December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

इन शहरों में काम करवाने के लिए सरकारी बाबुओं को देनी पड़ती है सबसे ज्‍यादा घूस

सिर्फ 2015 में ही, मुंबईकरों ने घूसखोरी के 262 वाकये रिपोर्ट किए हैं।

चित्र का इस्‍तेमाल केवल प्रस्‍तुतिकरण के लिए किया गया है।

क्‍या आपको पता है कि देश के किस शहर में सबसे ज्‍यादा घूस दी जाती है? IPaidABribe.com के अनुसार, 2010 से 2015 के बीच रिश्‍वत लेने के मामले में दिल्‍ली के सरकारी कर्मचारी सबसे आगे हैं। बेंगलुरु के जनाग्रह द्वारा शुरू किए गए इस पोर्टल पर रिश्‍वत देने वाले लोग शिकायत करते हैं। यह पोर्टल आम आदमी से देश में उन भ्रष्‍टाचार और घूसखोरी पर रिपोर्ट जुटाता है, जिनकी जानकारी सरकार के एंटी करप्‍शन विभाग को नहीं पहुंचती। भुक्‍तभोगियों द्वारा विस्‍तार से बताए गए घूसखोरी के किस्‍से पासपोर्ट के लिए पुलिस वेरिफिकेशन से लेकर जमीन रजिस्‍टर कराने के लिए दी जाने वाली घूस तक जाते हैं। वेबसाइट द्वारा जारी की गई लिस्‍ट मुताबिक, बेंगलुरु में रिश्‍वत मांगे जाने के सबसे ज्‍यादा 8390 मामले सामने आए। इसके बाद नई दिल्‍ली का नंबर है, जहां 3238 मामलों में 16,504 लाख रुपए की रिश्‍वत मांगी गई। इसके बाद हैदराबाद, मुंबई, चेन्‍नई, पुणे, अहमदाबाद आदि का नंबर है।

एटीएम कार्ड फ्रॉड से बचने के लिए जरूर जानें ये उपाय: 

मुंबई में रिश्‍वत लेने वाले टॉप-5 विभागों में पुलिस (706), कस्‍टम्‍स, एक्‍साइज और सर्विस टैक्‍स (308), ट्रांसपोर्ट (165), स्‍टैंप और रजिस्‍ट्रेशन (119) और म्‍यूनिसिपल सेवाओं (110) शामिल हैं। वेबसाइट के डाटा के मुताबिक, मुंबई के कस्‍टम्‍स, एक्‍साइज और सर्विस टैक्‍स डिपार्टमेंट ने 2.41 करोड़ रुपए की रिश्‍वत ली है, इसके बाद स्‍टैंप और रजिस्‍ट्रेशन का नंबर आता है, जिसमें 1.25 करोड़ रुपए रिश्‍वत दी गई। सिर्फ 2015 में ही, मुंबईकरों ने घूसखोरी के 262 वाकये रिपोर्ट किए हैं। वेबसाइट के अनुसार, अगस्‍त 2010 से सितंबर 2016 के बीच देश के 1071 शहरों से घूसखोरी के 1.05 लाख से ज्‍यादा मामले रिपोर्ट किए गए हैं। इनमें दी गई घूस की रकम 2,800 करोड़ से भी ज्‍यादा है।

READ ALSO: अमेरिका को किनारे कर चीन से 8 पनडुब्बियां खरीदेगा पाकिस्‍तान, ड्रैगन से कर्ज लेकर उसी को करेगा भुगतान

व्‍हाइट कॉलर अपराधों पर अर्नेस्‍ट एंड यंग Fraud Investigation & Dispute Services ने गुरुवार को कहा कि भारत में कारोबार में रिश्‍वत और भ्रष्‍ट तरीके बेहद आम हैं। भारत उन टॉप 29 बाजारों में 17वें स्‍थान पर हैं जो रिश्‍वतखोरी और भ्रष्‍टाचार को चुनौती मानते हैं।

Statistics Source: (IPaidABribe) Statistics Source: (IPaidABribe)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 22, 2016 8:59 am

सबरंग