June 23, 2017

ताज़ा खबर
 

गुप्‍त नहीं था पीएम नरेंद्र मोदी का नोट बंद करने का फैसला? कानपुर के पत्रकार ने 13 दिन पहले ही छाप दी थी खबर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर को किया था।

Author नई दिल्ली | November 12, 2016 20:22 pm
2000 के नए नोट। (तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।) (Photo Source: AP)

केंद्र सरकार दावा कर रही है 500 और 1000 हजार रुपए के नोट बंद होने के फैसले के बारे में केवल चुनिंदा लोगों को ही पता था। लेकिन नोट बंद होने के बारे में कानपुर के एक पत्रकार ने पीएम मोदी की घोषणा से 13 दिन पहले ही खबर दे दी थी। खबर दैनिक जागरण के पत्रकार बृजेश दुबे ने दी थी। पीएम मोदी की घोषणा के बाद अब दुबे के पास बधाई के फोन आ रहे हैं। दूबे की यह खबर 27 अक्टूबर को अखबार में प्रकाशित हुई थी। रिपोर्ट में दुबे ने लिखा था कि बड़े नोट बंद किए जाने के बदले में 2000 रुपए के नोट जारी किए जाएंगे। अखबार में बिजनेस बीट देखने वाले दुबे ने आईएएनएस से बात करते हुए पत्रकारिता के सिद्धांतों का हवाले देते हुए अपनी खबर के सूत्रों के बारे में बताने से मना कर दिया। उन्होंने कहा कि इस खबर को रूटीन के तौर पर देखा गया था। इस खबर की तरफ मेरे साथियों का भी ध्यान नहीं गया। पाठकों को भी पीएम मोदी के 8 नवंबर के ऐलान तक यह खबर याद नहीं रही।

वीडियो में देखें- 500, 1000 के नोट बदलवाने हैं? लोगों के पास आ रहीं ऐसी फ्रॉड काल्‍स

कानपुर में 20 अक्टूबर को नए गवर्नर उर्जित पटेल के नेतृत्व में आरबीआई की बोर्ड मीटिंग हुई थी। अखबार में सूत्रों ने बताया कि दुबे को इसी बोर्ड मीटिंग से कुछ जानकारी मिली थी। दुबे अब काफी खुश हैं। दुबे का कहना है कि यह सामान्य है, लेकिन मेरी खबर की पुष्टि पीएम मोदी ने घोषणा करके की।

विपक्षी पार्टियों ने आरोप लगाया है कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के नजदीकी लोगों को इस फैसले के बारे में पता था। है। सीपीआई-एम ने शुक्रवार को भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व पर सरकार के फैसले की गोपनीयता के साथ समझौता करने का आरोप लगाया है। दावा किया गया है कि भाजपा की पश्चिम बंगाल यूनिट ने बड़ी रकम घोषणा के दिन सेविंग अकाउंट में जमा कराई थी। सीपीआई-एम के राज्य सचिव सूरज कांत मिश्रा ने कहा, ‘पीएम मोदी की आठ नवंबर की घोषणा से कुछ घंटों पहले एक करोड़ रुपए एक सेविंग बैंक अकाउंट में जमा कराए गए थे। यह अकाउंट भाजपा की पश्चिम बंगाल यूनिट का है। इससे स्पष्ट होता है कि भाजपा को पता था कि बड़े नोटों पर बैन लगने जा रहा है।’

वीडियो में देखें-500, 1000 रुपए के नोट बदलवाने बैंक गए लोगों ने क्या कहा, जानिए

हालांकि, भाजपा ने इससे इनकार किया है कि उन्हें नोटबंदी के फैसले के बारे में पता था। शुक्रवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि पार्टी को नोटबंदी के फैसले के बारे में कुछ भी पता नहीं था। उन्होंने कहा कि यह सूचना केवल संवैधानिक और प्रशानिक अधिकारियों के पास ही थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 12, 2016 6:46 pm

