ताज़ा खबर
 

Chandra Grahan 2017: जानिए भारत में अब कब होगा चंद्र ग्रहण, क्या होता है इसका महत्व और प्रभाव

Surya Chandra Grahan India: इस सीरीज का अगला ग्रहण साल 2035 की 22 फरवरी को देखने को मिलेगा।
Chandra Grahan 2017: 11 फरवरी 2017 को देखा गया चंद्र ग्रहण असमान्य घटना थी।

साल 2017 का पहला चंद्र ग्रहण 11 फरवरी 2017 को देखा गया। यह सुबह 4 बजे के बाद शुरू हुआ था और लगभग 8.30 तक चला। शनिवार की सुबह इसलिए भी खास थी क्योंकि इस दिन पूर्णिमा के चांद के साथ-साथ धूमकेतु और ग्रहण को देखा गया। जानकारों के मुताबिक, इस सीरीज का अगला ग्रहण साल 2035 की 22 फरवरी को देखने को मिलेगा। इससे भी अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह असमान्य घटना नहीं थी। जो धूमकेतु देखा गया उसका नाम 45P है। उसको न्यू ईयर कोमेट भी कहा जाता है क्योंकि उसने 2016 के अंत में पृथ्वी की तरफ बढ़ना शुरू किया था। इसको नीला धूमकेतु भी कहते हैं। क्योंकि इसको 10 और 11 फरवरी को नग्न आंखों से भी देखा जा सकता था। हालांकि, इसको भारत के लोग नहीं देख पाए पर यूएस और यूके के लोगों ने इसका आनंद जरूर लिया।

वैज्ञानिकों की मानें तो ग्रहण एक खगोलीय घटना है, जो तब होती है जब सूर्य (सूरज), पृथ्वी और चंद्रमा एक सीधी रेखा में होते हैं। लोगों का ऐसा मानना है कि चंद्र ग्रहण की वजह से शादी में अड़चनें आती हैं। इसे कुंवारों के लिए अच्छा नहीं माना जाता। इसके अलावा इससे राशि में बैठा चंद्र भी उग्र हो जाता है।

ग्रहण काल में क्या नहीं करना चाहिए– चन्द्रमा या सूर्यग्रहण के काल में कैंची का प्रयोग नहीं करना चाहिए। फूलों को नहीं तोड़ना चाहिए, बालों व कपड़ों को साफ नहीं करना चाहिए। दातुन या ब्रश भी नहीं करना चाहिए। भोजन नहीं करना चाहिए, गाय, भैंस व बकरी का दोहन नहीं करना चाहिए। कठोर शब्दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए, संभोग नहीं करना चाहिए, यात्रा नहीं करना चाहिए तथा शयन करना भी वर्जित माना गया है। गर्भवती महिलायें ग्रहण काल में एक नारियल अपने पास रखें जिससे कि वायुमण्डल से निकलने वाली नकारात्मक उर्जा का प्रभाव उन पर नहीं पड़ेगा।

2017 में कब-कब पड़ेंगे ग्रहण ?
पहला चन्द्र ग्रहण 10 और 11 फरवरी को हुआ। अब पहला सूर्य ग्रहण इसी महीने 26 फरवरी को होगा। इसके बाद दूसरा चंद्र ग्रहण 7 या 8 अगस्त को होगा। उसके बाद दूसरा सूर्य ग्रहण 21 अगस्त को होगा।

बाकी खबरों के लिए क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.