्रमुख स्‍वामी को श्रद्धां‍जलि अर्पित करते हुए नरेंद्र मोदी भावुक हो उठे थे। उन्‍होंने स्‍वामी को पिता तुल्‍य बताया था। प्रमुख स्‍वामी के साथ अपना गहरा जुड़ाव व्‍यक्‍त करते हुए पीएम मोदी ने उन्‍हें दो बार ‘पिता’ कहकर संबोधित किया। स्‍वामी का 13 अगस्‍त को सारंगपुर में महापरिनिर्वाण हो गया था।

उत्‍तर प्रदेश: बीजेपी की ‘परिवर्तन यात्रा’ में बार बालाओं ने लगाए ठुमके, देखें वीडियो:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 13, 2016 5:11 pm

सबरंग