March 24, 2017

ताज़ा खबर

 

Uri Attack के पीछे रही होगी ‘संघ की शिक्षा’: पर्रीकर

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में सेना के लक्षित हमले के निर्णय का श्रेय ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शिक्षा’ को देते हुए दिखाई दिए और साथ ही उन्होंने भारतीय सेना की इस कार्रवाई का सबूत मांगने वालों पर निशाना भी साधा।

Author अमदाबाद | October 18, 2016 03:39 am

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में सेना के लक्षित हमले के निर्णय का श्रेय ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शिक्षा’ को देते हुए दिखाई दिए और साथ ही उन्होंने भारतीय सेना की इस कार्रवाई का सबूत मांगने वालों पर निशाना भी साधा। पर्रीकर ने कहा कि मुझे इस मेल को लेकर हैरानी होती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महात्मा गांधी के गृह राज्य से आते हैं और रक्षा मंत्री के रूप में मैं गोवा से हूं जहां कोई मार्शल रेस नहीं है। यह हो सकता है कि संघ की शिक्षा इसके मूल में थी, लेकिन यह बिल्कुल अलग तरह का मेल था। उनके इस बयान से विवाद खड़ा हो सकता है। वे यहां निरमा विश्वविद्यालय में ‘नो माई आर्मी :मेरी सेना को जानें:’ नाम के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में भारतीय सेना के लक्षित हमले पर संदेह जताने वालों की आलोचना करते हुए कहा कि सेना की कार्रवाई से भारतीय नागरिकों के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर संवेदनशीलता बढ़ी है। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना पाकिस्तान की ओर से किए जा रहे संघर्षविराम उल्लंघन का करारा जवाब दे रही है। उन्होंने कहा कि पिछले पांच-छह सालों से संघर्षविराम का लगातार उल्लंघन हो रहा है। आंकड़े देख लीजिए। अंतर सिर्फ इतना है कि अब हम उन्हें करारा जवाब देते हैं। सुरक्षा में चूक के सवाल पर पर्रीकर ने कहा कि आप कुछ काम करते हैं और इसमें चूक होती है तो गलतियों को सुधारा जाना चाहिए।


पर्रीकर ने किसी का नाम लिए बिना कहा कि जिस दिन हमले किए गए, उस दिन से लेकर आज तक कुछ राजनेता इसका सबूत मांग रहे हैं। उन्होंने कहा- जब भारतीय सेना कुछ कहती है तो हमें उस पर विश्वास करना चाहिए। हमारी सेना दुनिया में सर्वश्रेष्ठ, पेशेवर, साहसी और सत्यनिष्ठ है। मुझे नहीं लगता कि यहां अमदाबाद में उनसे (सेना से) कोई सबूत मांगेगा।
उन्होंने कहा कि लक्षित हमलों के बाद दो अच्छी बातें हुई हैं। पहली, कुछ राजनेताओं को छोड़ दिया जाए तो सभी भारतीय एक स्वर में बोल रहे हैं और हमारे वीर सैनिकों के समर्थन में खड़े हैं। दूसरे, बेहद प्रभावी ढंग से राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर हम भारतीय संवदेनशील हो गए हैं। इस तरह के कार्यक्रम के आयोजन के लिए पर्रीकर ने विश्वविद्यालय की तारीफ भी की और सेना में शामिल होने के लिए युवाओं का आह्वान किया।
बाद में, संवाददाताओं के साथ बातचीत में पर्रीकर ने कहा कि एक बात तो साफ है और वह यह कि उनकी सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर गंभीर है। गुजरात की पाकिस्तान से लगने वाली सीमा से देश में अवैध रूप से प्रवेश करने वाले लोगों के मुद्दे पर पर्रीकर ने कहा कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) सीमा पर सुरक्षा को और कड़ी कर रहा है। यह इलाका दलदली है। वहां हम बाड़ नहीं लगा सकते। लेकिन हम तकनीक के इस्तेमाल के जरिए इस कमी को पूरा करेंगे ताकि हमारे इलाके में कोई भी अनाधिकृत व्यक्ति प्रवेश न कर सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 18, 2016 3:39 am

  1. No Comments.

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग