ताज़ा खबर
 

मोदी ने मंत्रियों से मांगे अपने विभागों के रिपोर्ट कार्ड

उत्तर प्रदेश चुनाव के मद्देनजर केंद्रीय मंत्रियों के कामकाज की समीक्षा बैठक बुलाने की तैयारी की जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कैबिनेट के सहयोगियों से कामकाज का ब्योरा तैयार करने को कहा है।
Author नई दिल्ली | November 4, 2016 03:46 am

दीपक रस्तोगी

उत्तर प्रदेश चुनाव के मद्देनजर केंद्रीय मंत्रियों के कामकाज की समीक्षा बैठक बुलाने की तैयारी की जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कैबिनेट के सहयोगियों से कामकाज का ब्योरा तैयार करने को कहा है। कैबिनेट में जगह पाने वाले उत्तर प्रदेश के सांसद और प्रमुख मंत्रालयों का रिपोर्ट कार्ड तैयार करने में अफसर जुटे हैं। मंत्रालय अपना ब्योरा एक बुकलेट की शक्ल में तैयार करेंगे, जिन्हें बाद में लोगों के लिए जारी किया जाएगा। नवंबर के आखिर में या दिसंबर के पहले हफ्ते में केंद्रीय कैबिनेट के सहयोगियों के कामकाज की समीक्षा के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय बैठक बुला सकता है। प्रधानमंत्री कार्यालय के निर्देश पर ऊर्जा, कोयला, शहरी विकास, भूतल परिवहन, रेलवे, आइटी, वाणिज्य एवं उद्योग, भारी उद्योग जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े मंत्रालयों में ज्यादा सक्रियता है। ‘हेवी इंडस्ट्री- पब्लिक इंटरप्राइजेज’ मंत्रालय के प्रभारी राज्य मंत्री बाबुल सुप्रीयो के अनुसार, ‘प्रधानमंत्री निजी तौर पर हर मंत्रालय के कामकाज का जायजा लेते रहते हैं। हर छह महीने में समीक्षा बैठक की योजना निर्धारित की गई थी। अगली बैठक का समय नजदीक आ गया है। उत्तर प्रदेश के चुनाव सामने हैं, इसलिए केंद्रीय योजनाओं को लेकर पार्टी- संगठन में चौकसी कुछ ज्यादा है।’ गोरखपुर में एम्स निर्माण, मेरठ और बुलंदशहर एक्सप्रेस-वे, राष्ट्रीय राजमार्ग की अन्य योजनाएं, गंगा सफाई और नदी जलपथ परिवहन की महत्त्वाकांक्षी योजनाएं उत्तर प्रदेश के लिहाज से भाजपा के एजंडे में शीर्ष पर हैं।


इस समीक्षा बैठक के आधार पर भारतीय जनता पार्टी की प्रचार मशीनरी विकास कार्यों के ब्योरे को अपने चुनाव प्रचार के एजंडे में शामिल करेगी। उत्तर प्रदेश कोटे के केंद्रीय मंत्रियों की संख्या सबसे ज्यादा- नौ है। हालांकि, उनमें से चंदौली से चुने गए महेंद्र पांडेय, शाहजहांपुर की कृष्णा राज, मिर्जापुर से अनुप्रिया पटेल आदि पहली बार सांसद ही बने हैं। फिर भी, बतौर मंत्री उनके क्षेत्रों में किए गए कामकाज को भाजपा अपने चुनाव प्रचार अभियान का हिस्सा बनाने की तैयारी में है। केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा के पास प्रधानमंत्री के चुनाव क्षेत्र वाराणसी का प्रभार भी है। यूपी कोटे के मंत्रियों और सांसदों को पहले से ही चुनाव क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा समय व्यतीत करने को कह दिया गया है।
प्रधानमंत्री कार्यालय ने अगस्त में इसी तर्ज पर सांसदों की रिपोर्ट कार्ड मंगाई थी और प्रधानमंत्री ने समीक्षा बैठक की थी। उसके बाद ही भारतीय जनता पार्टी ने देश भर में तिरंगा यात्राएं निकाल कर लोगों को विकास कार्योंं और उनमें हुई प्रगति के बारे में जानकारी दी थी। अभी हाल उत्तर प्रदेश भाजपा के नेताओं के साथ पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने बैठक की। उसके बाद ही चुनाव प्रचार में मंत्रियों के विभागों की विकास योजनाओं को शामिल करने पर मंथन शुरू किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग