December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

इंटरनेट के जरिए कभी फंसा था IS के जाल में, अब ATS ने बनाया पोस्टर बॉय, लोगों को देगा हिदायत

एटीएस ने इस शख्स को अपना पोस्टर बॉय बनाया है। अब यह देश के युवाओं को आईएस के चंगुल से बचने के लिए हिदायत देगा।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

महाराष्ट्र का आतंक विरोधी दस्ते ने केरल के 20 वर्षीय शख्स को अपने उस कैम्पेन का हिस्सा बनाया है, जिसमें वे देश के युवाओं को आतंकी संगठन आईएस के चंगुल से बचने के लिए जागरूक करेंगे। यह युवक मुंबई एक कॉलेज का इंजीनियरिंग छात्र है। इस युवक को एक डॉक्यूमेंट्री में दिखा गया है, जिसमें वह बता रहा है कि किस तरह से उसे आईएस में शामिल होने के लिए फुसलाया गया। युवक केरल के एक समृद्ध परिवार से ताल्लुक रखता है। वह मुंबई में अपने चाचा के साथ रहकर अपनी पढ़ाई कर रहा था। डॉक्यूमेंट्री में युवक ने बताया कि किस तरह से इंटरनेट के जरिए उसे आईएस शामिल होने के लिए गुमराह किया गया।

टाइम्स ऑफ इंडिया ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि युवक ने कहा, ‘यमन और सीरिया में लोगों की मौत के वीडियो देखने के बात मैंने पेरिस में आतंकी हमलों की निंदा करने वाले विश्व के नेताओं के खिलाफ कमेंट करना शुरू किया। मुझे लगता था दूसरे देशों में मुस्लिमों की हत्या की ओर किसी का ध्यान नहीं जाता और कोई भी इसकी निंदा नहीं करता। मैं यूट्यूब सर्फिंग कर रहा था। तभी मेरे पास मुस्लिमों पर अत्याचार के वीडियो के पॉपअप आने लगे। मैं थोड़ा और ज्यादा उत्सुक हुआ और सर्फिंग करता रहा। एक सप्ताह बाद मैंने अनजान लोगों से चेट करना शुरू कर दिया। उन्होंने मुझे आईएस के लिए काम करने के लिए बहलाना शुरू किया।’ सितंबर महीने में टेक्निकल सर्विलांस के जरिए एटीएस को पता लगा कि यह युवक आईएस समर्थकों के साथ चेट कर रहा है। यह शख्स एक कनाड़ा की महिला के संपर्क में भी था। महिला ने उससे कहा था कि सीरिया में आ जाओ, वहां आपसे मुलाकात होगी।

वीडियो देखें- कश्मीर में सेना का सर्च ऑपरेशन

Read Also: केरल का रहने वाला है भारत में आईएस का मुख्य रिक्रूटर, शिक्षित युवक बन रहे हैं शिकार

एक मौलाना को बुलाकर इस शख्स को इस्लाम का सही मतलब समझाया गया। आठ पुलिस अधिकारी, दो मनोचिकित्सक, उसकी मां, एक डॉक्टर, एक मौलाना और उसके पांच दोस्तों ने उसके साथ तीन सप्ताह बिताया और उसकी काउंसलिंग की, ताकि वह पढ़ाई की ओर वापस लौट सके। उसके बाद एटीएस अधिकारी काउंसलिंग में पहुंचे। उसे वीडियो दिखाकर बताया कि किस तरह से धर्म के नाम पर युवाओं को गुमराह करके आईएस के साथ जोड़ा जाता है। इसके बाद एटीएस ने एक डॉक्यूमेंट्री बनाने की योजना बनाई। एटीएस चाहती है कि वह और उसके परिजन अपने अनुभव देश के युवाओं से शेयर करें।

Read Also: मीडिया रिपोर्ट में दावा- आईएस इंटरनेट पर हर 8वें मिनट में एक जिहादी वीडियो करता है अपलोड

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 21, 2016 3:53 pm

सबरंग