ताज़ा खबर
 

कलानिधि मारन को केवल दो रुपए देकर अजय सिंह ने कर लिया था स्‍पाइसजेट का अधिग्रहण- कोर्ट में हुआ खुलासा

स्पाइसजेट के अधिकारियों के अनुसार जब अजय सिंह ने कंपनी खरीदी तो उन्होंने कंपनी के सभी कर्ज और देनदारियां चुकाने की शर्त पर ये सौदा किया था।
“अबकी बार मोदी सरकार” नारा बनाने का श्रेय अजय सिंह को दिया जाता है। (फाइल फोटो)

एंटरप्रेन्योर अजय सिंह ने साल 2015 में कलानिधि मारन से मात्र दो रुपये में विमानन कंपनी स्पाइसजेट में उनकी हिस्सेदारी खरीदी थी। ये जानकारी दिल्ली हाई कोर्ट में सिंह और मारन के बीच चल रहे मुकदमे के ताजा फैसले से सामने आई है। मारन तमिलनाडु की मुख्य विपक्षी पार्टी डीएमके के प्रमुख एम करुणानिधि के भतीजे और पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरासोली मारन के बेटे हैं। कलानिधि मारन दक्षिण भारत के प्रमुख मीडिय समूह सन टीवी के मालिक हैं। अजय सिंह एलसीसी के सह-संस्थापक हैं। अजय सिंह साल 2014 में तब चर्चा में आए थे जब उन्होंने लोक सभा चुनाव से पहले “अबकी बार मोदी सरकार” जुमाला ईजाद किया था जिसका बीजेपी ने जमकर प्रयोग किया और उसे जबरदस्त बहुमत मिला था।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सिंह ने जनवरी 2015 में सेल परचेज एग्रीमेंट (एसपीए) किया था और दो रुपये में कंपनी के लो कॉस्ट एयरलाइंस के 35 करोड़ से ज्यादा शेयर (कंपनी में करीब 58.5 प्रतिशत हिस्सेदारी) और काल एयरवेज खरीदा था।  किसी सूचीबद्ध कंपनी को इस कम राशि में खरीदने या बेचने का अपनी तरह का अकेला मामला होगा। उस समय के शेयर बाजार भाव के अनुसार अजय सिंह ने जो हिस्सेदारी दो रुपये में खरीदी उसकी बाजार में कीमत करीब 765 करोड़ रुपये थी। इस समय इन शेयर की कुल कीमत 4400 करोड़ रुपये से ज्यादा है।

रिपोर्ट के अनुसार जब अजय सिंह ने एयरलाइंस खरीदी थी तो वो घाटे में थी। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार साल 2014-15 में एलसीसी को 687 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था।दिसंबर 2014 में मारन परिवार ने स्पाइसजेट को बंद करने की घोषणा कर दी थी।   जब अजय सिंह ने एयरलाइंस का स्वामित्व लिया तो उस पर 1418 करोड़ का कर्ज और करीब दो हजार करोड़ की अन्य देनदारियां थीं। अजय सिंह ने कंपनी के डूबते हुए जहाज को संभाला और उसे मुनाफे वाली कंपनी बना दिया।

दो रुपये में हुए सौदे के बारे में पूछने पर स्पाइसजेट के अधिकारियों ने टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार से कहा कि ये पूरी तरह बेबुनियाद बात है। कंपनी के अधिकारियों के अनुसार जब अजय सिंह ने कंपनी खरीदी तो उन्होंने कंपनी के सभी कर्ज और देनदारियां चुकाने की शर्त पर ये सौदा किया था। स्पाइसजेट के एक अधिकारी ने टीओआई से कहा कि अगर भारत सरकार 52 हजार करोड़ रुपये के कर्ज में डूबे एयर इंडिया को किसी को एक रुपये में बेच दो तो आप ये नहीं कह सकते कि सरकार ने एक रुपये में एयर इंडिया को बेच दिया, इसी तरह मारन ने कर्ज और देनदारी समेत एयरलाइंस अजय सिंह को बेची थी।

वीडियो- पोता है इंडियन क्रिकेट टीम में, दादा जी रहे हैं मुफलिसी में

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग