ताज़ा खबर
 

मुसलमान होने के कारण पहले जॉब और अब घर देने से इंकार!

एक बिल्डर ने 25 वर्षीय एक महिला पेशेवर को फ्लैट देने से कथित तौर पर इसलिए मना कर दिया क्योंकि वह अल्पसंख्यक समुदाय की हैं। कुछ दिनों पहले हीरा निर्यात कंपनी द्वारा इसी आधार पर एक...
Author May 27, 2015 16:10 pm
सांघवी हाइट्स सोसायटी के सुपरवाइजर ने आरोप को गलत बताते हुए कहा कि महिला का प्रॉपर्टी डीलर से किसी अन्य कारण से झगड़ा हुआ था और इसके पीछे कोई धार्मिक वजह नहीं है।

एक बिल्डर ने 25 वर्षीय एक महिला पेशेवर को फ्लैट देने से कथित तौर पर इसलिए मना कर दिया क्योंकि वह अल्पसंख्यक समुदाय की हैं। कुछ दिनों पहले हीरा निर्यात कंपनी द्वारा इसी आधार पर एक एमबीए ग्रेजुएट को नौकरी देने से मना कर दिया गया था।

बिल्डर की ‘पक्षपातपूर्ण नीति’ पर जांच की मांग करते हुए एक कार्यकर्ता ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के समक्ष मामला उठाया है।

पब्लिक रिलेशन एजेंसी में काम करने वाली मिसबाह कादरी एक साल पहले गुजरात से आने के बाद मुंबई के पश्चिमी उपनगर कांदिवली में एक अपार्टमेंट में रह रही थीं।

हाल में उन्होंने वडाला इलाके में एक फ्लैट को किराए पर लेने की कोशिश की लेकिन अपार्टमेंट के बिल्डर से उन्हें हैरान कर देने वाला जवाब मिला।

कादरी ने बताया, ‘‘काफी तलाश के बाद मुझे वडाला में एक घर मिला और मैंने बिचौलिये के जरिए 24000 रुपये जमा करा दिए। लेकिन जिस दिन मुझे उस घर में सामान सहित जाना था उससे एक दिन पहले बिचौलिये का एक फोन आया और मुझे वहां नहीं जाने को कहा गया क्योंकि बिल्डर मुसलमान किरायदारों को किराए पर मकान नहीं देता है। मैंने उससे वजह जानने की कोशिश की लेकिन उसने नहीं बताया।’’

कार्यकर्ता शहजाद पूनावाला ने घटना की जांच कराने के लिए राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के समक्ष एक आवेदन दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग