ताज़ा खबर
 

भ्रष्टाचार और नैतिकता के स्कूल-कॉलेजों के पाठ्यक्रम में किया जा सकता है शामिल: CVC

आयोग भ्रष्टाचार और इसके नतीजोंं को लेकर छात्रों को जागरुक करने के लिए पाठ्यसामग्री तैयार करने के लिहाज से मानव संसाधन विकास मंत्रालय, सीबीएसई, एआईसीटीई, भारतीय चिकित्सा परिषद :एमसीआई: और अन्य शिक्षण संस्थाओं के साथ संपर्क में है।
Author हैदराबाद | July 8, 2016 22:10 pm
(FILE PHOTO)

स्कूलों और कॉलेजों में विद्यार्थियों को जल्द ही भ्रष्टाचार की समस्या, सामाजिक-आर्थिक परिवेश पर इसके नकारात्मक प्रभाव और इससे निपटने के तरीकों पर पाठ पढ़ाना शुरू किया जा सकता है। केंद्रीय सतर्कता आयोग :सीवीसी: के प्रमुख ने आज कहा कि आयोग भ्रष्टाचार और इसके नतीजोंं को लेकर छात्रों को जागरुक करने के लिए पाठ्यसामग्री तैयार करने के लिहाज से मानव संसाधन विकास मंत्रालय, सीबीएसई, एआईसीटीई, भारतीय चिकित्सा परिषद :एमसीआई: और अन्य शिक्षण संस्थाओं के साथ संपर्क में है।

केंद्रीय सतर्कता आयुक्त के वी चौधरी ने कहा, ‘‘आयोग की तरफ से हम मानव संसाधन विकास विभाग, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और एआईसीटीई तथा एमसीआई के साथ सामान्य पाठ्यसामग्री तैयार करने के लिहाज से संपर्क में हैं ताकि स्कूलों से लेकर कॉलेजों तक के छात्र समझ सकें कि भ्रष्टाचार क्या होता है, रिश्वत क्या होती है और ईमानदारी क्या होती है।’’

चौधरी सतर्कता पर जागरच्च्कता लाने और सतर्कता पेशेवरों का ज्ञान और कौशल बढ़Þाने के उद्देश्य से यहां स्थापित व्यावसायिक संस्था ‘विजिलेंस स्टडी सर्किल’ के 13 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में एक व्याख्यान दे रहे थे। उन्होंने कहा कि माध्यमिक विद्यालयों और व्यावसायिक पाठ्यक्रम पढ़ाने वाले कॉलेजों में छात्रों के लिए नैतिकता पर छोटे-छोटे हिस्सों में पाठ पढ़ाये जा सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग