ताज़ा खबर
 

ट्रेनों में लगेंगे इकॉनमी एसी कोच: किराया होगा कम, तापमान ज्यादा, बिना कंबल के करना होगा सफर

भारतीय रेलवे एक बार फिर से यात्रियों को बेहतर सुविधाएं देने जा रहा है।
प्रतीकात्मक फोटो। (फाइल)

भारतीय रेलवे एक बार फिर से यात्रियों को बेहतर सुविधाएं देने जा रहा है। ट्रेनों से यात्रा करने वाले यात्रियों को जल्द ही ‘‘इकोनॉमी एसी कोच’’ की एक नयी श्रेणी में यात्रा करने का विकल्प मिलेगा और इस कोच के लिए किराया काफी कम होगा। नई एसी कोचिस का किराया किसी नॉर्मल थर्ड एसी की तुलना में काफी कम होने की उम्मीद है। रेलवे अपनी ट्रांस्फॉर्मेशन एक्सर्साइज के जरिए यह नई कोचिस बनाने जा रहा है। वहीं खबरों के मुताबिक इन कोचिस में कंबल की सुविधा नहीं होगी क्योंकि इनमें तापमान को 24-25 डिग्री सेल्सियस पर रखा जाएगा। बता दें अभी तक मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में स्लीपर कोचिस के साथ-साथ थर्ड एसी, सेकेंड एसी और फर्स्ट एसी की सुविधा मिलती है। ऐसे में ट्रेनों में इकॉनमी एसी कोचिस से जल्द ही कई यात्री एसी सफर का लाभ सस्ते दामों पर ले सकेंगे। वहीं राजधानी, शताब्दी और हाल ही में शुरू की गईं हमसफर एवं तेजस ट्रेनें पूरी तरह से वातानुकूलित हैं।

पीटीआई की खबर के मुताबिक एक वरिष्ठ रेलवे अधिकारी ने इन इकॉनमी कोचिस के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा, “अन्य एसी कोचिस की तरह इनमें तापमान को बहुत ज्यादा कम नहीं रखा जाएगा। इन इकॉनमी कोचिस में तापमान को 24-25 डिग्री के आसपास रखा जाएगा। यात्रियों को गर्मी न महसूस हो औक उनकी यात्रा सहज रहे, इस उद्देशय से नई कोचिस को बनाया जाएगा।” वहीं अधिकारी ने यह भी बताया कि इकोनॉमी एसी डिब्बों के निर्माण का फैसला करने से पहले इनके ब्यौरों पर काम किया जाना है। रेलवे के कायाकल्प के हिस्से के तौर पर प्रस्तावित पूर्ण वातानुकूलित ट्रेन में एसी 3, एसी 2 और एसी 1 क्लास के अलावा थ्री टायर ‘इकोनॉमी एसी कोच’ को भी अब जोड़ा जाएगा।

वहीं नई कोच में और भी कई सुविधाएं होंगी। इनमें स्वचालित दरवाजे होंगे। रेलवे का इरादा है कि कुछ चयनित मार्गों पर पूर्ण वातानुकूलित ट्रेनें चलाई जा सकें ताकि अधिकतम यात्रियों को यात्रा के दौरान एसी की सुविधा मिल सके। इस पूरी कवायद का उद्देश्य ट्रेनों और स्टेशनों में वर्तमान सुविधाओं को अधिक उन्नत कर सेवा में बदलाव करना है। रेलवे ने इसके लिए एक अलग प्रकोष्ठ बनाया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग