May 27, 2017

ताज़ा खबर

 

सामने आया सर्जिकल स्ट्राइक से जुड़ा और ब्योरा- 2 जगहों से PoK में घुसे कमांडो और दागने लगे रॉकेट लॉन्चर, इधर MI हेलिकॉप्टर भी था तैयार

वायुसेना के सूत्रों के मुताबिक, एसआई-35 हमलावर हेलीकॉप्टर को पूरी तैयारी के साथ तैयार रखा गया था।

कमांडो ने कंधे पर रखकर 84 एमएम कार्ल गुस्ताव रॉकेट लॉन्चर और ऑटोमेटिक ग्रेनेड लॉन्चर से हमला किया। (फोटो-रायटर्स)

बुधवार की रात पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक में 70 से 80 कमांडो मिशन में शामिल थे। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में सेना के सूत्रों ने बताया कि किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए वायु सेना के हमलावर हेलीकॉप्टर्स जम्मू-कश्मीर के चार बेस पर पूरी तरह से तैयार थे। सूत्र ने बताया कि वहां पारा स्पेशल फोर्सेज की दो अलग-अलग बटालियन को आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करने के लिए लगाया गया था। सैन्य सूत्रों के मुताबिक, 4 पारा स्पेशल फोर्सेज के कमांडो एलओसी पार कर कुपवाड़ा के नौगाम सेक्टर के तुतमारी गली में आधी रात को पहुंचे थे। ठीक उसी समय 9 पारा स्पेशल फोर्सेज के कमांडो पुंछ सेक्टर के बलोनी और नांगी टिकरी पहुंचे थे।

सूत्रों ने बताया कि करीब 1 से 3 किलोमीटर तक पैदल चलने के बाद सुबह करीब 2 बजे ये पारा कमांडो अपने-अपने चिन्हित निशाने के पास पहुंचे और आतंकी ठिकानों को नष्ट करना शुरू कर दिया। इस दौरान कमांडो ने कंधे पर रखकर 84 एमएम कार्ल गुस्ताव रॉकेट लॉन्चर और ऑटोमेटिक ग्रेनेड लॉन्चर से हमला किया। वायुसेना के सूत्रों के मुताबिक, एसआई-35 हमलावर हेलीकॉप्टर को पूरी तैयारी के साथ तैयार रखा गया था।

surgical strike, Pakistan, Pakistan surgical strike, surgical strikes, India pakistan, Pakistan, India, Indian army, india pakistan border, BJP,  indo-pak, Uri attack, Uri, India pakistan border,  Pm Modi, Modi,LOc, PoK, Kupwara, Jammu and kashmir, J&k, Kashmir,  india strikes pakistan, high alert on india, high alert on indian metro cities, uri attack, pathankot attack, india news, latest news

Read Also-अमेरिका के बाद अब ब्रिटेन ने पाकिस्तान को लताड़ा, आतंकी देश घोषित करने की प्रक्रिया शुरु

सर्जिकल स्ट्राइक से पहले सेना ने नियंत्रण रेखा के करीब 250 किलोमीटर की परिधि को सर्विलांस पर एक सप्ताह पहले से ले रखा था। बुधवार की रात सेना 9 बजे से ही एलओसी की सील करना शुरू कर दिया था ताकि पाकिस्तानी सेना का ध्यान भटकाया जा सके। एक दिन पहले ही हेलीकॉप्टर से सेना ने पूरे इलाके की निगरानी कर ली थी। आतंकी ठिकानों को नष्ट करने के बाद लौटने के दौरान एक सैनिक को माइन ब्लास्ट के दौरान हल्की चोट आई। सैन्य सूत्रों ने बताया कि यह चोट दुश्मन के किसी प्रतिरक्षात्मक कार्रवाई में नहीं हुई और सभी कमांडो सुबह 4.30 बजे तक सर्जिकल स्ट्राइक को अंजम देकर भारतीय सीमा में लौट आए थे। सूत्र ने बताया कि इस ऑपरेशन को कोई नाम नहीं दिया गया था, जिसे गुरुवार की सुबह 8 बजे के करीब खत्म कर दिया गया।

सेनाध्यक्ष दलबीर सिंह ने सेना के उत्तरी कमांड के सभी सैन्य अधिकारियों को सफलतापूर्वक सर्जिकल स्ट्राइक करने पर बधाई दी है। रक्षा सूत्रों के मुताबिक नियंत्रण रेखा पर अभी भी हाई अलर्ट है और सेना के जवान किसी भी तरह की कार्रवाई का जवाब देने के लिए तैयार हैं। गौरतलब है कि भारतीय सेना ने बुधवार की रात पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के भिंबेर, केल, लिपा और हॉटस्प्रिंग सेक्टर में आतंकियों के सात ठिकानों को ध्वस्त कर दिया था।

Read Also-सर्जिकल स्ट्राइक से पाकिस्तान में दहशत, POK से भागे 300 आतंकी, PAK सेना के रोकने पर भी नहीं रुके

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 1, 2016 10:57 am

  1. No Comments.

सबरंग