ताज़ा खबर
 

विपक्ष के उम्मीदवार के तौर पर राष्ट्रपति पद के लिए आज परचा भरेंगी मीरा कुमार

मीरा कुमार के लिए कांग्रेस ने विपक्षी दलों से जो समर्थन मांगा था, वह लिखित रूप से मिल गया है। 17 दलों के समर्थन का पत्र उनके लिए कांग्रेस को मिला है।
Author नई दिल्ली | June 28, 2017 01:46 am
राष्ट्रपति पद के लिए विपक्षी दलों की संयुक्त उम्मीदवार मीरा कुमार

कांग्रेस की अगुआई में विपक्षी पार्टियां राष्ट्रपति चुनाव में प्रतीकात्मक विरोध की अपनी लड़ाई को अंतिम अंजाम तक पहुंचाने में जुटी हुई हैं। 28 जून को सुबह 11 बजे संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की उम्मीदवार और कांग्रेस नेता मीरा कुमार अपना नामांकन भरेंगी। भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद की तरह मीरा कुमार भी चार सेट में परचा भरने की तैयारी कर रही हैं। मीरा कुमार के लिए कांग्रेस ने विपक्षी दलों से जो समर्थन मांगा था, वह लिखित रूप से मिल गया है। 17 दलों के समर्थन का पत्र उनके लिए कांग्रेस को मिला है। नामांकन भरने के बाद वह 30 जून को महात्मा गांधी के गुजरात स्थित साबरमती आश्रम से अपना प्रचार अभियान शुरू करेंगी। मंगलवार को पत्रकारों से उन्होंने कहा कि यह चुनाव दो दलित प्रत्याशियों का नहीं, बल्कि विचारधाराओं का है। उन्होंने निर्वाचक मंडल से अंतरात्मा की आवाज पर वोट करने की अपील की है।

संप्रग उम्मीदवार का पहला सेट कांग्रेस, माकपा और तृणमूल कांग्रेस के समर्थन से तैयार हो चुका है। 60 लोगों ने बतौर प्रस्तावक और 60 लोगों ने अनुमोदन के तौर पर दस्तखत किए हैं। हालांकि, एक सेट में 50-50 प्रस्तावक और अनुमोदन करने वाले की जरूरत होती है, लेकिन विपक्ष ने बतौर सावधानी 120 लोगों से दस्तखत कराए हैं। नामांकन के दौरान मीरा कुमार के साथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी मौजूद रहेंगे। माकपा, राष्ट्रीय जनता दल, सपा, बसपा के नेता भी मौजूद होंगे। मीरा कुमार बुधवार को संसद भवन में अपना नामांकन दाखिल करेंगी। नामांकन दाखिल करने से  पहले उनके राजघाट जाने का भी कार्यक्रम है।

जनता दल (एकीकृत) के नेता नीतीश कुमार ने राजग उम्मीदवार को समर्थन देने का एलान किया है। इस झटके से उबरने के लिए कांग्रेस उनके नामांकन पर शक्ति प्रदर्शन की तैयारी में है। कांग्रेस ने 17 दलों के शीर्ष नेताओं को मीरा कुमार के नामांकन के दौरान उपस्थित रहने के लिए न्योता भेजा है। कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने शरद पवार, ममता बनर्जी, लालू यादव, अखिलेश यादव, सीताराम येचुरी, उमर अब्दुल्ला और मायावती से फोन पर मौजूद रहने की अपील की है। संप्रग की उम्मीदवार मीरा कुमार ने कहा कि वह लोकतांत्रिक मूल्यों, सर्व समावेशी, गरीबी उन्मूलन और जाति व्यवस्था का विनाश जैसे मूल्यों के आधार पर चुनाव लड़ेंगी। उन्होंने कहा कि ये सभी विचार मेरे हृदय के बहुत समीप हैं। विपक्षी दलों ने इसी विचारधारा के आधार पर उन्हें सर्वसम्मति से राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाने का निर्णय किया है।

पूर्व लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने निर्वाचक मंडल के सभी सदस्यों को पत्र लिखकर अपील की है कि वे अंतरात्मा की आवाज पर वोट करें।  यह पूछे जाने पर कि जिस तरह राजग उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने अपने गृह राज्य उत्तर प्रदेश को अपना प्रचार अभियान शुरू करने के लिए चुना, उन्होंने अपने गृह राज्य बिहार के बजाए साबरमती को क्यों चुना तो मीरा कुमार ने कहा कि साबरमती के संत ने यही से देश की आजादी के आंदोलन का नेतृत्व किया और इतने बड़े साम्राज्य को उन्होंने उखाड़ फेंका था। ऐसे स्थानों पर जाकर शक्ति प्राप्त होती है।  मीरा कुमार ने दलित उम्मीदवार के मुद्दे पर चर्चा खारिज करते हुए कहा कि पहले भी राष्ट्रपति चुनाव हुए हैं। अन्य जातियों के लोग खड़े हुए तो कभी चर्चा नहीं हुई। जब दलित उम्मीदवार हैं तो उनके व्यक्तित्व के सभी पक्षों को गौण कर सिर्फ जाति पर चर्चा अनुचित है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव विचाराधाराओं के आधार पर लड़ा जा रहा है, जाति के आधार पर नहीं। दलितों के खिलाफ अत्याचार की पिछले दिनों हुई घटना पर उन्होंने कहा कि दलितों और कमजोर वर्ग के लोगों के खिलाफ ंिहंसा होना, हम सबके लिए शर्मनाक है। हमारे संविधान में सबसे कमजोर व्यक्ति के उत्थान के लिए प्रयास करने की बात कही गई है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग