ताज़ा खबर
 

भाजपा सांसद ने कहा- नगरोटा में आतंकियो ने नहीं, पाकिस्तानी सेना और आईएसआई ने किया हमला

जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में आतंकी पुलिस की वर्दी पहनकर सेना की एक यूनिट में घुस गए थे और वहां पर हमला कर दिया था।
Author November 30, 2016 14:27 pm
जम्मू के नागरोटा इलाके में तैनात जवान।(Source:PTI)

भारतीय जनता पार्टी के सांसद आरके सिंह ने बुधवार को कहा कि मंगलवार को कश्मीर के नगरोटा में हुए हमला आतंकियों ने नहीं, बल्कि पाकिस्तानी सेना और आईएसआई ने किया है। पूर्व गृह सचिव सिंह ने मंगलवार को कहा था कि नगरोटा हमला पाकिस्तान के नए नियुक्त किए गए आर्मी चीफ का भारत को संदेश है। उन्होंने कहा था, ‘हमें इस तथ्य पर गौर करना होगा कि यह पाकिस्तानी के नए आर्मी चीफ ने भारत को अपना मैसेज भेजा है। उसकी रणनीति भी पिछले पाकिस्तानी सेनाध्यक्षों की तरह ही रहेगी। हमें जवाबी संदेश भेजना चाहिए। भारत के ऊपर जब भी निशाना साधा जाएगा। यह उसका कड़ा जवाब देगा।’

सिंह का यह बयान मंगलवार को नगरोटा में हुए आतंकी हमले के बाद आया था।  जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में आतंकी पुलिस की वर्दी पहनकर सेना की एक यूनिट में घुस गए थे और वहां पर हमला कर दिया था। इस हमले में भारतीय सेना के सात जवान शहीद हो गए थे।

बता दें, मंगलवार को जम्‍मू कश्‍मीर में दो जगहों पर आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमला किया था। पहले नगरोटा में सेना की टुकड़ी पर फिदायीन हमला किया गया। आतंकियों ने ग्रेनेड फेंका और यूनिट के अंदर घुसने का प्रयास किया। इन हमलों में सेना के सात जवान शहीद हो गए। नगरोटा जम्‍मू से 20 किलोमीटर दूर है और हाइवे पर बसा हुआ है। यहां पर 16 कॉर्प्‍स का हैडक्‍वार्टर भी है।

खुफिया एजेंसियां पहले ही लश्कर-ए-तयैबा की एक टुकड़ी जो कि घाटी में छिपकर काम कर रही थी उस पर नजर रख रही थी। यह टुकड़ी16 कॉर्प्‍स के हेडक्‍वार्टर पर अटैक करने की प्लानिंग कर रही थी। इंडियन एक्सप्रेस को यह जानकारी एक सूत्र से मिली है। उसने बताया कि लश्कर ए तैयबा की टुकड़ी मंगलवार (29 नवंबर) को हुए हमले जिसमें 7 जवान शहीद हो गए उससे लगभग 2 हफ्ते पहले हमला करने की सोच रही थी। लगभग दस दिन पहले खुफिया एजेंसियों ने आगाह कर दिया था कि ऐसा कोई हमला हो सकता है।

हालांकि, हमला घाटी से ऑपरेट होने वाले उस आतंकी सेल ने नहीं किया लेकिन फिर भी मंगलवार को हुए हमले ने कई सवाल पैदा कर दिए हैं। वे सवाल ये हैं कि पहले से जानकारी मिलने के बावजूद आतंकियों को रोकने के लिए क्या अतरिक्त सुरक्षा इंतजाम किए गए और अगर किए गए तो वे लोग नगरोटा कैंप में हमला करने में कामयाब कैसे हो गए।

वीडियो में देखें- खुफिया एजेंसियों ने 10 दिन पहले दी थी नगरोटा हमले की चेतावनी; कैम्पस की खराब सुरक्षा पर भी उठे सवाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    ramji
    Nov 30, 2016 at 3:12 pm
    इस तरह के हे रोकने का सब से करगर तरीका है बॉर्डर पर आरएसएस को तैनात कर दिया जाये आरएसएस से बड़ा देशभक्त और कोई हो ही नहीं सकता I
    Reply
  2. K
    Kaushalendra Sin
    Dec 1, 2016 at 6:30 am
    Yes,agree with views of ex home secretary, BJP MP R K SINGH.just after joining of new army chief in stan, they attacked in narkota our army camp fact pak army pak isi pak terrorists combination may be behind such attack. They make link in j&k with anti nationals and operate. for tat will be best policy for India with frequent lessons to pak enemy.
    Reply
सबरंग