ताज़ा खबर
 

बेटियों को आगे बढ़ाकर ही गांवों को समृद्ध बनाया जा सकता है: प्रणब

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि अगर हमें गांवों को समृद्ध करना है तो हमारी माताओं, बहनों और बेटियों को आगे बढ़ाना होगा। हमें उनके स्वास्थ्य, शिक्षा और रोजगार का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है।
Author गुरुग्राम | June 3, 2017 01:04 am
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि अगर हमें गांवों को समृद्ध करना है तो हमारी माताओं, बहनों और बेटियों को आगे बढ़ाना होगा। हमें उनके स्वास्थ्य, शिक्षा और रोजगार का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि अगर हमें गांवों को समृद्ध करना है तो हमारी माताओं, बहनों और बेटियों को आगे बढ़ाना होगा। हमें उनके स्वास्थ्य, शिक्षा और रोजगार का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। ऐसा करने के लिए हम सभी को साथ मिलकर काम करना होगा। मुखर्जी शुक्रवार को गुरुग्राम जिला के गांव दौला में स्मार्ट ग्राम पहल के तीन करोड़ रुपए की लागत से तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) की ओर से बनाए जाने वाले उच्चतर माध्यमिक विद्यालय और राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के चालक प्रशिक्षण संस्थान (डीटीआइ) के शिलान्यास के मौके पर बोल रहे थे। इसके साथ ही राष्ट्रपति ने महेंद्रगढ़, पलवल तथा अंबाला जिलों में प्रधानमंत्री कौशल विकास केंद्रों का ई-उद्घाटन किया। उन्होंने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के प्रशिक्षुओं और विद्यार्थियों को सम्मानित भी किया।

मुखर्जी ने कहा कि देश का विकास तभी होगा जब हमारे गांव विकसित होंगे। आज भी देश के लगभग 68 फीसद लोग गांवों में रहते हैं। कृषि और कृषि से जुड़े क्षेत्रों का हमारे देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में योगदान करीब 15 फीसद है। अगर हमें गांवों को खुशहाल बनाना है तो आर्थिक ढांचे को सुधारना पड़ेगा। उन्होंने स्मार्ट ग्राम पहल की चर्चा करते हुए कहा कि इसकी शुरुआत 2 जुलाई, 2016 को हुई थी, तब उन्हें विश्वास था कि जो काम राष्ट्रपति भवन को स्मार्ट बनाने के लिए किए गए हैं, वे गांवों में भी किए जा सकते हैं। हरियाणा सरकार की मदद से हमने 5 गांवों का चयन किया और इन गांवों में विकास के बहुत से कामों की शुरुआत हुई। इस कार्यक्रम की सफलता को देखते हुए अब इसे 100 गांवों तक बढ़ा दिया गया है। स्मार्ट ग्राम का मतलब है, एक ऐसा गांव जिसमें सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध हों और जहां खुशी और खुशहाली दोनों हों। यह तभी संभव है जब सरकार, निजी क्षेत्र, सार्वजनिक संस्थाएं, एनजीओ और गांववासी एकजुट होकर गांव के विकास के लिए काम करें।

इस मौके पर हरियाणा के राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि 21वीं शताब्दी में देश जिस दिशा में आगे बढ़ना चाहिए उस दिशा में भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का सपना था कि देश स्वच्छता की दिशा में आगे बढ़ाया जाए व सभी को समान अवसर दिए जाएं तथा हर व्यक्ति को यह महसूस हो कि देश उसकी चिंता कर रहा है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय की अंत्योदय योजना का सार यही था कि देश के अंतिम व्यक्ति को हर सुविधा मिले और उसको पूर्ण अधिकार दिए जाएं। इस वर्ष को हम गुरु गोबिंद सिंह की 350वीं जयंती के रूप में मना रहे हैं जिनका मकसद देश में राष्ट्रभावना जागृत करना था।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रदेश में चल रहे विकास कार्यों की जानकारी दी। केंद्रीय योजना, आवास व शहरी गरीबी उपशमन राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने कहा कि रैनीवेल योजना के तहत मेवात व आस-पास के क्षेत्र के 23 गांवों में पेयजल आपूर्ति के लिए 32 करोड़ रुपए की योजना बनाई गई है। केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमशीलता राज्यमंत्री राजीव प्रताप रूड़ी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश के युवाओं की चिंता करते हुए उनके कौशल विकास के लिए ढाई वर्ष पहले नया कौशल विकास मंत्रालय बनाया। इस मौके पर केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री धर्मेंद्र प्रधान, राष्ट्रपति की सचिव ओमिता पॉल और हरियाणा के मुख्य सचिव डीएस ढेसी सहित कई गणमान्य मौजूद थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग