ताज़ा खबर
 

रेलवे ने ट्रेनों में सोने का समय बदला, अब एक घंटा कम सो पाएंगे रेल यात्री

Indian Railway: अपर बर्थ वाला व्यक्ति रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक नीचे वाली बर्थ पर बैठने के लिए अपना दावा नहीं कर सकता है।
ट्रेन में सोने को लेकर यात्रियों के फीडबैक को देखते हुए इसमें बदलाव किया गया है। सोने के लिए पहले से ही एक नियम था।

रेलवे ने सर्कुलर जारी कर ट्रेन में यात्रा के दौरान सोने का नियम बदल दिया है। पुराने नियम के मुताबिक यात्री रात 9 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक ट्रेन में अपनी बर्थ पर सो सकते थे, लेकिन अब इस टाइम में 1 घंटे की कटौती कर दी गई है। नए नियम के मुताबिक अब यात्री रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक ही सो सकते हैं। नया नियम उन सभी ट्रेनों में लागू होगा जिनमें सोने की सुविधा उपलब्ध है। रेल मंत्रालय के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने बताया कि ट्रेन में सोने को लेकर यात्रियों के फीडबैक को देखते हुए इसमें बदलाव किया गया है। सोने के लिए पहले से ही एक नियम था। हम इसे स्पष्ट करना चाहते हैं और यह सुनिश्चित करना है कि इसका पालन किया जाए। सर्कुलर में यह भी स्पष्ट किया गया है कि अपर बर्थ वाला व्यक्ति रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक नीचे वाली बर्थ पर बैठने के लिए अपना दावा नहीं कर सकता है।

इपेलेटर: IRCTC ने तत्काल टिकट के लिए पेमेंट की नई सुविधा ePaylater (ईपेलेटर) के साथ मिलकर शुरू की है। इसमें टिकट बुक करने के बाद आपको बाद में पेमेंट करने की सुविधा मिलती है। इसके अलावा पे ऑन डिलीवरी की सुविधा भी है। ईपेलेटर के तहत टिकट बुक करने के बाद पेमेंट करने के लिए 14 दिन का समय मिलता है। इसके तहत टिकट बुक करने में भी चंद सेकेंड का समय लगेगा।

ईपेलेटर के तहत टिकट वैसे ही बुक करना होता है जैसे टिकट बुक करते हैं। बस जब आप पेमेंट के विकल्प पर आएं तब ईपेलेटर का विकल्प चुनें। पेमेंट के लिए अगर आप ईपेलेटर का विकल्प चुनेंगे तो आपको ईमेल और एसएमएस के जरिए एक पेमेंट का लिंक आएगा। और आपका टिकट बुक हो जाएगा। अगर आप पहली बार ईपेलेटर का इस्तेमाल कर रहे हैं तो पहले आपको रजिस्टर करना पड़ेगा। रजिस्टर करने के दौरान यूजर को पैन/आधार नंबर के साथ अपनी जानकारी प्रविष्ट करनी होती हैं। इसके बाद 14 दिन में कभी भी इस लिंक के माध्यम से पेमेंट कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. C
    C M
    Sep 21, 2017 at 7:03 pm
    Decision of rail minister regarding meal is good .let us wait for compliance
    (0)(0)
    Reply
    1. Shashi Kumar
      Sep 18, 2017 at 10:34 am
      यह गलत बात है. आम तौर पर रिज़र्व का मतलब है आराम से यात्रा. दिन में तो डेली यात्री रिज़र्व डिब्बे में घुस आते हैं ही, अब रात को आराम ही नहीं करने देंगे. ऐसे करो रिज़र्व की क्लास को डेली पैसेंजर्स के लिए ही बुक कर दो. जिससे आप की दुविधा भी ख़त्म और टी टी भी खूब कमाई कर सकेंगे.
      (1)(0)
      Reply