ताज़ा खबर
 

जिस पुलिस अफसर को गिलानी ने बताया था “कसाई” उसके पिता और भाई पहुंचे माफी मांगने

सैयद अली शाह गिलानी ने पुलिसवाले के परिवार से मिलने से मना कर दिया।
Author श्रीनगर | August 10, 2016 11:42 am
85 वर्षीय अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी ने पुलिस अधिकारी का नाम सार्वजनिक कर दिया था। (पीटीआई फाइल फोटो)

दक्षिणी कश्मीर में “प्रदर्शनकारियों पर पैलेट गन से ” हमले के लिए कश्मीरी अलगाववादी हुर्रियत नेता सैयद अली शाह ने जिस पुलिस अधिकारी का नाम लिया था उसके परिवारवाले गिलानी से माफी मांगने गए थे लेकिन गिलानी ने पुलिस अधिकारी के परिवार से मिलने से इनकार कर दिया।  हुर्रियत के सूत्रों के अनुसार गिलानी ने उनसे कहलवाया कि वो खानबल और अनंतनाग के उन लोगों से माफी मांगे जो उनके बेटे का “निशाना” बने। पुलिस अधिकारी तौसीफ अहमद मीर के पिता और भाई गिलानी के हैदरपुरा स्थित आवास पर सोमवार को गए थे।

छह अगस्त को करीब 40 आम नागरिक जिनमें महिलाएं भी थीं पुलिस द्वारा चलाई गई पैलेट गन से घायल हो गए थे। ये लोग खानबल में निकाली गई “आजादी रैली” में शामिल हो रहे थे। गिलानी ने मीर का नाम लेते हुए उन्हें “कसाई और अपराधी” कहा। हुर्रियत नेता ने अपने बयान में कहा, “उन्होंने  बगैर किसी उकसावे के लोगों पर पैलेट गन चलवाई जिससे दर्जनों घायल हुए जिनमें सात से अधिक महिलाएं भी शामिल थीं।” गिलानी ने आगे कहा, “अपराधियों और कसाइयों को चेतावनी दी जाती है कि उनके जैसों को सजा देने का वक्त आ गया है। हम लोगों को ऐसे लोगों पर सीधे हमला करने से रोक नहीं सकते।”

सूत्रों के अनुसार मीर के पिता और भाई ने गिलानी से कहलवाया कि वो अपने बेटे से पुलिस की नौकरी से इस्तीफा देने के लिए कहेंगे। लेकिन गिलानी उनसे नहीं मिले। वो लोग गिलानी के घर पर करीब एक घंटे रुकने के बाद वापस चले गए। ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी पुलिस अधिकारी के परिवार ने किसी अलगाववादी नेता से “माफी” मांगी हो।

आठ जुलाई को हिज्बुल मुजाहिद्दीन के आतंकी बुरहान वानी के एक मुठभेड़ में मारे जाने के बाद घाटी में हुई हिंसा में अब तक 56 आम नागिरकों की मौत हो चुकी है। करीब 400 लोग घायल हुए हैं. घायलों में ज्यादातर लोग पैलेट गन से घायल हुए हैं।

Read Also: पाकिस्तान ने अपनी ट्रेन ‘आजादी एक्सप्रेस’ पर लगाया बुरहान वानी का पोस्टर

अलगाववादियों के अलावा कश्मीर घाटी के कई हिस्सों में आम लोगों ने पुलिस अधिकारियों का नाम लेकर उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। इससे पहले अलगाववादी और आम लोग बगैर नाम लिए पुलिस की निंदा करते थे।

सोपोर में सड़कों पर ग्राफिटी के माध्यम से पुलिस एसपी हरमीत सिंह और डीएसपी यासिर क़ादरी के घरों के बाहर श्रीनगर के तेंगपुरा में एक नौजवान की हत्या का आरोप लगाया गया है। इन ग्राफिटी में लिखा था, “हरमीत तुम्हारे लिए चेतावनी है, तुम्हारी मौत हमारा मक़सद है।” वहीं यासिर के घर बाहर एक तीर बनाकर उसपर लिखा हुआ था, “यासिर, हत्यारा।”

देखें दिन भर की पांच बड़ी खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग