ताज़ा खबर
 

तीन दिन चली कांग्रेसी मंत्री के ठिकानों पर छापामारी, सामने आई 300 करोड़ की काली कमाई

शिवकुमार ने 2013 के चुनाव हलफनामे में 251 करोड़ की संपत्ति घोषित की थी
डीके शिवकुमार कर्नाटक कांग्रेस के बड़े नेता हैं और वह राज्य सरकार में ऊर्जा मंत्री हैं।

कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार के दिल्ली और बेंगलुरु स्थित ठिकानों पर की गई छापेमारी शनिवार सुबह खत्म हुई है। सूत्रों ने बताया कि विभाग को छापेमारी में शिवकुमार और उनके सहयोगियों से कुल 300 करोड़ रुपए की काली कमाई हाथ लगी है। उन्होंने कहा कि इसमें से 100 करोड़ रुपए की राशि शिवकुमार और उनके परिवार से संबंधित है। सूत्रों के मुताबिक, छापेमारी के बाद जो कैश और ज्वैलरी जब्त की गई है उसकी कीमत करीब 15 करोड़ रुपए है। शिवकुमार ने 2013 के चुनाव हलफनामे में 251 करोड़ की संपत्ति घोषित की थी, जबकि उनके भाई और सांसद डीके सुरेश ने लोकसभा चुनाव से पहले 81 करोड़ रुपए की सपंत्ति की घोषणा की थी।

बता दें कि आयकर विभाग ने डी.के. शिवकुमार, उनके रिश्तेदारों और सहयोगियों के नई दिल्ली, बेंगलुरू और कर्नाटक के करीब 70 ठिकानों पर छापेमारी की थी। बुधवार को शुरू हुई छापेमारी शनिवार तक चली है। बेंगलुरू से 30 किलोमीटर दूर बिदादी में ईगल्टन गोल्फ रिसॉर्ट पर भी छापेमारी की गई थी, जहां 29 जुलाई से गुजरात के 44 विधायक ठहरे हुए थे।

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में गुजरात के 57 में से छह कांग्रेस विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया, जहां से वरिष्ठ पार्टी नेता अहमद पटेल चुनाव लड़ रहे हैं। इनमें से तीन शुक्रवार को भाजपा में शामिल हो गये। पार्टी को आशंका है कि अधिक विधायकों के दल बदलने से पटेल की जीत की संभावनाओं पर असर पड़ेगा। संबंधित घटनाक्रम में राज्य के मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने शिवकुमार पर छापेमारी को लेकर कुछ वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों और सत्तारूढ़ पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष जी. परमेश्वर से शहर में अपने आधिकारिक आवास पर चर्चा की।

कौन हैं डीके शिवकुमार:

डीके शिवकुमार कर्नाटक कांग्रेस के बड़े नेता हैं और वह राज्य सरकार में ऊर्जा मंत्री हैं। उन्हें सोनिया गांधी का करीबी माना जाता है। शिवकुमार ही बेंगलुरु के ईगलटन रिसॉर्ट में ठहरे हैं गुजराती विधायकों की मेजबानी कर रहे हैं। डीके शिवकुमार के भाई डीके सुरेश बेंगलुरु ग्रामीण से सांसद हैं। ईगलटन रिसॉर्ट इसी इलाके में स्थित है। शिवकुमार राज्यसभा चुनाव तक बेंगलुरु के रिजॉर्ट में लाये गये गुजरात के अपने पार्टी विधायकों की मेजबानी कर रहे हैं। कांग्रेस की गुजरात इकाई के छह विधायकों के पार्टी छोड़ने के बाद अन्य पार्टी विधायकों को यहां लाया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग