December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

एटीएम में कैसे भरे जाते और निकलते हैं नोट? नकली नोट निकले तो क्या करें? जानिए

दुनिया की पहली पैसे निकालने वाली मशीन जून, 1967 में बार्कले बैंक ने लंदन में लगायी थी।

एक एटीएम के बाहर पैसे निकालने के लिए लगी कतार (फाइल फोटो)

दुनिया की पहली पैसे निकालने वाली मशीन जून, 1967 में बार्कले बैंक ने लंदन में लगायी थी। इसी मशीन के आधुनिक संस्करण को हम  ऑटोमैटिक ट्रेलर मशीन (एटीएम) के रूप में जानते हैं। चीन में सातवीं शताब्दी के दौरान तांग वंश में कागज के नोटों का प्रचलन शुरू हुआ था लेकिन कुछ सौ साल बाद वहां कागज के नोटों को चलन बंद हो गया। सत्रहवीं सदी में यूरोप में दोबारा कागज के नोटों को चलन शुरू हुआ जो धीरे-धीरे पूरी दुनिया में फैल गया। आज शायद ही ऐसा कोई देश होगा जहां कागजी नोट न चलते हों। लेकिन नोटों के इतिहास में शायद दूसरा बड़ा मोड़ तब आया जब एटीएम मशीन का आविष्कार हुआ और धीरे-धीरे वो दुनिया के हर कोने में पहुंच गई। एटीएम आने के बाद लोगों को बैंकों से पैसे निकालने के लिए कतार में नहीं लगना होता था। एटीएम से उस समय भी पैसे निकाले जा सकते थे जिस समय बैंक बंद हों यानी आप रात-दिन, काम का दिन या छुट्टी जैसी चिंताओं से आजाद हो गए। आइए आज आपको हम बताते हैं कि एटीएम मशीन कैसे काम करती है।

क्या है एटीएम?- सरल शब्दों में कहें तो एटीएम एक तरह का  कम्प्यूटर है जिसमें आम कम्प्यूटर या लैपटाप की तरह ही एक सीपीयू (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) होता है। कम्प्यूटर ही की तरह इसमें इनपुट और आउटपुट के लिए अलग-अलग पैनल बने होते हैं जिनके माध्यम से सूचना ली जा दी जा सकती है। ज्यादातर एटीएम में एक छोटी टच स्क्रीन होती है। उसके दाएं और बाएं कुछ बटन होते हैं जिन पर अलग-अलग निर्देश लिखे होते हैं। उसके बगल में एक ब्लॉक बना होता है जिसके अंदर एटीएम कार्ड को डालकर अपने खाते से पैसे निकाले जाते हैं। टच स्क्रीन के नीचे एक खांचा होता है जिससे पैसा बाहर आता है। कुछ नए एटीएम में कैमरा भी लगा होता है। एटीएम के सभी यंत्र कम्प्यूटर कमांड से चलते हैं।

कैसे काम करता है?- सभी एटीएम एक इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी) से जुड़े होते हैं ताकि वो आपस में सूचनाएं साझा कर सकें। एटीएम मशीन एटीएम कार्ड में लगे मैग्नेटिक बार कोड (कार्ड के पीछे काली पट्टी) को पढ़कर आपके बैंक खाता की पहचान करता है। जब आप के बैंक खाते की पहचान हो जाती है उसके बाद कार्ड की निजी पहचान संख्या (पिन) देनी होती है। ग्राहक द्वारा एटीएम में पिन डालने के बाद उसकी सूचना एटीएम के अंदर लगे एक यंत्र (स्विच) के पास जाती है। स्विच इस सूचना को उस बैंक के सर्वर तक भेजता है जिस बैंक का आपको कार्ड हो। बैंक का सर्वर ये सुनिश्चित करता है कि आप जितना पैसा निकालना चाहते हैं उतनी राशि आपके खाते में मौजूद है या नहीं। आपके खाते से मिलान के बाद सर्वर एटीएम के स्विच को सूचना देता है। जब सर्वर स्विच को वापस सूचना भेजता है उसके बाद स्विच पैसे देने के लिए हरी झंडी दिखाता है। अगर आपके खाते में पैसे नहीं होंगे या कोई और तकनीकी दिक्कत होती तो स्विच वह सूचना आपको दे देगा जिसे आप टच स्क्रीन पर पढ़ सकते हैं। मसलन, 100 के नोट नहीं हैं या आपके खाते में पर्याप्त राशि नहीं है इत्यादि।

कैसे निकलते हैं नोट?-  हर एटीएम में आम तौर पर पैसे रखने के चार-पांच स्लॉट होते हैं जिन्हें कैसेट या कैश मीडिया डिस्पेंसर (सीएमडी) कहते हैं। इन्हीं कैसेट में 100, 500 और 1000 इत्यादि के नोट रखे जाते हैं। जब स्विच को आपके बैंक के सर्वर से हरी झंडी मिल जाती है उसके बाद वो आप द्वारा मांगी गई राशि को एटीएम में उपलब्ध नोटों में विभाजित करके कैश डिस्पेंसर को सूचना देता है। स्विच से मिली सूचना के आधार पर डिस्पेंसर हर कैसेट को सूचना भेजता है जिनसे आपकी जरूरत के नोट बाहर आ जाते हैं।

एटीएम में कैसे भरे जाते हैं पैसे?- हर एटीएम में एक वैन से पैसे भरे जाते हैं जिसे कैश वैन कहा जाता है। ये वैन दूसरी साधारण वैन से काफी अलग होती है। वैन में सुरक्षा का कड़ा बंदोबस्त होता है। कैश वैन हर रोज नए-नए रास्ते से एटीएम तक जाती है जिसे बैंक निर्धारित करता है। वैन में जीपीएस लगा होता है इसलिए वो बैंक द्वारा तय रास्ते से इधर-उधर मुड़ती है तो तुरंत इसकी सूचना बैंक तक पहुंच जाती है। बैंक वैन में मौजूद सुरक्षाकर्मी को फोन करता है। इसके अलावा जरूरत पड़ने पर कैश वैन का इंजन बैंक रिमोट कंट्रोल से बंद भी कर सकता है।

एटीएम से नकली नोट निकल आए तो क्या करें?- हर एटीएम में सीसीटीवी कैमरा लगा होता है। आम तौर पर इन कैमरों का मकसद एटीएम के दुरुपयोग को रोकना होता है लेकिन कुछ मौकों पर बैंक द्वारा की गई गलती को सामने लाने में ये काम आ सकता है। मसलन अगर आपको एटीएम मशीन से नकली नोट मिल जाते हैं तो आप उसे तुरंत एटीएम में लगे सीसीटीवी कैमरे के सामने  दिखा दें। बाद में संबंधित बैंक में वो नोट बदल सकते हैं।

वीडियोः देखिए नोटबंदी पर आम जनता का हाल

वीडियोः जानिए भारत में कब कब हुआ है विमुद्रीकरण-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 21, 2016 11:08 am

सबरंग