ताज़ा खबर
 

हार की कगार पर पहुंचकर TMC खो बैठी अपनी सुध, चुनाव आयोग को धमकाने लगीं ममता: PM मोदी

आचार संहिता उल्लंघन के मुद्दे पर ममता को चुनाव आयोग की ओर से नोटिस जारी किए जाने पर पैदा हुए विवाद की तरफ इशारा करते हुए मोदी ने यहां एक रैली में कहा, ‘हार की कगार पर पहुंचकर तृणमूल कांग्रेस ने सुध खो दी है।
पीएम मोदी का ममता बनर्जी पर हमला

चुनाव आयोग को ‘धमकाने’ के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आड़े हाथ लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि राजनीतिक पार्टियों से मुकाबले की बजाय वह आयोग से लड़ने में व्यस्त हैं क्योंकि उन्होंने और उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने पहले ही हार मान ली है।

आचार संहिता उल्लंघन के मुद्दे पर ममता को चुनाव आयोग की ओर से नोटिस जारी किए जाने पर पैदा हुए विवाद की तरफ इशारा करते हुए मोदी ने यहां एक रैली में कहा, ‘हार की कगार पर पहुंचकर तृणमूल कांग्रेस ने सुध खो दी है। ममता और उनकी पार्टी हार मान चुकी है और इसलिए वह राजनीतिक पार्टियों से मुकाबला करने की बजाय चुनाव आयोग से लड़ रही है।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि चुनाव तो आते-जाते रहेंगे, लेकिन संस्थाएं हमेशा रहेंगी।

मोदी ने कहा, ‘दीदी, चुनाव आयोग एक स्वतंत्र संस्था है। पूरी दुनिया में इसकी मान्यता है। किसी खेल में जैसे खिलाड़ी अंपायर की आज्ञा का पालन करते हैं, उसी तरह आयोग का आदर करना राजनीतिक पार्टियों का कर्तव्य है।’ उन्होंने कहा, ‘चुनाव आयोग के कारण बताओ नोटिस के बाद आपका कर्तव्य उनसे मिलना और अपना पक्ष रखना था, लेकिन आपने कहा कि मैं 19 मई (मतगणना की तारीख) के बाद देख लूंगी।’

मोदी ने ममता से कहा कि यह सब करने की बजाय आपको लोगों की गरीबी और दिक्कतों पर ध्यान देना चाहिए था। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘चुनाव आयोग को धमकी देने की जरूरत ही नहीं पड़ती। तृणमूल कांग्रेस ने हार मान ली है।’

मोदी ने कहा कि यदि ममता ने चुनाव आयोग का सम्मान करने से इनकार किया तो उन्हें बताना होगा कि वह संविधान और लोकतंत्र में विश्वास करती हैं कि नहीं। ममता को चुनाव आयोग की ओर से भेजे गए नोटिस का जवाब पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव वासुदेव बनर्जी की ओर से दिए जाने संबंधी खबरों पर मोदी ने कहा, ‘मैंने सुना कि मुख्य सचिव ने जवाब दिया है। आयोग ने उन्हें मुख्यमंत्री के तौर पर कारण बताओ नोटिस नहीं जारी किया था, तृणमूल कांग्रेस की नेता होने के नाते उन्हें यह नोटिस जारी किया गया।’

उन्होंने कहा, ‘तृणमूल कांग्रेस या उनके वकील या ममता जी को खुद जवाब देना चाहिए था। लेकिन यदि यह बात सही है कि मुख्य सचिव ने जवाब भेजा है तो यह आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन और सरकारी मशीनरी का गलत इस्तेमाल है।’ मोदी ने कहा कि लोकतंत्र में हार-जीत तो होती रहती है, लेकिन किसी को भी किसी संस्था का अनादर नहीं करना चाहिए।

तृणमूल कांग्रेस नेताओं के खिलाफ नारद स्टिंग ऑपरेशन पर मोदी ने कहा, ‘पूरे देश ने इसे देखा है। बंगाल का भविष्य कैमरे के सामने बेचा जा रहा था। यदि वामपंथी नेता ऐसे वीडियो में नजर आए होते तो आपने (ममता ने) पूरे राज्य में प्रदर्शन किया होता।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग