ताज़ा खबर
 

कश्‍मीर में IS ने लगाए पोस्‍टर, धमकाया- कश्‍मीरी पंडितों, भाग जाओ या मौत के लिए तैयार रहो

जिस इलाके में पोस्टर लगाए गए वो कश्मीरी पंडित बहुल इलाका है।
Author श्रीनगर | August 10, 2016 11:44 am
पुंछ के जिस इलाके में पोस्टर दिखे वो कश्मीर पंडित बहुल इलाका है। (फाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में सोमवार को कश्मीरी पंडितों को धमकी देने वाले पोस्टर देखे गए। अंग्रेजी में लगे इन पोस्टरों पर इन्हें आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) की तरफ से जारी बताया गया है। जिस इलाके में ये पोस्टर लगे थे वह कश्मीरी पंडित बहुल इलाका है। पोस्टर में “पाकिस्तान जिंदाबाद”, “इस्लामिक स्टेट जिंदाबाद” जैसे नारे लिखे हुए थे। पोस्टरों में “सभी कश्मीरी पंडितों को मुहाजिर/आरएसएस का एजेंट” बताते हुए उन्हें “यहां से चले जाने या मौत के लिए तैयार रहने” के लिए कहा गया।

पोस्टरों में कहा गया कि “उन कश्मीरी पंडितों के लिए यहां कोई जगह नहीं है जो कश्मीर में कश्मीरी मुसलमानों को मारने के लिए दूसरा इसराइल बनाना चाहते हैं।” पोस्टरों में कश्मीरी पंडितों को धमकी देते हुए कहा गया, “तुम लोग दोहरी तिहरी अमेरिकी सुरक्षा ले लो लेकिन पुंछ में जानलेवा हमलों के लिए तैयार रहो, तुम लोग मारे जाओगे।”

सीमावर्ती जिले पुंछ में पहली बार “आईएस के पोस्टर” सामने आए हैं। पुंछ मुग़ल रोड के माध्यम से घाटी के शोपियां से जुड़ा हुआ है। सूत्रों के अनुसार पुलिस ने इन पोस्टरों को तत्काल हटवा दिया लेकिन पुंछ के डीएसपी (मुख्यालय) मनमोहन सिंह ने इससे इनकार किया। दूसरी तरफ जम्मू के एसएसपी कार्यालय और अमल उजाला अखबार के स्थानीय संस्करण को “आईएसआईएस” लिखा एक पत्र प्राप्त हुआ जिसमें जम्मू में “कई बम धमाकों” की धमकी दी गई। अंग्रेजी में लिखे इस पत्र में किसी मसूद के दस्तखत थे। इस पत्र में कई स्थानीय स्कूलों, बस अड्डों, रेलवे स्टेशन और बाज़ार के नामों का जिक्र था।

Read Also:पाकिस्तान ने अपनी ट्रेन ‘आजादी एक्सप्रेस’ पर लगाया आतंकी बुरहान वानी का पोस्टर

जम्मू के एसएसपी सुनीत गुप्ता की प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी लेकिन एक पुलिस अफसर ने ऐसा पत्र मिलने की पुष्टि की। पुलिस अधिकारी ने कहा, “हम मामले की जांच कर रहे हैं और हो सकता है हम जल्द ही एफआईआर दर्ज करें।” अधिकारी ने बताया कि पत्र पर लगी डाक मुहर स्पष्ट नहीं है। स्थानीय अधिकारियों ने माना कि जब सुरक्षा बल कश्मीर घाटी में उपजे हालात से निपटने में व्यस्त हैं तो कुछ लोग जम्मू में अव्यवस्था फैलाना चाहते हैं। राज्य के डिप्टी सीएम और बीजेपी नेता निर्मल सिंह ने भी कहा कि स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) से पहले जम्मू का माहौल खराब करने की कोशिश की जा रही है।

सूत्रों के अनुसार हाल ही में डोडा और किश्तवाड़ जिलों में सांप्रदायिक हिंसा फैलाने के प्रयास हुए हैं। डोडा में घाटी में हो रहे विरोध प्रदर्शनों को बहुत कम समर्थन मिल रहा है। लेकिन पिछले हफ्ते स्थानीय मस्जिद में एक नकाबपोश युवक शाम की नमाज के समय दिखा जो लोगों से विरोध प्रदर्शनों में शामिल होने की अपील कर रहा था। उसके अगले ही दिन जुम्मा (शुक्रवार) की नमाज के बाद एक रैली निकली जिसमें भारत-विरोधी और पाकिस्तान-समर्थक नारे लगे। उसी दिन इलाके के हिंदुओं ने भी एक रैली निकाली। समय रहते पुलिस की दखल से कोई अप्रिय स्थित नहीं पैदा हुई।

Read Also: बुरहान वानी के पिता को बेटों की मौत गम नहीं, कहा- भारत के खिलाफ लड़ेगी मेरी बेटी

देखें दिन भर की पांच बड़ी खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग