April 25, 2017

ताज़ा खबर

 

जेएनयू: रात से ही बंधक बनाए गए वीसी को खाना तक नहीं दे रहे छात्र, किरण रिजिजू ने कहा- पढ़ने नहीं, राजनीति करने आते हैं

केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने ट्वीट कर वीसी और दूसरे अधिकारियों को बंधक बनाए जाने को गलत करार दिया है। रिजिजू ने कहा कि कुछ लोग पढ़ाई नहीं राजनीति कर रहे हैं। जेएनयू का माहौल खराब किया जा रहा है।

जेएनयू में लापता छात्र की बरामदगी के समर्थन में विरोध-प्रदर्शन करते छात्र ( एक्सप्रेस फोटो -ताषी तोबग्याल)

दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में तनाव बरकरार है। नजीब अहमद नाम के छात्र की गुमशुदगी पर यूनिवर्सिटी प्रशासन की ओर से ठोस कदम नहीं उठाए जाने का आरोप लगाते हुए छात्रों ने यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर समेत कई अधिकारियों को एडिमन ब्लॉक में ही बंधक बना कर रखा है। उन्हें कार्यालय से बाहर आने नहीं दिया। सूत्रों के मुताबिक अभी तक ये अधिकारी यूनिवर्सिटी के एडमिन ब्लॉक में ही फंसे हुए हैं। विरोध-प्रदर्शन कर रहे छात्र उन्हें खाना भी नहीं देने दे रहे हैं। इस बीच वीसी एम जगदीश कुमार ने बाहर आकर छात्रों और मीडिया से बात करने की कोशिश की लेकिन छोत्रों के विरोध-प्रदर्शन की वजह से वे ऐसा नहीं कर पाए। उन्होंने बस छात्रों के सामने एक रिक्वेस्ट नोट पढ़ा, ताकि उन लोगों को जाने दिया जाए जिनकी सेहत बिगड़ रही है।

सूत्रों ने बताया कि जब वीसी बाहर निकलने की कोशिश कर रहे थे तब छात्रों ने उनके साथ धक्कामुक्की की। रात से छात्रों ने 10 लोगों को बंधक बनाया हुआ है। हालांकि, वीसी ने आज (गुरुवार को) दिन में करीब 11 बजे एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने उम्मीद जताई कि लापता छात्र नजीब अहमद जल्द सकुशल वापस आएंगे। साथ ही उन्होंने लिखा कि इसके लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने जरूरी कदम उठाया है। इस बीच, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने ट्वीट कर वीसी और दूसरे अधिकारियों को बंधक बनाए जाने को गलत करार दिया है। रिजिजू ने कहा कि कुछ लोग पढ़ाई नहीं राजनीति कर रहे हैं। जेएनयू का माहौल खराब किया जा रहा है।

वीडियो देखिए: जेएनयू में हंगामा, वीसी को बनाया बंधक

गौरतलब है कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) का छात्र और ऑल इंडिया स्टूडेंट एसोसिएशन (आइसा) का कार्यकर्ता नजीब अहमद शनिवार (15 अक्टूबर) से रहस्यमयी परिस्थितियों में लापता है। रविवार को पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार नजीब अहमद जेएनयू में एमएससी बॉयोटेक्नोलॉजी का छात्र है और माही/मांडवी छात्रावास में रहता था। छात्र के माता-पिता की शिकायत पर वसंत कुंज पुलिस थाने में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 365 के तहत छात्र की गुमशुदगी का मामला दर्ज कर लिया गया है। नजीब करीब एक हफ्ते पहले ही नए छात्रावास में रहने आया था। आइसा के एक कार्यकर्ता के अनुसार नजीब की शनिवार रात को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के एक कार्यकर्ता से तब बहस हो गयी थी जब वो मेस कमेटी के चुनाव के लिए दरवाज-दरवाजे जाकर प्रचार कर रहे थे। उसके बाद से ही वह लापता है।

Read Also-FIR: एबीवीपी कार्यकर्ताओं से झड़प के बाद जेएनयू का छात्र लापता

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 20, 2016 1:15 pm

  1. A
    Ankit Kumar
    Oct 20, 2016 at 8:43 pm
    A miniature version of guerilla Court (Maoist judicial System) in operation by Left-wing Naxals at JNU. The dark children of anarchy have brought the w campus to a halt disrupting rigorous academic activity for which JNU is known and revered. Going by the tradition of their ideological forefather Chairman Mao; I guess, they would have beheaded the VC by now to revenge the disappearance of their fellow comrade by ABVP goons, had the Indian state would not be vigilant and powerful e
    Reply
    1. D
      Dinesh Singh
      Oct 20, 2016 at 9:46 pm
      विजिलेंट एंड पावरफुल??????? है है है है क्या जोके मार है. एक स्टूडेंट गायब हो गया तब इंडियन स्टेट कान्हा थी?
      Reply
    2. S
      Shrikant Sharma
      Oct 20, 2016 at 9:29 am
      jnu staniuon ka adda ail bana hua ai.ise bharat k congrss stani chen po media and intellectuals ka dan bal ka support hai.ye musalman ladka aksar stani bigigs ke saat dekha jaata tha.surgical strike diplomacy shuru hone ke baad iske tat baat bad e hain.ab stan ise marwa kar surgical strike diplomacy aur modi sarkar ki muslim parasti ki hawa nikalna cahta hai.ek alag khaba mein saa likha hai ki biryani diplomacy aur surgical strike diplomacy mein antrang rishte hain
      Reply
      1. R
        Rahul thakur
        Oct 20, 2016 at 9:41 am
        चुप कर यार तू............पाकिस्तानियो का अड्डा........... भक्तों कॊ आजकल सभी पाकिस्तानी या antinational ही लगते है..............ABVP कुछ भी करे वो देशभक्ति बाकी के सब ई.........
        Reply
      2. S
        Shrikant Sharma
        Oct 20, 2016 at 9:49 am
        न्यूयॉर्क में खबर जोरों पर हैं की ट्रम्प जीत रहे हैं.अमरीकन इलेक्शन तक भारत के पास सर्जिकल स्ट्राइक डिप्लोमेसी के तहत आठ दस टेररिस्ट कैंप और ख़तम करने का टाइम था.पर चीन के प्रेजिडेंट ने मोदी की हां निकल दे पाक को समर्तन देकर.उरई के पाहिले इसी तरह का जुनू में माहौल बना कर मोदी बदनाम किया गया था.जनु में पाक चीन का गन्दा खेल चल रा है उसकी आड़ में अमरीकी इलेक्शन के बाद भारत किसी भी कदम उतने लायक नहीं रह जायेगा.राजनाथ को तुरं जनु khali करा के हार्ड एक्शन लेना पडेगमोडी के पीएमओ के पाकी भक्त userokdenge
        Reply

        सबरंग