ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार बनाएगी नया कानून- नहीं रख सकेंगे 500, 1000 के 10 से ज्‍यादा नोट, मिले तो देना होगा जुर्माना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर को किया था।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। PTI Photo by Shahbaz Khan

केंद्र सरकार ऐसा कानून लाने की सोच रही है जिसके तहत प्रतिबंधित नोट (500, 1000 रुपए) रखने पर सजा का प्रावधान होगा। इसके तहत पुराने नोटों में 10,000 रुपए से ज्‍यादा रकम रखने, ट्रांसफर करने या पाने पर सजा दी जाएगी। एक व्‍यक्ति 500 और 1000 रुपए के अधिकतम 10 नोट अपने पास रख सकेगा। एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि इस संबंध में एक अध्‍यादेश 30 दिसंबर से पहले लाया जा सकता है। हालांकि अभी सजा फाइनल नहीं की गई है, मगर कम से कम 50,000 रुपए या मिली रकम का पांच गुना बतौर जुर्माना लिया जा सकता है। पेनाल्‍टी से जुड़े मामलों पर निर्णय म्‍यूनिसिपल मजिस्‍ट्रेट स्‍तर का अध्‍ािकारी करेगा। इस अध्‍यादेश में रिजर्व बैंक के सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्‍टर्स की सिफारिशें भी शामिल होंगी। 30 दिसंबर के बाद प्रतिबंधित नोट सिर्फ रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया में ही जमा कराए जा सकेंगे। इसके लिए एक ग्रेस पीरियड का ऐलान बाद में किया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर को किया था। इसके साथ ही बैंक में पुराने नोट जमा कराने के लिए 30 दिसंबर तक का समय दिया गया था। साथ ही पुराने नोट बदलने, बैंक-एटीएम से पैसे निकालने के लिए सीमा तय की गई थी। लेकिन सरकार ने इस दौरान अपने नियमों में काफी बार बदलाव किया है। सरकार ने बैंकों-एटीएम से पैसे निकालने की सीमा कई बार बदली है।

बैंकों में भारी मात्रा में पुराने नोट जमा दिए गए। लेकिन सर्कुलेशन में मौजूद रहे प्रतिबंधित नोट का आंकड़ा अभी आना बाकी है। 13 दिसंबर को रिजर्व बैंक ने कहा कि पीएम के ऐलान के समय 15.44 लाख करोड़ रुपए मूल्‍य के 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट चलन में थे, उनका 80 फीसदी यानी 12.44 लाख कराेड़ रुपए जमा किए जा चुके हैं। अर्थशास्त्रियों का कहना है कि 30 दिसंबर तक की समयसीमा तक पुराने नोटों में कुल जमा 13 से 13.5 लाख करेड़ रुपए हो सकता है।

नोटबंदी के ऐलान के बाद से ही देशभर में आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय की टीमें छापेमारी कर रही हैं। बैंक खाते में ढ़ाई लाख रुपए से ज्‍यादा की रकम जमा कराने पर भी आयकर विभाग की नजर है।

कानपुर रैली में पीएम मोदी ने पूछा- ‘संसद क्यों नहीं चलने दी?’; कहा- “यूपी में है गुंडाराज”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Abu talib
    Dec 27, 2016 at 2:40 am
    फिर तो हर ग्याहरवें नोट पर यह घोषणा मुद्रित हो, ' मैं धारक को छह माह कारावास और पचास हज़ार जुर्माने की खुशखबरी देता हूँ '
    (0)(1)
    Reply
    1. A
      Abu talib
      Dec 26, 2016 at 3:36 pm
      विवेकहीन लोग हैं ! भोलेभाले लोगों की भावनाओं को भड़काकर वोट लेकर आ गए ! पता है नहीं बेर की पिछाड़ी किधर होती है ! भारत के लोग नशील हैं, ढाई साल झेल चुके ढाई साल के बाद बड़े प्यार से इन्हें घर छोड़ कर आएंगे
      (0)(2)
      Reply
      1. B
        bitterhoney
        Dec 26, 2016 at 3:07 pm
        मोदी के दिन लदने वाले हैं. जिस दिन मोदी सत्ता से उतरे उसी दिन जनता पूरा हिसाब मय बियाज का चुका लेगी. इसी आशंका से मोदी सत्ता किसी कीमत पर छोड़ना नहीं चाहते.
        (0)(2)
        Reply
        1. P
          Pritem Patel
          Dec 27, 2016 at 5:30 pm
          कोई बात नहीं ! पुरे देश आरही साल में आपके सरकार के फर्बान जान चूका है ! आप सिर्फ अपने सरकार के पार्टियों को ऊपर फर्बान जारी करके देश को देखा दिजीये !
          (0)(0)
          Reply
          1. R
            rambharosr
            Dec 26, 2016 at 11:52 pm
            क्या ज़माना आ गया है .अब घर मैं रद्दी कागज़ रखने पर भी जुरमाना भरो ..८ नवम्बर के बाद तो यह सब नोट रद्दी पेपर बन गए हैं .......अंधेर नगरी चौपट राजा
            (0)(1)
            Reply
            1. Load More Comments