ताज़ा खबर
 

Car Free Day: भारी भीड़ के बीच दिनभर सड़कों पर दौड़ी कारें

प्रदूषण की रोकथाम की पहल के तहत दिल्ली में मंगलवार को छठे कार फ्री डे मनाया गया। लोनी रोड गोल चक्कर से शाहदरा फ्लाइओवर टी प्वाइंट के बीच हुए इस कार फ्री डे में सड़कों पर भारी भीड़ रही और दिनभर कारें भी दौड़ती रहीं।
Author नई दिल्ली | March 23, 2016 03:07 am
(File Photo)

प्रदूषण की रोकथाम की पहल के तहत दिल्ली में मंगलवार को छठे कार फ्री डे मनाया गया। लोनी रोड गोल चक्कर से शाहदरा फ्लाइओवर टी प्वाइंट के बीच हुए इस कार फ्री डे में सड़कों पर भारी भीड़ रही और दिनभर कारें भी दौड़ती रहीं। कार्यक्रम में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, परिवहन मंत्री गोपाल राय समेत आप के कार्यकर्ता, स्कूली बच्चे, और प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद थे।

हालांकि, सरकार हर महीने की 22 तारीख को कार फ्री डे मनाती है, लेकिन अब यह कार्यक्रम सिर्फ जनता से संपर्क का एक जरिया बनकर रह गया है। अब तक आयोजित कोई भी कार फ्री डे असल में ‘कार फ्री डे’ नहीं रहा। हालांकि इस बार कार्यक्रम में साइकिल रैली की जगह औपचारिकता दिखाती पर्यावरण यात्रा जरूर दिखी। कार्यक्रम की अगुवाई कर रहे परिवहन मंत्री ने होली के मौके पर रंग-बरसे भीगे चुनर वाली गीत गाया और लोगों से पर्यावरण बचाने की अपील की।

परिवहन मंत्री गोपाल राय का विधानसभा क्षेत्र बारबरपुर कार्यक्रम स्थल के पास होने के कारण वहां से काफी लोग जुटे थे। इस बार के आयोजन में दो हजार से अधिक लोग मौजूद थे। मनीष सिसोदिया और गोपाल राय समेत आप के विधायक और प्रशासनिक अधिकारी समेत मौजूद लोगों ने सुबह 8 बजे ज्योति नर्सिंग होम के पास स्थित दुर्गापुरी चौक से पर्यावरण यात्रा निकाली, जो वापस वहीं पहुंचकर खत्म हुई।
आप की अल्पसंख्यक शाखा के अध्यक्ष वाजिद अली ने कहा कि लोनी गोल चक्कर से शाहदरा फ्लाइओवर टी प्वाइंटर के बीच की 3 किलोमीटर की सड़क पर बहुत अतिक्रमण है, लेकिन कार फ्री डे की सूचना मिलते ही क्षेत्र के लोगों ने एक दिन पहले ही अपनी दुकानें हटा लीं और सड़क बिल्कुल साफ कर दी। नहीं तो सुबह से ही यहां इतना जाम लग जाता है कि पैदल आने-जाने वाले भी परेशान रहते हैं। आज सड़क पर ट्रैफिक देखकर लगा कि यहां कार फ्री डे सफल रहा।

कार फ्री डे में दर्जनों की संख्या में सिविल डिफेंस के कार्यकर्ता सड़कों पर खड़े होकर टैÑफिक व्यवस्था में लगे थे। सिविल डिफेंस के डिविजन वॉर्डन ओपी शर्मा ने कहा कि यहां लोग सहयोग कर रहे हैं, लेकिन जिनको जरूरी काम से कार से जाना पड़ रहा है वो तो जा ही रहे हैं। यहां तैनात सिविल डिफेंस कार्यकर्ताओं में ज्यादातर महिला और लड़कियां ही थीं। सिविल डिफेंस में 15 सालों से काम कर रहीं निर्मल गुप्ता ने कहा कि हम दिल्ली सरकार के कामों में जितना हो सकता है सहयोग करते हैं, लेकिन सरकार की ओर से हम लोगों का ख्याल नहीं रखा जाता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग