ताज़ा खबर
 

5 महीने बाद वित्त राज्यमंत्री अर्जुन सिंह मेघवाल को मिल ही गया ‘घर’, 9 मंत्री अभी भी कर रहे हैं इंतजार

कैबिनेट में फेरबदल के बाद कई मंत्रियों को हटा दिया गया था। इसके बाद उनसे बंगला खाली करने के लिए कहा गया था, जो उन्होंने अब तक नहीं किया है।
वित्त राज्यमंत्री अर्जुन सिंह मेघवाल

जुलाई में मोदी कैबिनेट में हुए फेरबदल के बाद करीब 10 नए मंत्री टाइप 8 के लुटियंस बंगले मिलने का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन जिस नए मंत्री को सबसे पहले बंगला मिला है वह हैं वित्त राज्यमंत्री अर्जुन सिंह मेघवाल। वहीं अन्य नौ मंत्रियों को अभी भी बंगले मिलने का इंतजार है। बता दें कि मेघवाल को अपने आधिकारिक आवास का पजेशन मिल गया है। शहरी विकास मंत्रालय ने 5-A कामराज मार्ग का बंगला पूर्व ओबीसी कमिशन के चेयरमैन जस्टिस वी ईश्वर्या के खाली करने के बाद मंत्री को सौंप दिया।

बता दें कि कैबिनेट में फेरबदल के बाद कई मंत्रियों को हटा दिया गया था। इसके बाद उनसे बंगला खाली करने के लिए कहा गया था, जो उन्होंने अब तक नहीं किया है। जिन मंत्रियों ने अब तक बंगला खाली नहीं किया है उनमें-जीएम सिद्धेश्वर, रावसाहब दानवे, मोहनभाई कुंदरिया, सांवर लाल जाट और निहाल सिंह शामिल हैं। 18 मंत्रियों में से 8 ने सरकार को सूचना दी है कि उन्हें अपग्रेडेड बंगला नहीं चाहिए। जस्टिस ईश्वर्या का कार्यकाल भी सितंबर में खत्म हो गया था और उन्हें अक्टूबर में बंगला खाली करने को कहा गया था, जो उन्हें अब खाली कर दिया है।

वहीं महाराष्ट्र के धुले से पहली बार सांसद बने रक्षा राज्यमंत्री सुभाष राव भामरे को भी अपग्रेडेड बंगले का इंतजार है। उन्हें जो बंगला अलॉट किया गया था वह फिलहाल पूर्व उड्डयन राज्यमंत्री जीएम सिद्धेश्वर के पास है। सिद्धेश्वर कहते हैं कि मैं चार बार सांसद और पूर्व राज्यमंत्री रहा हूं। जैसे ही मुझे दूसरा घर मिल जाएगा, मैं इसे खाली कर दूंगा। बंगला खाली न करने वाले अन्य नेता भी कुछ इसी तरह की बात कह रहे हैं। पूर्व कृषि राज्यमंत्री मोहनभाई कुंदरिया उन्हीं में से एक हैं।

आपको बता दें कि टाइप 7 और टाइप 8 के बंगलों की टॉप कैटिगरी में कुल 625 बंगले हैं, लेकिन सिर्फ 305 ही जनरल पूल में उपलब्ध हैं। बंगलों की इतनी जबरदस्त किल्लत है कि केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने अपग्रेडेड बंगला लेने से इनकार कर दिया है। एक शहरी विकास मंत्रालय के अफसर ने यह जानकारी दी है।

इसके अलावा कांग्रेस के भी कई एेसे मंत्री हैं जो कार्यकाल खत्म होने के बाद भी बंगले खाली नहीं कर रहे हैं। बूटा सिंह तीन मूर्ति मार्ग के 11-ए बंगले में रह रहे हैं। यह घर रामदास अठावले, जो मोदी सरकार में राज्यमंत्री हैं को अलॉट हुआ था। बूटा सिंह के बेटे अरविंदर सिंह लवली कहते हैं कि मैं वहां नहीं रहता, मेरे पिता रहते हैं। मामला फिलहाल कोर्ट में है।

क्या नोटबंदी के 50 दिन बाद होगा कोई चमत्कार?, देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.