ताज़ा खबर
 

आर्मी चीफ बिपिन रावत ने पाक को चेताया- सबक सिखाने को सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा भी कई तरीके, सिर इकट्ठा करने का शौक नहीं हमें

रावत ने कहा कि भारतीय सेना कश्मीरी युवाओं तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। लोगों को कई तरह की गलत सूचनाएं दी गई है। 12-13 साल के लड़के कहते हैं कि वह बॉम्बर बनना चाहते हैं।
Author नई दिल्ली | June 28, 2017 12:02 pm
आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत। (PTI Photo by Manvender Vashist)

इंडियन आर्मी के चीफ जनरल बिपिन रावत ने पड़ोसी मुल्क की नापाक करतूतों को लेकर कहा कि पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए भारत के पास सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा कई प्रभावी विकल्प है। हिंदुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) की ओर से दो भारतीय सैनिकों की हत्या और उनके शवों के साथ बर्बरता करने को लेकर आर्मी चीफ ने कहा, “पाकिस्तान का यह मानना है कि यह एक आसान युद्ध है जो उन्हें लाभांश दे रहा है, लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा भी हमारे पास और रास्ते हैं जो कि ज्यादा प्रभावी है। हमारी सेना बर्बरा नहीं है। हमें सिर इकट्ठा करने का शौक नहीं है क्योंकि वह एक सभ्य फौज है।

हिज़बुल मुजाहिद्दीन के प्रमुख सैयद सलाउद्दीन को वैश्विक आतंकवादी ठहराने जाने को लेकर रावत ने कहा कि हम इतजार करेंगे और देखेंगे कि पाकिस्तान वास्तव में उस लगाम लगाता है या नहीं। घाटी में भड़की हिंसा और विरोध प्रदर्शन को लेकर अलगाववादियों से बातचीत किए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बातचीत तब होती है जब शांति हो। आर्मी सिर्फ अपना काम कर रही है। हम शांति वापस लाने की कोशिश कर रहे हैं। मैं ऐसे व्यक्ति से बात करूंगा जो मुझे आश्वस्त करे कि मेरे काफिले पर हमला नहीं किया जाएगा। जिस दिन ऐसा होगा, मैं खुद बातचीत करूंगा।

रावत ने कहा कि भारतीय सेना कश्मीरी युवाओं तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। लोगों को कई तरह की गलत सूचनाएं दी गई है। 12-13 साल के लड़के कहते हैं कि वह बॉम्बर बनना चाहते हैं। हम युवा नेताओं की पहचान कर रहे हैं जिनसे हम बात कर सकें। उन्होंने कहा, “मैं चाहता हूं कि लोग हिंसा छोड़ दें। हम नहीं चाहते कि क्रॉस फायर में बेगुनाह पकड़े जाए। हमें कोई भी अतिरिक्त मुकसान नहीं चाहिए।” रावत ने एक बार फिर मानव ढाल बनाने वाले मेजर गोगोई का बचाव करते हुए कहा कि चुनाव आयोग ने मदद के लिए बुलाया गया था। क्या होता अगर उन्हें मार दिया जाता? उन्होंने कहा कि मैं मैदान में नहीं था। मुझे नहीं पता कि मेरे लड़के कैसे इससे गुजरे, लेकिन मुझे प्रेरक बनना होगा।

बता दें कि 1 मई को पाकिस्तानी आर्मी ने एलओसी पार करते हुए भारतीय सीमा में 250 मीटर तक अंदर घुसकर आर्मी और बीएसएफ की पेट्रोल पार्टी पर हमला किया था। इस हमले में हमारे दो जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम ने हमारे दो जवानों के शवों के साथ बर्बरता की थी। जिसके बाद सेना ने इसका बदला लेते हुए पाकिस्तान की दो चौकियों को तबाह कर दिया था। ये वहीं चौकियां थी, जहां से आतंकी भारत में घुसपैठ करते थे।

चीन ने दिया धमकी, सिक्किम बॉर्डर से हटाओ सेना नहीं तो रोक देंगे मानसरोवर यात्रा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. J
    jameel shafakhana
    Jun 28, 2017 at 1:59 pm
    LING CHHOTA, DHEELA OR TEDHA HA TO AAJMAIYE YE NUSKHA NILL SHUKRANUO KA GUARANTEE KE SATH SAFAL AYURVEDIC TREATMENT LING ME UTTEJNA ATE HI NIKAL JATA HAI TO KHAYEN YE NUSKHA : jameelshafakhana
    (0)(0)
    Reply