ताज़ा खबर
 

जाधव को फांसी पर राम जेठमलानी ने कहा, फैसले की कॉपी लीजिए, क्‍या पता मूर्खतापूर्ण सबूतों पर उसे दोषी ठहरा दिया हो

प्रख्यात वकील राम जेठमलानी ने कहा कि भारत को पाकिस्तान से नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को सुनायी गयी मौत की सजा के फैसले की प्रति जरूर लेनी चाहिये...
Author नई दिल्ली | April 12, 2017 18:29 pm
प्रख्यात वकील राम जेठमलानी

प्रख्यात वकील राम जेठमलानी ने कहा कि भारत को पाकिस्तान से नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को सुनायी गयी मौत की सजा के फैसले की प्रति जरूर लेनी चाहिये जिससे यह पता चल सके कि जाधव को किस आधार पर मौत की सजा दी गयी। उन्होंने कहा, ‘‘हम यह जानना चाहते हैं कि क्या सजा सही है, सही से आशय है कि उसे दोषी ठहराया जाना सही है या नहीं और फिर सवाल यह उठता है कि उसके लिये कैसी सजा का प्रावधान है।’ उन्होंने कहा, ‘‘मान लीजिये उसे मूर्खतापूर्ण साक्ष्यों पर दोषी ठहराया गया हो तो भारत के लिये ज्यादा मजबूत मामला बनता है।’

यहां इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में ‘‘भारत-पाक रिश्तों में सुधार’’ विषय पर आयोजित एक सम्मेलन से इतर बोलते हुये आपराधिक मामलों के वरिष्ठ वकील ने यह बातें कहीं। इस सम्मेलन में पाकिस्तानी उच्चायुक्त अब्दुल बासित, पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद महमूद कसूरी और वरिष्ठ कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर भी शामिल हुये।  सम्मेलन के समापन के मौके पर कल रात उस समय थोड़ी अफरातफरी मच गयी जब मीडिया के कुछ सदस्यों ने बासित और कसूरी को घेरकर उन पर सवालों की बौछार की दी। नौसेना के पूर्व अधिकारी 46 वर्षीय जाधव को कथित तौर पर ‘‘जासूसी और विध्वंसक’’ गतिविधियों के आरोप में पाकिस्तानी सैन्य अदालत द्वारा मौत की सजा सुनाये जाने को लेकर भारत में काफी नाराजगी है और इसी के मद्देनजर पत्रकारों ने सवालों के लिये उन्हें घेरा था।

जेठमलानी ने कहा, ‘‘हर तरफ से प्रतिक्रियाएं आ रही हैं और मीडिया भी इसपर कड़ी प्रतिक्रिया दे रहा है। लेकिन सबसे पहले हमें यह जरूर जानना चाहिये कि उसे किस साक्ष्य के आधार पर सजा दी गयी। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे यह पढ़ना चाहिये कि आरोप क्या हैं और साक्ष्य क्या हैं जिनपर उन्होंने :पाकिस्तान: कार्रवाई की और मौत की यह सजा क्यों है। जहां तक मैं देख सकता हूं मौत की सजा सिर्फ उन्हीं मामलों में न्यायोचित है जिसमें आप और गंभीर अपराध के बारे में सोच नहीं सकते, यह कानून है। ’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग