January 16, 2017

ताज़ा खबर

 

रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर बोले- मुझे कम, पीएम मोदी को ज्यादा जाता है सर्जिकल स्ट्राइक का श्रेय

29 सितंबर को भारतीय सेना ने एलओसी पार कर पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किए थे।

Author नई दिल्ली | October 12, 2016 14:22 pm
रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर। (पीटीआई फाइल फोटो)

रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने बुधवार को कहा कि पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक करके आतंकी ठिकाने ध्वस्त करने का श्रेय केवल भारतीय सेना को जाता है, साथ ही कहा कि इसका थोड़ा का श्रेय मुझे भी जाता है। उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक की मंजूरी के लिए पीएम मोदी की तारीफ भी की। पर्रिकर ने कहा, ‘इसका श्रेय सेना को जाना चाहिए। इसके साथ ही इसका श्रेय पीएम मोदी को भी फैसले लेने और योजना बनाने का श्रेय जाता है। मेरे हिस्से में भी इसका थोड़ा सा श्रेय जाता है।’ पिछले गुरुवार लखनऊ में एक इवेंट में रक्षामंत्री ने उन लोगों पर भी निशाना साधा था, जिन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगे थे। उस वक्त पर्रिकर बोले थे, ‘आज तक हमारी सेना पर किसी ने शक नहीं किया। लेकिन पहली बार कुछ लोगों ने शक किया। इसके सबूत मांगने के पीछे एक वजह है। उनका सोचना है कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पीएम मोदी की अच्छी छवि में इजाफा होगा।’

वीडियो में देखें- सर्जिकल स्ट्राइक के सबूतों को लेकर सरकार ने क्या कहा?

बता दें, भारतीय सेना ने 29 सितंबर को एलओसी पार कर पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किए थे। इस दौरान भारतीय सेना ने कई आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया था। इसकी घोषणा भारतीय सेना ने डीजीएमओ ले. जरनल दलबीर सिंह ने किया था। इस सर्जिकल स्ट्राइक में कई आतंकियों को भारतीय सेना ने मार गिराया था। हालांकि, पाकिस्तान ने भारतीय सेना के इस दावे का खंडन किया था। पाकिस्तान ने कहा था कि सीमा पर केवल दोनों पक्षों में फायरिंग हुई थी, जिसमें पाकिस्तानी सेना के दो जवान मारे गए। इसके बाद भारत में भी विपक्षी पार्टियों ने सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाने शुरू कर दिए। आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने सरकार से सर्जिकल स्ट्राइक के शक मांगे थे। इसके बाद उन पर भी निशाना साधा गया। वहीं कई अन्य पार्टियों के नेताओं ने इस ऑपरेशन को फर्जी बताया था।

Read Also: अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सूसन राइस ने अजीत डोभाल से फोन पर बातचीत की, कहा- पाक से आतंक के खिलाफ कार्रवाई की उम्मीद

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 12, 2016 2:22 pm

सबरंग