December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी पर विपक्ष का हंगामा, लोकसभा दिनभर के लिए स्थगित

विपक्ष नोटबंदी के मुद्दे पर मतविभाजन के प्रावधान वाले नियम के तहत चर्चा कराने की मांग कर रहा है।

Author नई दिल्ली | November 18, 2016 15:01 pm
संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान लोकसभा की कार्यवाही का एक दृश्य। (PTI Photo/ TV GRAB/17 Nov, 2016)

नोटबंदी के मुद्दे पर मतविभाजन के प्रावधान वाले नियम के तहत चर्चा कराने की मांग को लेकर कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, वाम दलों समेत विपक्षी दलों के भारी शोर-शराबे के कारण शुक्रवार (18 नवंबर) को लोकसभा की कार्यवाही एक बार के स्थगन के बाद करीब साढ़े 12 बजे पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गयी। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कार्यवाही स्थगित करके नोटबंदी पर चर्चा कराने के विपक्षी सदस्यों के प्रस्ताव को खारिज कर दिया। वहीं सरकार ने कहा कि वह नियम 193 के तहत चर्चा के लिए तैयार है। शुक्रवार को सुबह सदन की बैठक शुरू होने पर लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि हमने गुरुवार को भी यह मुद्दा उठाया था और शुक्रवार को भी नोटबंदी के मुद्दे पर नियम 56 के तहत चर्चा कराने के लिए कार्यस्थगन का नोटिस दिया है। उन्होंने कहा कि यह विषय काफी महत्वपूर्ण है और सभी दल चाहते हैं कि कार्य स्थगित कर चर्चा करायी जाए क्योंकि नोटबंदी के निर्णय से आम लोगों, गरीबों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि खड़गेजी बार-बार कार्य स्थगित करके चर्चा कराने की बात कह रहे हैं। भारत सरकार चर्चा के खिलाफ नहीं है, इस विषय पर चर्चा होनी चाहिए। हम चर्चा चाहते हैं और पहले ही कह चुके हैं। उन्होंने कहा कि पूरे देश की जनता इस विषय पर मोदीजी के साथ है। इस बीच कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, वामदलों के सदस्य अध्यक्ष के आसन के समीप आकर नारेबाजी करने लगे। इस पर भाजपा सदस्यों को ‘माफी मांगो, माफी मांगो’ का नारा लगाते सुना गया। इस दौरान लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने प्रश्नकाल शुरू कराने का प्रयास किया लेकिन शोर-शराबा बढ़ता देख उन्होंने कहा कि आप सदन चलाना ही नहीं चाहते हैं। इसके बाद उन्होंने सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी। दोपहर 12 बजे सदन की बैठक पुन: शुरू होने पर अध्यक्ष ने विपक्षी सदस्यों के कार्य स्थगन के प्रस्तावों को अनुमति नहीं दी। खड़गे और तृणमूल कांग्रेस के नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने अपनी मांग दोहराई कि वह तत्काल चर्चा शुरू करने के लिए तैयार हैं लेकिन यह नियम 56 के अंतर्गत मतविभाजन वाले प्रावधान के तहत होनी चाहिए।

अध्यक्ष ने स्पष्ट किया कि वह पहले ही इस संबंध में स्पष्ट व्यवस्था दे चुकी हैं। संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने एक बार फिर विपक्ष से नियम 193 के तहत चर्चा में शामिल होने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि सरकार तुरंत चर्चा शुरू कराने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, ‘पता नहीं कि विपक्ष चर्चा क्यों नहीं चाहता?’ कुमार ने कहा, ‘विपक्ष कालेधन पर चर्चा से भाग रहा है।’ हालांकि विपक्षी सदस्य अपनी मांग पर कायम रहे और हंगामा थमता नहीं देख अध्यक्ष ने दोपहर करीब 12:25 बजे सदन की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले स्पीकर ने विपक्षी सदस्यों के हंगामे के बीच ही कुछ देर शून्यकाल की कार्यवाही चलाई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 18, 2016 2:59 pm

सबरंग