ताज़ा खबर
 

दिवंगत अनिल दवे के बंगले में रहेंगे मंत्री रामदास अठावले, एक साल इंतजार के बाद मिल सका दिल्ली में स्थाई ठिकाना

रामदास अठावले एक साल से महाराष्ट्र सदन में रह रहे थे। दिल्ली के लुटियंस जोन में बंगलों का आवंटन केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय करता है।
Author July 5, 2017 09:19 am
केंद्रीय मंत्री और दलित नेता रामदास अठावले। (FILE Photo)

दिल्ली के लुटियंस जोन स्थित सरकारी बंगलों की कतार में इंतजार को देखकर लगता है कि ये केंद्र सरकार में मंत्री बनने से भी ज्यादा मुश्किल है। आपको यकीन न हो तो केंद्रीय मंत्री और दलित नेता रामदास अठावले से पूछिए। नरेंद्र मोदी सरकार में सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण मंत्री अठावले को एक साल के इंतजार के बाद लुटियंस जोन में बंगला मिल पाया। अठावले एक साल से महाराष्ट्र सदन में रह रहे थे। अठावले को जो बंगला मिला है वो नरेंद्र मोदी कैबिनेट के पर्यावरण मंत्री अनिल दवे का निधन के बाद खाली हुआ था।

दिल्ली के लुटियंस जोन में बंगलों का आवंटन केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय करता है। वरिष्ठ बीजेपी नेता वेंकैया नायडू शहरी विकास मंत्री हैं। 57 वर्षीय अठावले रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) के प्रमुख और राज्य सभा सांसद हैं। दिल्ली का लुटियंग जोन देश का सबसे महंगा इलाका होने के साथ ही वेरी वीआईपी होने का भी प्रतीक बन चुका है। देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्य न्यायाधीश समेत तमाम प्रमुख हस्तियों के सरकारी निवास इसी इलाके में हैं।

लुटियंग जोन में ज्यादातर बंगले सरकारी हैं लेकिन यहां उपलब्ध कुछ प्राइवेट बंगलों की कीमतों कई सौ करोड़ तक है। हाल ही में डीएलएफ ग्रुप के चेयरमैन केपी सिंह की बेटी ने 435 करोड़ में लुटियंग जोन में एक बंगला खरीदा। उससे पहले पेटीएम के सीईओ विजय शेखर शर्मा ने भी लुटियंस जोन में एक बंगला 82 करोड़ में खरीदा। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया कि शर्मा को जमीन-जायदाद की गिरी कीमतों की वजह से बंगला सस्ते में मिल गया।

लुटियंस में बंगला मिल जाने से भी कई वेरी वीआईपी की समस्याएं खत्म नहीं होतीं। मसलन, केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा को ही ले लें। दिल्ली से सटे नोयडा से सांसद और डॉक्टर महेश शर्मा को मंत्री बनने के साथ ही बंगला मिल गया था लेकिन मोदी सरकार के तीन साल में शर्मा को दो बार बंगला बदलना पड़ा है।

बीजेपी, कांग्रेस समेत ज्यादातर राष्ट्रीय पार्टियों के राष्ट्रीय मुख्यालय भी लुटियंस जोन में ही हैं। बीजेपी कार्यालय 11 अशोक रोड और कांग्रेस मुख्लाय 24 अकबर रोड राजनीतिक प्रतीक बन चुके हैं। वहीं सोनिया गांधी का 10 जनपथ गांधी परिवार का प्रतीक बन चुका है। पीएम मोदी लुटियंस जोन में 7 लोक कल्याण मार्ग पर रहते हैं। जब अंग्रेजों ने कोलकाता की जगह दिल्ली को अपनी राजधानी बनाई तो ब्रिटिश सरकार के प्रमुख लोगों के लिए लुटियंस जोन का डिजाइन ब्रिटिश वास्तुकार एडविन लुटियंस ने किया था।

वीडियो- इजराइल के प्रधानमंत्री ने हिन्दी में किया पीएम मोदी का स्वागत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग