ताज़ा खबर
 

राष्ट्रपति चुनाव से पहले विपक्ष को एक करने की ममता बनर्जी की जोर आजमाइश, सोनिया गांधी के बाद अरविंद केजरीवाल से की मुलाकात

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी मुलाकात की थी।
दिल्ली में पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की (source-ani)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार (17 मई) को दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की। इन दोनों नेताओं के बीच राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष का एक कॉमन कैंडिडेट खड़ा करने, ईवीएम विवाद समेत कई मुद्दों पर चर्चा हुई। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इससे पहले राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। ममता बनर्जी राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की ओर से सर्वसहमति से एक कॉमन उम्मीदवार खड़ा करने के पक्ष में है। बता दें कि मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल इसी साल जुलाई में खत्म हो रहा है। सूत्रों के मुताबिक ममता बनर्जी और अरविंद केजरीवाल के बीच ईवीएम विवाद पर भी बात हुई है। केजरीवाल इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों की विश्वसनीयता पर सवाल उठाते रहे हैं, ममता बनर्जी भी उनके सुर में सुर मिलाती रहीं हैं।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की एकजुटता कायम करने के लिए लगातार कोशिश कर रही हैं। ममता बनर्जी ने इससे पहले समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह, आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी मुलाकात की है। इस बीच ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल के निकाय चुनाव में पार्टी की जीत से उत्साहित हैं, और उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि मा, माटी और मानुष को हम पर विश्वास जताने के लिए बार बार बधाई। हमलोग विनम्र होकर राज्य की जनता का आभार व्यक्त करते हैं।

पश्चिम बंगाल निकाय चुनाव नतीजे: ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस को मिली शानदार जीत, 7 में से 4 वार्ड पर किया कब्जा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 17, 2017 7:48 pm

  1. B
    b j
    May 19, 2017 at 11:14 am
    It seems that Sonia,Mamta and Kejri have 't done their home work properly.They do not have even 30 of requisite votes then how can their candidate would win.Perhaps no sensible person would contest as the candidate of UPA. They should concentrate more on development of their states rather than playing cheap politics.
    Reply
सबरंग