ताज़ा खबर
 

मालेगांव ब्लास्ट: अदालत ने पूछा, एनआईए द्वारा आरोप हटाने के बाद भी साध्वी जेल में क्यों?

मालेगांव विस्फोट मामले में गिरफ्तार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए बंबई हाई कोर्ट ने पूछा कि जब अभियोजन एजेंसी कह चुकी है कि उनके खिलाफ कोई मामला नहीं है तो उन्हें जेल में कैसे रखा जा सकता है।
साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर। (Source: File Photo)

मालेगांव विस्फोट मामले में गिरफ्तार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए बंबई हाई कोर्ट ने शुक्रवार (14 अक्टूबर) को पूछा कि जब अभियोजन एजेंसी कह चुकी है कि उनके खिलाफ कोई मामला नहीं है तो उन्हें जेल में कैसे रखा जा सकता है। साध्वी प्रज्ञा ने उच्च न्यायालय से अनुरोध किया है क्योंकि विशेष मकोका अदालत ने 28 जून को उन्हें जमानत देने से इंकार किया था। न्यायमूर्ति एनएच पाटिल और न्यायमूर्ति पीडी नाइक की खंडपीठ ने एनआईए से इस मामले से जुड़े सभी पिछले आदेशों तथा फैसलों को एकसाथ सौंपने को कहा। सुनवाई कर रही बेंच ने कहा, ‘हम दोनों चार्जशीट पर गौर करेंगे। स्पेशल कोर्ट के उस ऑर्डर को भी देखा जाएगा जिसमें बेल देने से मना किया गया था। हम सभी रिकॉर्ड्स को फिर से देखना चाहते हैं।’ बंबई हाईकोर्ट ने नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) से 2008 मालेगांव विस्फोट मामले में गिरफ्तार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के केस से संबंधित सभी ऑर्डर्स मांगे हैं।

गौरतलब है कि साध्वी प्रज्ञा को एनआईए ने इस साल क्लीन चिट दी थी लेकिन निचली अदालत ने उन्हें जमानत देने से इंकार किया था। उनकी याचिका में कहा गया कि निचली अदालत परिस्थितियों में बदलाव पर विचार करने में नाकाम रही।

Read Also: Malegaon Blast: पढ़ें, एटीएस और एनआईए की नजर में क्या है साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का सच

वीडियो: Speed News

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग