ताज़ा खबर
 

‘मुस्लिमों को एक से अधिक शादी और यथासंभव बच्चे पैदा करना चाहिए’

एक अलगाववादी नेता ने जम्मू कश्मीर के मुस्लिम बहुसंख्यक चरित्र को कायम रखने के लिए मुसलमानों से एक से अधिक शादियां करने और यथासंभव बच्चे पैदा करने का आह्वान किया है। हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे मोहम्मद कासिम ने शनिवार को अपनी पार्टी मुस्लिम दीनिमहाज द्वारा जारी एक बयान में कहा, […]
Author February 9, 2015 11:01 am

एक अलगाववादी नेता ने जम्मू कश्मीर के मुस्लिम बहुसंख्यक चरित्र को कायम रखने के लिए मुसलमानों से एक से अधिक शादियां करने और यथासंभव बच्चे पैदा करने का आह्वान किया है।

हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे मोहम्मद कासिम ने शनिवार को अपनी पार्टी मुस्लिम दीनिमहाज द्वारा जारी एक बयान में कहा, ‘‘हम संपन्न मुसलमानों से एक से अधिक शादियां करने और यथासंभव बच्चे पैदा करने की अपील करते हैं।’’

दुख्तरान-ए-मिल्लत की प्रमुख आसिया अंद्र्राबी के पति कासिम ने कहा, ‘‘जम्मू कश्मीर में शरणार्थियों को बसाया जाना इस राज्य के मुस्लिम बहुल दर्जे को बदलने की चाल है।’’ उन्होंने कहा कि कश्मीरी मुसलमान अपने विनाश में खुद ही भूमिका निभा रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘लड़कियों देर से ब्याही जा रही हैं जिसका मतलब कम बच्चे पैदा करने की क्षमता है। देर से शादी करने के पीछे जो बहाना दिया जाता है वह यह है कि युवतियां (दुल्हनें) आर्थिक रूप से स्थिर (स्वावलंबी) होनी चाहिए।’’

कासिम ने कहा, ‘‘फिर शादी के बाद, जन्म नियंत्रण नारे जैसे ‘हम दो हमारे दो’ और ‘पहला अभी नहीं, दूसरा कभी नहीं’ लगातार इन दंपतियों पर थोपे जा रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि आर्थिक समस्या के डर से कम बच्चे पैदा करना कुछ नहीं बल्कि अज्ञानता है।

उन्होंने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि देश में 80 फीसदी हिंदू जनसंख्या होने के बाद भी हिंदू नेता महिलाओं से पांच बच्चों को जन्म देने का आह्वान कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Amir Mobin
    Feb 9, 2015 at 4:19 pm
    Bachcho aur biwi ko palega inka baap
    (0)(0)
    Reply
    1. K
      kamal khan
      Feb 9, 2015 at 11:38 am
      खरगोशों की तरह बच्चे पैदा करने वाले लोग.
      (0)(0)
      Reply
      1. V
        Vilas Walanj
        Feb 9, 2015 at 12:14 pm
        sabase pahle MEDIA khud samazna chahiye kis bayanka NEWS banaye. MEDIA apani jimmedari ka khyal rakhte NEWS banaye ! dukh ki bat hai ke kisi ke bhi bayano ki NEWS banakar desh ke akhndta se ye khilwad to nahi ho raha ?
        (0)(0)
        Reply
        सबरंग