ताज़ा खबर
 

MP में राज्‍य सभा की नैया पार लगाने कांग्रेस की मददगार बनीं मायावती, BJP की बढ़ी मुश्किलें

मायावती की पार्टी बसपा मध्‍य प्रदेश में कांग्रेस के राज्‍य सभा उम्‍मीदवार का समर्थन करेगी। मायावती ने शनिवार को इस बात की घोषणा की।
Author भोपाल | June 5, 2016 10:17 am
बसपा प्रमुख मायावती। (पीटीआई फाइल फोटो)

मायावती की पार्टी बसपा मध्‍य प्रदेश में कांग्रेस के राज्‍य सभा उम्‍मीदवार का समर्थन करेगी। मायावती ने शनिवार को इस बात की घोषणा की। कांग्रेस के लिए यह एलान राहत की सांस लेकर आया है। क्‍योंकि उसके उम्‍मीदवार विवेक तनखा को राज्‍य सभा जाने के लिए 58 विधायकों के वोट की जरूरत थी लेकिन कांग्रेस के पास केवल 57 विधायक ही थे। मायावती ने कहा, ”मध्‍य प्रदेश और उत्‍तर प्रदेश कई राज्‍यों में राज्‍य सभा के चुनाव होने जा रहे हैं। इनमें साम्‍प्रदायिक ताकतों के खिलाफ लड़ाई है। लेकिन बसपा मध्‍य प्रदेश में अपना उम्‍मीदवार नहीं चुन सकती क्‍योंकि हमारे पास नंबर नहीं है। इसलिए साम्‍प्रदायिक ताकतों को कमजोर करने के लिए कांग्रेस उम्‍मीदवार विवेक तनखा का साथ देने का फैसला किया गया है।”

57 विधायकों के साथ कांग्रेस अपने उम्‍मीदवार को जिताने के आंकड़े से एक सीट दूर थी। साथ ही सदन में उसके नेता सत्‍यदेव कटारे का मुंबई में इलाज चल रहा है जबकि एक विधायक रमेश पटेल जेल में हैं। वहीं बताया जा रहा है कि एक विधायक ने भाजपा को वोट देने का एलान किया है। 230 सदस्‍यीय मध्‍य प्रदेश विधानसभा में एक उम्‍मीदवार को जीतने के लिए 58 विधायकों की जरूरत होती है। बसपा के समर्थन की घोषणा के बाद कांग्रेस राहत की सांस ले सकती है। अब अगर तीन विधायक छूट भी जाते हैं तो बसपा के विधायकों को मिलाकर उसका आंकड़ा 58 का हो जाएगा।

Read Alsoमाया, मुलायम, सोनिया ने एक भी मुसलमान को नहीं दिया राज्‍य सभा का टिकट, बचेंगे केवल 4 मुस्लिम MP

इधर, सत्‍ता में काबिज भाजपा के दो उम्‍मीदवारों की जीत तय है। पार्टी के महासचिव विनोद गोटिया निर्दलीय के रूप में मैदान में है। तीसरे उम्‍मीदवार के लिए भाजपा के पास केवल 50 विधायक ही रह जाएंगे। विधानसभा में तीन निर्दलीय विधायक भी हैं। कांग्रेस उम्‍मीदवार विवेक तनखा को सीएम शिवराज सिंह चौहान का करीबी माना जाता है। इसके चलते माना जा रहा था कि भाजपा तीसरी सीट पर शायद ही लड़े लेकिन पार्टी आलाकमान के निर्देश के बाद गोटिया को निर्दलीय के रूप में उतारा गया।

Read Alsoअसम जीतने और केरल-बंगाल में खाता खोलने के बाद भी राज्‍य सभा में भाजपा खाली हाथ

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग