December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

जेएनयू छात्र लापता मामले में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर से दोबारा की बात, स्पेशल टीम बनाने को कहा

राजनाथ सिंह ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर से मामले की जांच के लिए स्पेशल टीम बनाने के निर्देश दिए हैं।

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह (पीटीआई फाइल फोटो)

केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जेएनयू से लापता हुए छात्र नजीब अहमद की सकुशल रिहाई के सिलसिले में आज फिर दिल्ली पुलिस के कमिश्नर आलोक कुमार से बात की है। सिंह ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर से मामले की जांच के लिए स्पेशल टीम बनाने के निर्देश दिए हैं। इससे पहले भी इस मामले को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने दिल्ली पुलिस के कमिश्नर से बात की थी और मामले पर पूरा ब्रीफ लिया था।

गौरतलब है कि नजीब अहमद नाम की गुमशुदगी पर यूनिवर्सिटी प्रशासन की ओर से ठोस कदम नहीं उठाए जाने का आरोप लगाते हुए छात्रों ने यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर समेत कई अधिकारियों को एडिमन ब्लॉक में ही घेराव किया। उन्हें कार्यालय से बाहर आने नहीं दिया। सूत्रों के मुताबिक अभी तक ये अधिकारी यूनिवर्सिटी के एडमिन ब्लॉक में ही फंसे हुए हैं। इस बीच वीसी एम जगदीश कुमार ने बाहर आकर छात्रों और मीडिया से बात करने की कोशिश की लेकिन छोत्रों के विरोध-प्रदर्शन की वजह से वे ऐसा नहीं कर पाए। उन्होंने बस छात्रों के सामने एक रिक्वेस्ट नोट पढ़ा, ताकि उन लोगों को जाने दिया जाए जिनकी सेहत बिगड़ रही है।

वीडियो देखिए:जेएनयू में हंगामा, वीसी को बनाया बंधक

सूत्रों ने बताया कि जब वीसी बाहर निकलने की कोशिश कर रहे थे तब छात्रों ने उनके साथ धक्कामुक्की की। रात से छात्रों ने 10 लोगों को बंधक बनाया हुआ है। हालांकि, वीसी ने आज (गुरुवार को) दिन में करीब 11 बजे एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने उम्मीद जताई कि लापता छात्र नजीब अहमद जल्द सकुशल वापस आएंगे। साथ ही उन्होंने लिखा कि इसके लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने जरूरी कदम उठाया है। इस बीच, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने ट्वीट कर वीसी और दूसरे अधिकारियों को बंधक बनाए जाने को गलत करार दिया है। रिजिजू ने कहा कि कुछ लोग पढ़ाई नहीं राजनीति कर रहे हैं। जेएनयू का माहौल खराब किया जा रहा है।

Read Also-जेएनयू: रात से ही बंधक बनाए गए वीसी को खाना तक नहीं दे रहे छात्र, किरण रिजिजू ने कहा- पढ़ने नहीं, राजनीति करने आते हैं

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 20, 2016 2:21 pm

सबरंग