ताज़ा खबर
 

नोटबंदी के खिलाफ धरने में शामिल नहीं होगी जेडीयू, लालू बोले- ‘ईगो’ के चलते कुछ लोग नहीं ले रहे हिस्‍सा

नोटबंदी के खिलाफ राजद के कार्यकर्ता बुधवार को राज्य के सभी जिला मुख्यालयों पर धरने पर बैठेंगे।
बिहार विधानसभा चुनाव में जीत के बाद नीतीश कुमार और लालू प्रसाद एक-दूसरे से गले मिलते हुए। (FILE PHOTO)

केंद्र सरकार की नोटबंदी के खिलाफ राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के धरना कार्यक्रम में महागठबंधन में शामिल अन्य घटक दलों के शामिल नहीं होने पर राजद अध्यक्ष ने मंगलवार को कहा कि ‘ईगो’ के चलते कुछ लोग उनके धरने में शामिल नहीं होना चाहते हैं। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि इसे महाठबंधन के बिखराव के रूप में नहीं देखना चाहिए। लालू प्रसाद ने धरना कार्यक्रम के एक दिन पूर्व पटना में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि महागठबंधन में हालांकि एकता है। उन्होंने कहा, “नोटबंदी से जनता परेशान है। हमलोगों को कोई उपाय नहीं दिखा तो धरना देने का फैसला किया है। बुधवार को हमारी पार्टी शांतिपूर्ण तरीके से धरना देगी।” लालू ने कहा, “इसके बाद मैं खुद पूरे बिहार में घूमूंगा और जनता को नोटबंदी के खिलाफ एकजुट करूंगा। इसके बाद पटना में विशाल रैली भी करेंगे। इसके लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बात हुई है। कांग्रेस भी नोटबंदी के खिलाफ कार्यक्रम बना रही है।”

लालू ने घोषणा की थी कि नोटबंदी के खिलाफ आरजेडी सभी जिला मुख्‍यालयों पर 28 दिसंबर से जुलूस रैली करेगी। इसके बाद 2017 की शुरुआत में पटना में एक बड़ी रैली भी की जाएगी। नीतीश कुमार से उलट, लालू लगातार नोटबंदी का विरोध करते रहे हैं। राजद के कार्यकर्ता बुधवार को राज्य के सभी जिला मुख्यालयों पर धरने पर बैठेंगे। कांग्रेस और जद (यू) ने इस धरना कार्यक्रम से खुद को अलग कर लिया है।

जेडीयू प्रवक्‍ता नीरज कुमार ने मंगलवार को कहा, ”जेडीयू अध्‍यक्ष और बिहार मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने काले धन के खिलाफ कदम के तौर पर नोटबंदी का समर्थन किया है। वह 50 दिनों के बाद नोटबंदी के प्रभाव की समीक्षा करेंगे। उससे पहले नोटबंदी के किसी तरह के विरोध के समर्थन या उसमें शामिल होने का सवाल हीं नहीं है।”

बिहार कांग्रेस इकाई के अध्‍यक्ष अशोक चौधरी ने कहा कि उनकी पार्टी नोटबंदी के खिलाफ आरजेडी के धरने में हिस्‍सा नहीं लेगी। चौधरी बिहार के शिक्षामंत्री भी हैं, उन्‍होंने कहा, ”नोटबंदी के खिलाफ आरजेडी के धरने को कांग्रेस अपना समर्थन नहीं देगी।”

23 दिसंबर को पत्रकारों से बातचीत में राजद सुप्रीमो ने दावा किया था कि नीतीश 28 दिसम्बर को नोटबंदी के खिलाफ प्रस्तावित पार्टी के महारैली में शिरकत करेंगे।

लालू प्रसाद यादव ने कुछ इस तरह किया हेमा मालिनी के लिए अपने प्यार का इज़हार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. B
    Bharat
    Dec 27, 2016 at 3:38 pm
    लालू जी , नितीश से समर्थन वापस ले लीजिये अयेसे भी आपसे नेक्स्ट इलेक्शन के पहले अलग होकर बीजेपी म सामिल हो जायेंगे , इसलिए उसे बेनकाब अभी कर दीजिये .
    (0)(0)
    Reply
    सबरंग