ताज़ा खबर
 

सिडनी कैफे हादसा: बंधकों में इंफोसिस का कर्मचारी भी शामिल

सिडनी के एक कैफे में अज्ञात हथियारबंद व्यक्ति द्वारा बंधक बनाए गए लोगों में इंफोसिस का एक कर्मचारी भी शामिल है। यह जानकारी इंफोसिस ने दी। सिडनी में कैफे के नजदीक स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास सहित कई भवनों को एहतियात के तौर पर खाली करा लिया गया। सरकार ने कहा कि वाणिज्य दूतावास में सभी […]
Author December 15, 2014 18:14 pm
बेंगलुरू स्थित कम्पनी के मुख्यालय ने इस बात की पुष्टि की है। (फोटो: एपी)

सिडनी के एक कैफे में अज्ञात हथियारबंद व्यक्ति द्वारा बंधक बनाए गए लोगों में इंफोसिस का एक कर्मचारी भी शामिल है। यह जानकारी इंफोसिस ने दी। सिडनी में कैफे के नजदीक स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास सहित कई भवनों को एहतियात के तौर पर खाली करा लिया गया।

सरकार ने कहा कि वाणिज्य दूतावास में सभी भारतीय कर्मचारी सुरक्षित हैं। वाणिज्य दूतावास लिंट कैफे से करीब 300-400 मीटर की दूरी पर है जहां हथियारबंद व्यक्ति ने कई लोगों को बंधक बना रखा है।

इंफोसिस ने बयान जारी कर कहा कि सिडनी में इसका एक कर्मचारी बंधकों में शामिल है और कर्मचारी के परिवार को इस बारे में सूचित कर दिया गया है। बेंगलुरू स्थित कम्पनी के मुख्यालय ने बताया, ‘‘हम पुष्टि कर सकते हैं कि सिडनी में लिंट कैफे में बंधक बनाए गए लोगों में इंफोसिस का एक कर्मचारी शामिल है।’’

बंधक संकट शुरू होते ही विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कैनबरा में भारतीय राजदूत से बात की। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने कहा, ‘‘स्थानीय जरूरतों के मुताबिक एहतियात के तौर पर सिडनी वाणिज्य दूतावास भवन से हमने कर्मचारियों को निकाल लिया है क्योंकि यह घटनास्थल से करीब 300-400 मीटर की दूरी पर स्थित है।’’

सिडनी में महावाणिज्य दूत संजय सुधीर ने पीटीआई को बताया कि सुरक्षा को देखते हुए वाणिज्य दूतावास को बंद कर दिया गया है और सभी अधिकारियों को सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा गया है।

कैफे जिस सेंट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट में स्थित है वहां भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा और भारतीय पर्यटन कार्यालय सहित कई भारतीय संस्थान स्थित हैं।
इंफोसिस ने बयान जारी कर बताया, ‘‘हम शहर में अपने अन्य कर्मचारियों के स्थानों का पता लगा रहे हैं। हम स्थानीय अधिकारियों और सिडनी में भारतीय वाणिज्य दूतावास के लगातार संपर्क में हैं ताकि वास्तविक स्थिति की जानकारी मिल सके।’’

मार्टिन प्लेस स्थित कैफे सिडनी के बिजनेस डिस्ट्रिक्ट के मध्य में स्थित है। न्यू साउथ वेल्स (एनएसडब्ल्यू) पुलिस ने टास्क फोर्स पायनियर को सक्रिय कर दिया है जिसका इस्तेमाल वे आतंकवाद से संबंधित घटनाओं में करते हैं।

बंधक बनाए जाने के पांच घंटे बाद एक महिला सहित पांच लोग कैफे से बाहर भागते दिखे। दो लोग सामने के दरवाजे से बाहर आए और एक आग लगने के समय इस्तेमाल होने वाले आकस्मिक दरवाजे से बाहर आया। यह पता नहीं चला है कि वे मुक्त कराए गए अथवा भाग निकले।

बंधकों में भारतीय इंजीनियर के शामिल होने के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने केवल इतना कहा कि सिडनी में स्थानीय अधिकारी भारतीय वाणिज्य दूतावास को सूचना मुहैया करा रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘वे हमारे साथ सूचना साझा कर रहे हैं जिसे हम संबंधित लोगों तक तुरंत पहुंचा रहे हैं। मेरा मानना है कि हमें राष्ट्रीयता, पासपोर्ट और उस प्रकृति के मुद्दों के बारे में बताना उपयुक्त नहीं होगा।’’

उन्होंने कहा कि भारतीय वाणिज्य दूतावास ने हेल्पलाइन संख्या प्लस 61481453550 बनाया है और उप महावाणिज्य दूत इस पर उपलब्ध होंगे। टेलीविजन फुटेज में दिखा कि कैफे के अंदर लोग खिड़कियों पर हाथ रखे हुए हैं और उनके हाथ में काला झंडा है जिस पर अरबी में लिखा हुआ है और माना जाता है कि इस पर शाहदाह लिखा है जो मस्जिदों में रोजाना होने वाली एक प्रार्थना है। खबरों में बताया गया है कि झंडा विशेष रूप से इस्लामिक स्टेट का प्रतीत नहीं हो रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग