ताज़ा खबर
 

Audio: सीएम खट्टर ने कहा- देश में रहना है, तो बीफ छोड़ना होगा, इसे नहीं खाएंगे तो मुसलमान नहीं रहेंगे क्‍या?

दादरी में बीफ खाने के आरोप में एक शख्‍स का कत्‍ल कर दिए जाने की घटना पर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने विवादित बयान दिया है।
हरियाणा के CM खट्टर

दादरी में बीफ खाने के आरोप में एक शख्‍स का कत्‍ल कर दिए जाने की घटना पर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने विवादित बयान दिया है।

उन्‍होंने घटना को ‘गलत’ और ‘गलतफहमी का नतीजा’ बताते हुए कहा कि इस देश में मुसलमान रह सकते हैं, पर उन्‍हें बीफ खाना छोड़ना होगा। क्‍योंकि, यहां गाय आस्‍था से जुड़ी है।’ इस महीने हरियाणा में भाजपा सरकार की पहली सालगिरह मनाने जा रहे खट्टर ने हमें इंटरव्यू में बताया कि गाय, गीता और सरस्‍वती देश के ज्‍यादतर लोगों के लिए आस्‍था से जुड़ा मामला है।

उन्‍होंने यह भी कहा कि अगर मुसलमान बीफ खाना बंद कर दें तो यह उनकी धार्मिक मान्‍यता के खिलाफ नहीं होगा। उनसे पूछा गया था कि दादरी की घटना को वह किस रूप में देखते हैं और क्‍या ऐसी घटनाओं से देश में मजहबी आधार पर बंटवारे की भावना मजबूत होगी? उन्‍होंने कहा, ‘मुसलमान रहें, मगर इस देश में बीफ खाना छोड़ना ही होगा उनको। यहां की मान्‍यता है गऊ।’ खट्टर ने कहा कि दादरी में जो कुछ हुआ वह नहीं होना चाहिए था। वह गलतफहमी के चलते हुआ और दोनों पक्ष की गलती रही।

उन्‍होंने कहा, ‘पीड़‍ित शख्‍स ने गाय को लेकर हल्‍की बातें की, जिससे लोगों की भावनाएं भड़क गईं और वे हमलावर हो गए। किसी पर हमला करना और उसकी जान ले लेना गलत है।’ हालांकि, उन्‍होंने इस घटना की तुलना एक ऐसे आदमी से की जो अपनी मां की हत्‍या होते या बहन की इज्‍जत लुटते देख रहा हो तो दोषियों के प्रति उसके गुस्‍से का ठिकाना नहीं रहता।

जब मुख्यमंत्री खट्टर से यह सवाल किया गया कि किसी को भी कुछ खाने से रोकना, ये तो संविधान से मिले अधिकार का हनन है, तो उन्होंने कहा कि बीफ खाना किसी दूसरे समुदाय को आहत करता है। संविधान कहता है कि मैं ऐसा कोई काम न करूं जिससे आपको कष्ट हो और आप ऐसा कोई काम न करें जिससे मुझे कष्ट हो।

खट्टर ने कहा कि ये कहीं नहीं लिखा हुआ है कि मुसलमानों और ईसाइयों को बीफ खाना ही चाहिए। क्या बीफ खाना छोड़ देंगे तो वे मुसलमान नहीं रह जाएंगे?

क्‍या थी दादरी की घटना?

पिछले महीने (28 सितंबर को) यूपी के दादरी में बीफ खाने की अफवाह फैलने के बाद 52 साल के मोहम्मद अखलाक की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। उनके 22 साल के बेटे दानिश को भी भीड़ ने अधमरा कर दिया था। आरोप है कि गांव के मंदिर से एलान किया गया कि अखलाक का परिवार घर में बीफ रखता है।

इसके बाद, भीड़ ने अखलाक के घर पर हमला कर दिया था। हालांकि, अब तक की जांच में बीफ की बात कहीं सामने नहीं आई है। यूपी सरकार ने केंद्र को सौंपी रिपोर्ट में भी ‘बीफ’ का जिक्र नहीं कर ‘प्रतिबंधित जानवर का मांस’ लिखा है।

61 साल के खट्टर करीब 40 साल से आरएसएस से जुड़े हैं। पिछले साल हरियाणा चुनाव से पहले वह राष्‍ट्रीय स्‍तर पर एक अनजान चेहरा थे। लेकिन, अचानक मुख्‍यमंत्री बना दिए जाने के बाद वह लगातार राष्‍ट्रीय स्‍तर पर किसी न किसी कारण से चर्चित होते रहे हैं।

खट्टर के बयान पर हो रहे ट्वीट्स देखें…


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 16, 2015 12:40 pm

  1. A
    akash
    Oct 17, 2015 at 2:33 pm
    Rrs के anpadh और जाहिलो से काया उम्मुद की जाये जो सीखा हे वैसे ही बोलते हे किस पद पर हे काया बोले नहीं पता आंतकवाद की भाषा ही पता हे देश को कहा ले जायेंगे पता नहीं
    Reply
  2. G
    gaurav
    Oct 17, 2015 at 7:40 pm
    बात कुछ हद ी ह लेकिन इसके लिए आपको भारत क संविधान में संसोधन करके सभी धर्मो की पवित्र जानवरो वस्तुओ के durupyog par purn pratibandh laga देना चाहिए जिससे धार्मिक साहिसांनुटा कायमं रहे जय हद
    Reply
  3. B
    BHARAT
    Oct 16, 2015 at 1:27 pm
    ी कहा, भारत में रहेते बहु शांक्ख्यक हिन्दूओ की भावनाओ का सन्मान नहीं होता तो खुद को सन्मान की उम्मीद नहीं रख शकते
    Reply
  4. S
    Shashi Kumar Singh
    Oct 17, 2015 at 11:20 am
    दाल, प्याज तो छोड़ ही दिया था अब बीफ भी छोड़ दें...कुछ दिनों में खाना भी छोड़ दें.......
    Reply