ताज़ा खबर
 

J&K: फेल होने पर आत्‍महत्‍या करने वाला अदनान, कॉपी री-चेक होने पर टॉपर निकला

आत्‍महत्‍या के चार महीने के बाद अदनान की कॉपी री-चेक की गई तो उसके 70 प्रतिशत मार्क्‍स आए, जबकि सेकेंड नंबर पर आने वाले स्‍टूडेंट के कुल 48 फीसदी नंबर आए हैं। अब उसके पिता परीक्षक के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग कर रहे हैं।
Author श्रीनगर | November 14, 2015 11:01 am
अदनान गिल्‍कर का फाइल फोटो।

जम्‍मू-कश्‍मीर में चार महीने पहले इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स इंजीनियरिंग के स्‍टूडेंट मोहम्‍मद अदनान ने झेलम नदी में कूदकर आत्‍महत्‍या कर ली थी। 18 साल का अदनान सेमेस्‍टर एग्‍जाम में फेल हो गया था, जिस कारण से उसने आत्‍महत्‍या कर ली थी। लेकिन अब हैरान करने वाली खबर आई है, दरअसल, वह फेल नहीं हुआ था। आत्‍महत्‍या के चार महीने बाद अदनान की कॉपी रीचेक की गई, जिसमें वह टॉपर निकला है।

जानकारी के मुताबिक, अदनान के 70 प्रतिशत मार्क्‍स आए हैं, जबकि सेकेंड नंबर पर आने वाले स्‍टूडेंट के कुल 48 फीसदी नंबर आए हैं। अपने बेटे का रिजल्‍ट देखने के बाद उसके पिता हिलाल अहमद पूछते हैं- अब वह अपने बेटे को कहां ढूंढ़कर लाएं और बताएं तुमने क्‍लास में टॉप किया है। अदनान की मां आबिदा रोती हुई कहती हैं कि बेटे की मौत के बाद उन्‍होंने सबकुछ खो दिया है और अब वह जिंदा नहीं रहना चाहती हैं। अब सवाल यह उठ रहा है कि आखिर अदनान की मौत का जिम्‍मेदार कौन है?-वह टीचर जिसने कॉपी चेक की, कॉलेज प्रशासन या फिर सरकार?

अदनान पॉलिटेक्निक में फर्स्‍ट ईयर का स्‍टूडेंट था। उसका 18 जून को रिजल्‍ट आया,‍ जिसमें वह अलाइड फिजिक्स में फेल था। इससे परेशान अदनान ने लाल चौक के किसी फुटब्रिज से झेलम नदी में कूदकर जान दे दी थी। कुछ हफ्ते बाद उसकी लाश झेलम में मछुआरों को मिली। हिलाल चाहते हैं कि उनके बेटे की मौत के जघन्‍य अपराध के लिए परीक्षक पर केस दर्ज किया जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    anky
    Nov 14, 2015 at 12:58 pm
    इसमें भी पॉलिटिक्स लिमिट ही यार कम से कम से कम ऐसी बातो को तो बख्श दो और धरम को बीच मई मत लाओ
    (0)(0)
    Reply
    1. A
      Ahasan
      Nov 14, 2015 at 4:23 am
      ऐसे teacher के खिलाफ सख्त से सख्त सजा दी जाये और पुरे भारत के टीचर्स के क्नोलेगे में इसबात की जानकारी देजाये की किरपया ईमानदारी से कापी चेक करे.किसी प्रकार का बेदभाओ न करे.स्टूडेंट का कोई जाति, धर्म नहीं होता है.आंसर शीट पर सिर्फ बार कोडिंग होनी चाहिय ,जिससे किसी को पता न चले कापी किसकी है और अगर बर्कोडिंग थी तो कॉपी ki जानकारी सेंटर कंट्रोलर ने दी या तो सेंटर इवैल्यूएशन इंचार्ज ने दी टीचर को, या टीचर ने खुद क्लर्क से मिल के जानकारी li कापी के बारे में.
      (0)(0)
      Reply
      1. Md Ali
        Nov 13, 2015 at 5:08 pm
        अब यह ज़िम्मेदारी कौन लेगा टीचर एग्जामिनर या टेबुलेटर ... जोह भी हुआ बहुत ा हुआ ...क्या यह कोई चाल थी या साज़िश थी या पक्षपात था ... सभी पर ज़िम्मेदारी तय होती है
        (2)(0)
        Reply
        1. M
          munawwar ranna
          Nov 14, 2015 at 12:02 pm
          भाईजान हमे लगता है की हिन्दुओ या बीजेपी की चाल है....
          (0)(0)
          Reply
          1. M
            munawwar ranna
            Nov 14, 2015 at 12:01 pm
            मुझे लगता है की बीजेपी जिम्मेदार है...या फिर संघ की भी भूमिका हो सकती है...पोल्य्तेच्निके जैसी बड़ी एग्जाम में ये और कौन कर सकता है....
            (0)(0)
            Reply
            1. K
              kamal
              Nov 14, 2015 at 6:42 pm
              A very sad moment for Adnaan. It's the country who have lost a brilliant student as he was so serious in studies he thought that I can't Gail and that time he would have suffered a lot when he had seen the result and he may be under so serious frustration stress that he thought it's better to die.but the teacher who has checked the paperwork was too poor. that the young boy lost his life.my deep condolence to the family.
              (0)(0)
              Reply
              1. A
                ASHOK MIRG
                Nov 14, 2015 at 5:15 am
                टीचर को इसकी सजा जरूर मिलनी चाइये क्यूंकि उसकी गलती से देश का एक होनहार युवा चला गया .
                (0)(0)
                Reply
                1. N
                  Nasir Baig
                  Nov 14, 2015 at 7:28 pm
                  थिस इस थे प्रॉब्लम व्हेन illiterate हेड थे इंस्टीटूशन और इल्लिटराते हवे तो ऐवलुअट the वर्क ऑफ़ इंटेलेक्टुअल .... इंडिया इस गोइंग तो बे हिन्दू तालिबान इफ इंडिया फॉल इन थे ट्रैप ऑफ़ बीजेपी
                  (0)(0)
                  Reply
                  1. P
                    pawan
                    Nov 14, 2015 at 1:02 pm
                    ये लगता है की देश मैं अशहन-शीलता बहुत बढ़ रही है . इसमें भाजपा समर्थित जम्मू की सैईद सरकार या फिर आरएसएस या कोई हिन्दू संगठन की ओर से की जा रही है . सरकार को कम से कम १०-१५ राष्ट्रीय सम्मान वापसी की उम्मीद रखनी चाहिए . मेडल ओर पुरुस्कारराशि सूद समेत वापस की जाएगी. अरे गलती हो गयी अभी ये कार्यक्रम अस्थगित कर दी गयी है अब ये कार्यक्रम असम ओर बंगाल चुनाव से पहले शुरु की जाएगी.
                    (1)(0)
                    Reply
                    1. A
                      ajeet
                      Nov 14, 2015 at 11:26 am
                      कॉपी जांचने वाले शिक्षक की गलती है इसी प्रकार शिक्षक विद्यार्थियों को प्रताड़ित करते है यह आत्महत्या नहीं हत्या है शिक्षक पर हत्या का मुकदमा चलना चाहिए ताकि दुसरे शिक्षकों को भी सबक मिले जो विदयर्थिओं के प्रति एसी भावना रखते हैं.
                      (0)(0)
                      Reply
                      1. Suresh Rai Chunni
                        Nov 13, 2015 at 10:25 pm
                        शिक्षा व्यक्ति के व्यक्तित्व का सर्वांगिण विकास करती है ऐसे में क्या होगा जब शिक्षा को पेशा और दुश्मनी का माध्यम बना लिया जाएगा!! आज समूचे हिन्दुस्तान की शिक्षा पद्धति हाशिये पर है!!!
                        (0)(0)
                        Reply
                        1. U
                          Umesh Chand
                          Nov 14, 2015 at 10:17 am
                          हमारी मूल्यांकन प्रणाली दोषपूर्ण है। निश्चित ही शिक्षक, कालेज प्रशासन दोषी है सजा मिलनी ही चाहिए।
                          (1)(0)
                          Reply
                          1. V
                            Vinod Saroha
                            Nov 14, 2015 at 7:16 pm
                            नमस्ते, दोषी को सजा दो..
                            (0)(0)
                            Reply
                            1. V
                              vkamdgkma
                              Nov 14, 2015 at 10:40 pm
                              मैक्स. एग्जामिनर उस लेवल होते ही नहीं वो copy चेक करने क liye परमिट कर दिए जाते है.क्या मैटर करता है स्टूडेंट की हर्ड वर्किंग का...उन्हें पैसे क मीटर से लव है...
                              (0)(0)
                              Reply
                              1. V
                                vkamdgkma
                                Nov 14, 2015 at 10:28 pm
                                लोग डेमो मांगते hai न...तुम भी इतनी जल्दी हिम्मत हर गए...यार...मां और पापा क बारे में नहीं थिंक किया...
                                (0)(0)
                                Reply
                                1. Load More Comments
                                सबरंग