  1. S
    Sanjay Desai
    Nov 12, 2016 at 4:19 pm
    This is the state of our politicians and journalists who are so detached from common people. Nobody, I repeat, nobody in the video is saying anything bad about the step of demonetization while everybody is saying that they are facing problems due to this decision. And the article, right from the le, is trying to give it an anti-government twist. Shame on your journalistic integrity.
    Reply
    1. S
      Sidheswar Misra
      Nov 13, 2016 at 4:15 am
      अमित शाह जी किसी को पता ही नहीं था तो बंगाल में बीजेपी के कहते में ३ करोड़ एक दिन में तीन किस्तो जमा कैसे हो गए . चंदा उसी दिन मिला .
      Reply
      1. N
        Navi Mumbai
        Nov 13, 2016 at 6:30 am
        बेबकूफ आदमी सुन २८ अगस्त २०१४ को ही जनधन योजना के अन्तर्गत ही इस फैसले की नींव रख दी गयी थी , और सोच लिया था जो जनता का है वह उसको मिलना चाहिए और वह मिलकर रहेगा , ३ नवम्बर२०१६ को हरियाणे में भी आम आदमियो के खाते खुलवाने के लिए प्रधान और बहुत से लोग मौजूद थे , अब ये नहीं कह देना प्रधान बीजेपी का था , नहीं वह कांग्रेस का था - खाते खुले , लिंक यहाँ पर पद ले। :www.bhaskar/news/HAR-OTH-MAT-latest-jhajjar-news-022002-1296804-NOR
        Reply
      2. S
        Sidheswar Misra
        Nov 13, 2016 at 4:10 am
        दैनिक जागरण संघ विचार धार का अख़बार है इसमें छापने का अर्थ है अपने समर्थको को सुचना पत्रकारिता की आड़ ले कर .इसे ही कहते है ईमानदार भी बने रहो बेईमानी का काम भी करते रहो .जैसे सन्तमहात्मा करते है उपदेश धन का लोभ न करो मोह माया से दूर रहो .बाबा जी उसमे लिप्त है .
        Reply
        1. N
          Navi Mumbai
          Nov 13, 2016 at 6:42 am
          और यही नहीं झारखण्ड में भी ८ नवम्बर को खाते खुले पर नॉट कब बंद होंगे यह किसी को नहीं मालुम था , इतना जरूर था कि काला धन इनमे जरूर आएगा और आया तब बता क्या गुनाह किया अपने पीएम ने , जनता का पैसा जनता के खाते में , जिस गरीब को कांग्रेस ने बैंक ने दरवाजे के अंदर नहीं जाने दिया तब गरीब विरोधियो की क्यों हवाई उडी हुई हैं , अब गरीब गरीब नहीं रहेगा समझ में आया या लात घूसा खाने के बाद आएगा जन धन योजना में दलाल गायब , जो कि ग्राम प्रधान और कांग्रेस के लोग थे अब लग रही है मिर्ची क्यों है न सच बात।
          Reply
        2. V
          vinay patel
          Nov 13, 2016 at 9:42 am
          उत्तरप्रदेश में जब जागरण में १३ दिन पहले ही ये खबर छाप दी थी तो मुलायम सिंह और मायावती क्या कर रहे थे पड़ा नहीं था क्या जो आज १ हफ्ते का टाइम माग रहे है क्यों नहीं ठिकाने लगपाये अपना कला धन जब कोई किसी का जरुरत से जद्दा विरोध करने लगता है तो ओ खुद १ दिन देश विरोधी की संज्ञा में आने लगता है जैसे आज राहुल गाँधी एयर केजरीवाल गधो को यही नहीं पता होता है की क्या बोलना चाहिए और कहा जा के सेल्फी लेना चाहिए और आज ज्यादा तार लोगो की नजर में दोनों जोकर लगने लगे है
          Reply
          सबरंग