ताज़ा खबर
 

जस्टिस कर्णन ने CJI खेहर और सुप्रीम कोर्ट के 6 अन्‍य जजों को सुनाई 5 साल जेल की सजा

शीर्ष अदालत ने कर्णन के खिलाफ 17 मार्च को जमानती वारंट भी जारी किया था।
कोलकाता उच्‍च न्‍यायालय के न्‍यायाधीश न्‍यायमूर्ति सीएस कर्णन। (PTI Photo)

कलकत्‍ता हाई कोर्ट के जस्टिस कर्णन ने भारत के मुख्‍य न्‍यायाधीश जेएस खेहर समेत सुप्रीम कोर्ट के 6 अन्‍य जजों को पांच साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। जज ने यह फैसला इन सभी को अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम के तहत दोषी पाए जाने पर दिया है। स्‍वयं जस्टिस कर्णन पर न्‍यायपालिका का अपमान करने और सुप्रीम कोर्ट जजों के खिलाफ भ्रष्‍टाचार के आरोप लगाने को लेकर अदालत के अपमान का आरोप है। सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने उनकी न्‍यायिक कर्त्‍तव्‍यों को जारी रखने की याचिका यह कहते हुए ठुकरा दी थी कि हाई कोर्ट जज दिमागी रूप से ठीक नहीं हैं। शीर्ष अदालत ने कर्णन के खिलाफ 17 मार्च को जमानती वारंट भी जारी किया था। 2 मई को जस्टिस कर्णन ने संविधान के अनुच्‍छेद 226 का प्रयोग करते हुए सुओ-मोटो आदेश जारी किया था।

सीजेआई व 6 अन्‍य दलों को सम्‍मन किए जाने के बाद वह जस्टिस कर्णन के सामने पेश नहीं हुए तो उन्‍होंने गैर-जमानती वारंट जारी करते हुए 8 मई को फिर पेश होने का आदेश जारी किया था। सोमवार को जब सुप्रीम कोर्ट के जज पेश नहीं हुए तो जस्टिस कर्णन ने इसे अपनी अदालत की अवमानना मानते हुए सभी 7 जजों को 5 साल की सजा सुना दी।

1 मई को अपने आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस कर्णन के मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य की जांच के लिए मेडिकल बोर्ड गठित करने का आदेश दिया था। इसके अलावा शीर्ष अदालत ने देश की सभी संस्‍थाओं से कहा था कि वे जस्टिस कर्णन द्वारा 8 फरवरी से 1 मई तक दिए गए आदेशों को न मानें। अदालन ने जस्टिस कर्णन को अपना पक्ष रखने का मौका दिया था, मगर वे कार्यवाही में हाजिर नहीं हुए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. B
    bhola singh
    May 10, 2017 at 12:11 am
    भ्रष्ट जज अपनी मनमानी करते है इनकी विडियो रिकार्डिंग होनी चाहिए लाईव ता जो लोगो को भी पता चल सके भी अदालत के अन्दर क्या हो रहा है
    (0)(0)
    Reply
    1. M
      mp
      May 9, 2017 at 10:27 am
      dalito per julm ki intaha hai eak dalit judge corruption ke charge laga raha hai enqiry honi chaya
      (0)(0)
      Reply
      1. K
        Kamal Gaur
        May 9, 2017 at 7:25 am
        Wonderful !!!!
        (0)(0)
        Reply
        1. M
          manish agrawal
          May 8, 2017 at 10:31 pm
          harassment ka ye aalam hai ki Justice Karnan ki mental fitness par Judiciary hi sawaal khade kar rahi hai !
          (0)(0)
          Reply
          1. M
            manish agrawal
            May 8, 2017 at 10:23 pm
            Justice Karnan ke maamle ne saabit kar diya ki Hindostan main Dalit yadi High Court judge bhi ban jaaye to bhi harassment aur insult se usko mukti nahi mil sakti ! dhikkar hai,aise discrimination par !
            (0)(0)
            Reply
            1. G
              GYAN Singh
              May 8, 2017 at 9:31 pm
              सभी माननीय जज महोदय मिलकर एक दूसरे के खिलाफ गलत कार्यवाही कर रहे हैं सभी मुख्य न्यायाधीशों को जस्टिस करनन के सुझावों को गंभीरता से लेते हुए भ्रष्ट जजों पर कठोर कार्रवाई करनी चाहिये जिसके परिणाम स्वरुप देशवासियों का न्यायपालिका पर विश्वास बना रहे सभी जजो को चाहिए कि उन्हे जस्टिस करनन के द्वारा लगाए गए आरोपों की जांच सीबीआई से करवा लेनी चाहिए जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए
              (0)(0)
              Reply
              1. Load More Comments