ताज़ा खबर
 

झबुआ ब्लास्टः गिरफ्तार हुई मुख्य आरोपी की पत्नी

पेटलावद विस्फोट के मुख्य आरोपी राजेन्द्र कसावा को गिरफ्तार करने के प्रयास के तहत पुलिस ने आज उसकी पत्नी को हिरासत में ले लिया।
Author झबुआ | September 16, 2015 17:37 pm

पेटलावद विस्फोट के मुख्य आरोपी राजेन्द्र कसावा को गिरफ्तार करने के प्रयास के तहत पुलिस ने आज उसकी पत्नी को हिरासत में ले लिया। कसावा पर एक लाख रूपये का ईनाम घोषित किया गया है।

गत 12 सितंबर की सुबह पेटलावद के न्यू बस स्टैण्ड इलाके में स्थित दो मंजिला एक मकान में भारी मात्रा में रखी हुई जिलेटिन छड़ों में हुए जोरदार विस्फोट से 89 लोग मारे गए थे और लगभग 100 घायल हुए थे।

जिला पुलिस अधीक्षक जी जी पाण्डे ने कहा, हमने राजेन्द्र कसावा की पत्नी प्रमिला को हिरासत में लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है, ताकि राजेन्द्र को गिरफ्तार किया जा सके। उन्होने कहा कि अब तक कसावा को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।

वहीं, जिले की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) एवं कसावा की गिरफ्तारी के लिए गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) की मुखिया सीमा अलावा ने कहा, आरोपी के कुछ पारिवारिक सदस्यों को हमने पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है, लेकिन मैं उनके नाम उजागर नहीं कर सकती।

उन्होंने कहा कि अब तक कसावा को गिरफ्तार नहीं किया गया है और उसे गिरफ्तार करने के लिए युद्घ स्तर पर कार्रवाई की जा रही है। उसके खिलाफ भादंवि की धारा 304 (गैर इरादतन हत्या) तथा विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की दो अन्य धाराओं के तहत प्रकरण दायर किया गया है।

इस बीच कसावा को लेकर यहां राजनीति गहरा गई है और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान पर तत्काल प्रकरण कायम करने की मांग को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया सिटी कोतवाली पर आज अपने समर्थकों सहित धरने पर बैठ गए हैं।

उन्होने कहा चौहान ने भोपाल में संवाददाताओ के समक्ष कसावा को मेरे पुत्र का नजदीकी मित्र बताया था, जो पूरी तरह आधारहीन बात है।

भूरिया ने स्पष्ट किया, मेरे पुत्र का राजेन्द्र कसावा नामक एक मित्र है, लेकिन वह तीस साल का है और पेटलावद में नहीं बल्कि झाबुआ में रहता है।

उन्होने कहा कि जब पुलिस राज्य सरकार के दबाव में कल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव के खिलाफ इस बात के लिए प्रकरण कायम कर सकती है कि उन्होने राजेन्द्र कसावा को आरएसएस का कार्यकर्ता बताया था, तो फिर नंदकुमार सिंह चौहान के खिलाफ प्रकरण कायम क्यों नहीं किया जा सकता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग