December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

…तो क्या जम्मू कश्मीर की वजह से दिल्ली में बढ़ रहा प्रदूषण? WHO की रिपोर्ट ऐसा ही कहती है

दिल्ली और एनसीआर में बढ़ रहे प्रदूषण की एक नई वजह सामने आई है। कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि जम्मू कश्मीर में जंगलों में लग रही आग की वजह से प्रदूषण बढ़ रहा है।

धुंध और प्रदूषण के बीच गुड़गांव की रैपिड मेट्रो की एक तस्वीर। PTI Photo

दिल्ली और एनसीआर में बढ़ रहे प्रदूषण की एक नई वजह सामने आई है। कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि जम्मू कश्मीर में जंगलों में लग रही आग की वजह से प्रदूषण बढ़ रहा है। जम्मू कश्मीर में पिछले एक हफ्ते में तीन जंगलों में आग लग चुकी है। एक्सपर्ट का मानना है कि दिल्ली और एनसीआर में होने वाली धुंध में उसका भी योगदान है। इंडिया टाइम्स की खबर के मुताबिक, उत्तर-पश्चिमी हवाएं धुएं को उड़ाकर दिल्ली की तरफ ले आ रही हैं। जम्मू कश्मीर के जंगलों में लगी आग में लगभग 10 हजार से ज्यादा पेड़ जल चुके हैं। खबर के मुताबिक, पहली आग सबसे बड़े पैमाने की थी। हालांकि, बाद में लगी दोनों जगहों की आग पर जल्द ही काबू पा लिया गया था। वहां के गांववालों ने बताया कि आग को बुझाने के लिए सरकार की तरफ से वक्त पर कदम नहीं उठाए गए थे। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) की रिपोर्ट में कहा गया था कि प्रदूषण के लिए वाहनों से होने वाले उत्सर्जन, फेक्ट्री के धुंए के साथ-साथ जंगलों का भी एक अहम रोल है।

वीडियो: धुंध की वजह से आपस में भिड़े वाहन

दिल्ली में प्रदूषण के स्तर को कम ना होता देख दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को एक मीटिंग भी बुलाई थी। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रदूषण इतना बढ़ गया कि उसको मापने वाला मीटर भी फेल हो गया था। दिल्ली के लगभग 1,800 प्राइमरी स्कूलों को बंद करने का आदेश पहले ही दिया जा चुका है। खबरों की मानें तो प्रदूषण ने पिछले 17 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। दिवाली के बाद राजधानी में इतना धुआं, धूल व कुहासा छाया रहा कि दिन में भी गाड़ियों की हेडलाइट जलानी पड़ी। दिल्‍ली के उपराज्‍यपाल नजीब जंग ने भी हाईलेवल की बैठक बुलाई थी।

दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि पड़ोसी राज्‍यों में फसलें जलाए जाने के कारण प्रदूषण का स्‍तर बढ़ा है। फसलों को जलाए जाने से उठा धुआं एक जगह ठहर गया है। उन्‍होंने फसलों को जलाए जाने से रोकने के लिए किसानों को इंसेंटिव दिए जाने की मांग की थी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 6, 2016 12:56 pm

सबरंग